loader

केजरीवाल की बेटी ने पूछा - क्या बच्चों को पढ़ाना आतंकवाद है?

दिल्ली के विधानसभा चुनाव में नेताओं की विषैली जुबान का असर परिवारों तक पहुंचने लगा है। दिल्ली की जनता के द्वारा चुनकर विधानसभा में भेजे गये विधायकों द्वारा निर्वाचित मुख्यमंत्री को आतंकवादी कहा जाएगा तो क्या यह उसके परिवार को नहीं अखरेगा। आम लोगों की तो इसे लेकर लगातार प्रतिक्रियाएं आ ही रही हैं। बात हो रही है, दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल की। 

दिल्ली विधानसभा के चुनाव प्रचार में पहले पश्चिमी दिल्ली के बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा ने केजरीवाल को आतंकवादी कहा और उसके बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि केजरीवाल के आतंकवादी होने के बहुत सबूत हैं। इस पर केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल ने बीजेपी नेताओं की आलोचना की है और कहा है कि लोग उन्हें मुंहतोड़ जवाब देंगे। 

हर्षिता ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा, ‘वे कहते हैं कि राजनीति गंदी है लेकिन यह गंदी राजनीति का नया स्तर है।’ हर्षिता ने सवाल पूछा, ‘क्या स्वास्थ्य सुविधाएं फ़्री करना आतंकवाद है, क्या बच्चों को पढ़ाना आतंकवाद है? क्या लोगों के लिये बिजली और पानी उपलब्ध कराना आतंकवाद है?’

जनता पर छोड़ा फ़ैसला: केजरीवाल

बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा ने कुछ दिन पहले दिल्ली में एक चुनावी जनसभा में कहा था, ‘दिल्ली में कई नटवरलाल और केजरीवाल जैसे आतंकवादी छुपे बैठे हैं। मुझे नहीं समझ आ रहा कि हमें कश्मीर के आतंकवादियों से लड़ना चाहिए या दिल्ली में केजरीवाल जैसे आतंकवादियों से।’ 
ताज़ा ख़बरें
वर्मा के इस बयान पर अरविंद केजरीवाल ने पलटवार करते हुए कहा था कि वह यह निर्णय दिल्ली के लोगों के ऊपर छोड़ते हैं कि वे उन्हें अपना बेटा मानते हैं, भाई मानते हैं या फिर आतंकवादी। इसके बाद चुनाव आयोग ने वर्मा के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की थी और 96 घंटे के लिये चुनाव प्रचार करने पर रोक लगा दी थी। 
केजरीवाल की बेटी हर्षिता ने न्यूज़ चैनल ‘आज तक’ से कहा कि अगर किसी के पिता दिन-रात मेहनत करें और उन्हें आतंकवादी कहा जाए तो उसे कैसा लगेगा।

सुनीता और हर्षिता ने कहा, ‘उन्हें (बीजेपी नेताओं को) आरोप लगाने दीजिये, उन्हें 200 सांसद और 11 मुख्यमंत्री लाने दीजिए। केवल हम नहीं, 2 करोड़ आम लोग भी आम आदमी पार्टी के लिये प्रचार कर रहे हैं। वे उन्हें 11 फ़रवरी को दिखा देंगे कि वे आरोपों के आधार पर वोट देते हैं या काम के आधार पर।’ हर्षिता ने बातचीत में यह भी कहा कि जब वह छोटी थीं तो उनके पिता उन्हें भगवद्गीता पढ़ाते थे।

सुनीता केजरीवाल ने कहा, ‘मुझे लगता है कि लोग उन्हें (बीजेपी नेताओं) मुंहतोड़ जवाब देंगे। हमारी शादी को 25 साल हो गये हैं। वह (अरविंद) हमेशा कहते हैं कि समाजसेवा उनका जूनून है। जो लोग अभी कुछ भी बोल रहे हैं वे भी जानते हैं कि वे झूठ बोल रहे हैं। या तो वे किसी दबाव में हैं या उनके पास ख़ुद की कोई पहचान नहीं है।’ 

दिल्ली से और ख़बरें
सुनीता ने कहा कि यह देखकर बेहद दुख होता है कि ये आरोप ऐसे व्यक्ति पर लगाये जा रहे हैं जो बहुत मेहनत कर रहा है। उन्होंने कहा कि लोग देख रहे हैं कि हम पर किस तरह के आरोप लगाये जा रहे हैं लेकिन उन्होंने हमें भरोसा दिलाया है कि वे ‘झाड़ू’ को ही वोट देंगे। ‘झाड़ू’ आम आदमी पार्टी का चुनाव निशान है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें