loader

दिल्ली दंगों की चार्जशीट में बीजेपी नेता का भी नाम! 

दिल्ली दंगों में तमाम आरोपों के बीच नये ख़ुलासे हो रहे हैं। अब दंगों के मामले में दाखिल एक चार्जशीट में भारतीय जनता पार्टी के एक नेता का भी नाम आया है। एक शख्स को मारने गई भीड़ का नेतृत्व करने वाला यह नेता फ़िलहाल जेल में है।
पुलिस ने उसके ख़िलाफ़ 23 जून को चार्जशीट दाखिल की है। इस नेता का नाम बृजमोहन शर्मा उर्फ गब्बर है। गिरफ़्तारी के समय तक वह ब्रह्म पुरी बीजेपी का महासचिव था।
दिल्ली से और खबरें

कबूलनामा

इन नेताजी के क़रीबियों और परिजनों के मुताबिक़, पुलिस ने इन्हें ज़बरदस्ती फँसा दिया है। लेकिन पुलिस सूत्रों के मुताबिक़, उनके पास मारे गए इरफ़ान नामक युवक की माँ का मजिस्ट्रेट के सामने दिया गया बयान और ख़ुद नेताजी का इस बारे में दिया गया क़बूलनामा, दोनों हैं।
BJP Leader name in Delhi riot chargesheet - Satya Hindi
बृजमोहन शर्मा, बीजेपी नेता, बीजेपी

क्या है मामला?

23 जून को इरफ़ान हत्याकांड के मामले में दाखिल दिल्ली पुलिस की चार्जशीट के मुताबिक़, बृजमोहन शर्मा ने 25 साल के युवक इरफ़ान की हत्या करने वाली भीड़ का नेतृत्व किया था। पुलिस सूत्रों के अनुसार, 27 फरवरी को न्यू उस्मानपुर थाने में दर्ज एफ़आईआर नंबर 95 के मुताबिक़, इरफ़ान को बुरी तरह घायल हालत में जेपीसी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहाँ 26 फरवरी को उसकी मौत हो गई थी। पुलिस ने इस सिलसिले में धारा 147, 148, 149, 308 और 302 के तहत मामला दर्ज किया था। 

इस मामले में वैसे तो कई गवाहों के बयान दर्ज किए गए थे, लेकिन सबसे अहम इरफ़ान की माँ का बयान था, जिसे मजिस्ट्रेट के सामने दर्ज कराया गया था।
इरफ़ान की माँ ने हमलावरों में से बृजमोहन शर्मा उर्फ गब्बर और सन्नी उर्फ लाला की पहचान की थी।

राजनीतिक संपर्क

हालाँकि पुलिस ने चार्जशीट में ना तो अभियुक्त ताहिर हुसैन के संबंध में और ना ही बृजमोहन शर्मा के संबंध में किसी पार्टी का ज़िक्र किया है। लेकिन बताया जाता है कि बृजमोहन उर्फ गब्बर के पिता भी भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के नेता रहे हैं। यही नहीं, उनका परिवार स्थानीय पार्षद राजकुमार बल्लन का क़रीबी भी माना जाता है। लेकिन बृजमोहन का परिवार इस संबंध में स्थानीय पुलिस पर साजिश रचने का आरोप लगा रहा है।   
बृजमोहन को 28 मार्च को गिरफ़्तार किया गया था और वह अभी जेल में है। इरफ़ान की माँ कुरेशा की गवाही के अनुसार, 
इरफ़ान दूध और दवाई लेने बाहर गया था और घर वापस आ रहा था कि उसे भीड़ ने दबोच लिया। इस भीड़ का नेतृत्व बृजमोहन उर्फ गब्बर और सन्नी कर रहे थे। भीड़ ने रॉड, बैट आदि से इरफ़ान की पिटाई की और फरार हो गए।

मुसलमानों का नेता बन रहा था इरफ़ान!

पुलिस की चार्जशीट के मुताबिक़, बृजमोहन ने पूछताछ में इरफ़ान की हत्या की बात स्वीकार की है। उसने बताया है कि इरफ़ान मुसलमानों का नेता बन रहा था। उसके इशारे पर कई हिंदूओं के घर, दुकान आदि जला दिए गए। बृजमोहन उसे सबक सिखाना चाहता था। इसके लिए उसने रॉड आदि जमा किए थे।  
ताज़ा ख़बरें
दिल्ली के दंगों की चार्जशीट में पहले आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन और अब बीजेपी के एक नेता के नाम ने पूरे मामले को और सनसनीखेज बना दिया है। अब सवाल उठने लगे हैं कि क्या बिना किसी आका के इन छुटभैये नेताओं ने इतने बड़े दंगे की साजिश रच दी?
क्या दिल्ली के दंगे सिर्फ़ छुटभैये नेताओं के सियासी शतरंज की बिसात थे, जिसमें 50 से ज्यादा बेगुनाह लोग मारे गए?
इन सवालों का जवाब अभी मिलना बाकी है। अभी इस मामले की जाँच जारी है। चार्जशीट और पुलिस के हलफ़नामे रोज़ अलग- अलग संकेत दे रहे हैं। मामला कोर्ट में है, इसलिए अपनी ओर से कुछ कहना भी बेमानी है। लेकिन दाखिल चार्जशीट और हलफ़नामे बड़ी साजिश की बू ज़रूर दे रहे हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
आलोक वर्मा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें