loader

'आप' को ईडी का नोटिस, केजरीवाल ने कहा-इससे हम और मजबूत होंगे

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने पार्टी के राष्ट्रीय सचिव को एनफ़ोर्समेंट डाइरेक्टरेट से नोटिस मिलने पर केंद्र सरकार की आलोचना की है। 

एनफ़ोर्समेंट डाइरेक्टरेट यानी ईडी ने पंकज गुप्ता को नोटिस भेज कर तलब किया है और 22 सितंबर को निदेशालय के दफ़्तर में मौजूद रहने को कहा है।

उन्हें पार्टी के पूर्व नेता सुखपाल सिंह खैरा से जुड़े एक मनी लॉन्डरिंग केस में तलब किया है। खैरा अब कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। 

ख़ास ख़बरें

मनी लॉन्डरिंग केस

ईडी ने खैरा के ख़िलाफ़ नशीले पदार्थों की तस्करी और नकली पासपोर्ट से जुड़े दो एफ़आईआर के मामले में संज्ञान लेकर गुप्ता को तलब किया है।

एनफ़ोर्समेंट डाइरेक्टरेट का कहना है कि खैरा ने आम आदमी पार्टी के लिए अमेरिका से एक लाख डॉलर का चंदा जुटाया था।

खैरा ने तमाम आरोपों से इनकार किया है। 

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि बीजेपी विपक्षी दलों को परेशान करने के लिए केंद्रीय एजेन्सियों का बेजा इस्तेमाल करती रही है। पर आम आदमी पार्टी के ख़िलाफ़ ऐसा करने से पार्टी और मजबूत ही होगी।

उन्होंने कहा,

बीजेपी ने दिल्ली में हमें आयकर विभाग, सीबीआई और पुलिस की मदद से हराने की कोशिश की। हम पंजाब, गोवा, उत्तराखंड और गुजरात में मजबूत हो कर उभरे हैं तो ईडी नोटिस मिल गया।


अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री, दिल्ली

बीजेपी का 'प्रेम पत्र'

उन्होंने इसके आगे कहा कि "देश की जनता ईमानदार राजनीति चाहती है और इस तरह की घपलेबाजी कामयाब नहीं होगी।" 

इसके पहले पार्टी के प्रवक्ता राघव चोपड़ा ने कहा था कि उन्हें उनकी प्रिय केंद्रीय एजेन्सी से 'प्रेम पत्र' मिल गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि 'बीजेपी चुनाव में उन्हें हराने में नाकाम रहने के बाद अब चरित्र हनन कर रही है।'

राघव चोपड़ा के पहले शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत ने भी इसी तरह का तंज किया था। उसके भी पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी केंद्रीय एजेन्सियों के इस्तेमाल पर बीजेपी की आलोचना की थी। 

उसके भी पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता व पूर्व कृषि मंत्री शरद पवार और जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने भी इस मुद्दे पर सरकार की खिंचाई की थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें