loader

बीजेपी से सीट बँटवारे पर सहमति नहीं, अकाली दल नहीं लड़ेगा दिल्ली चुनाव

केंद्र सरकार में एनडीए का सहयोगी शिरोमणी अकाली दल अब बीजेपी के साथ दिल्ली का चुनाव नहीं लड़ेगा। पहले नागरिकता क़ानून व एनआरसी पर खटपट और फिर चुनाव में सीटों के बँटवारे पर सहमति नहीं बन पाने के बाद अकाली दल ने चुनाव नहीं लड़ने की बात की पुष्टि की। कहा जा रहा है कि दोनों दलों के बीच इस पर भी विवाद था कि बीजेपी चाहती थी कि अकाली दल के नेता बीजेपी के चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ें। 2015 में भी अकाली दल के चार में से दो उम्मीदवार उसी फ़ॉर्मूले पर चुनाव लड़े थे। तब आम आदमी पार्टी ने चुनाव में ज़बरदस्त प्रदर्शन करते हुए 67 सीटें जीती थीं और अकाली दल एक भी सीट नहीं जीत पाया था।

ताज़ा ख़बरें
हालाँकि, चुनाव में सीट बँटवारे की बात नहीं बनने की बात से ज़्यादा अकाली दल इस पर ज़ोर देत रही है कि नागरिकता क़ानून को लेकर दोनों दलों के बीच में खटपट है। इससे पहले शिरोमणि अकाली दल के प्रवक्ता दलजीत सिंह चीमा ने भी दिन में कहा था कि उनके दल का नागरिकता संशोधन क़ानून यानी सीएए पर जो रुख है उससे बीजेपी खफ़ा हो गई है और उसने निर्णय किया कि दिल्ली चुनाव में गठबंधन नहीं होगा।

बता दें कि जब पंजाब की विधानसभा में विवादास्पद नागरिकता संशोधन क़ानून को रद्द करने वाला प्रस्ताव पास किया गया था तब इस प्रस्ताव का बीजेपी के सहयोगी शिरोमणि अकाली दल ने भी समर्थन किया था। अकाली दल वही दल है जिसने संसद में नागरिकता संशोधन विधेयक का समर्थन किया था। प्रस्ताव का समर्थन करते हुए अकाली दल के नेता बिक्रम मजीठिया ने कहा था, 'यदि लोगों को लाइन में खड़ा होना पड़े और यह साबित करना पड़े कि उनका जन्म कहाँ हुआ था तो हम ऐसे किसी क़ानून के ख़िलाफ़ हैं।'

दिल्ली से और ख़बरें
जो बात पंजाब सरकार के प्रस्ताव में कही गई है वही बात अकाली दल भी कहता रहा है। प्रस्ताव में कहा गया है कि नागरिकता क़ानून संविधान के अनुच्छेद 14 का भी उल्लंघन है, जो सभी व्यक्तियों को क़ानूनों की समानता और समान सुरक्षा के अधिकार की गारंटी देता है। अकाली दल ने भी आज यही कहा कि वह ऐसे क़ानून का समर्थन नहीं करेगा जो धर्म और जाति के आधार पर बाँटता हो। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें