loader

जहांगीरपुरी: वृंदा करात पहुंचीं, एमसीडी की कार्रवाई का किया विरोध 

जहांगीरपुरी में एमसीडी की कार्रवाई के दौरान लेफ्ट की नेता वृंदा करात भी वहां पहुंंचीं। वृंदा करात ने कहा है कि उनके पास सुप्रीम कोर्ट का ऑर्डर है और कोर्ट के आदेश का पालन होना चाहिए। उन्होंने कहा कि यहां पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। 

वृंदा करात पुलिस अफसर दीपेंद्र पाठक से भी मिलीं और उनसे एमसीडी की इस कार्रवाई को लेकर बातचीत की।सुप्रीम कोर्ट ने इस कार्रवाई पर रोक लगा दी है और यथास्थित बनाए रखने के लिए कहा है। अदालत गुरूवार को इस मामले में सुनवाई करेगी। 

ताज़ा ख़बरें

उत्तरी एमसीडी के मेयर राजा इकबाल सिंह ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जहांगीरपुरी में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई रोक दी गई है।

एमसीडी के बुलडोजर ने इस दौरान कई दुकानों और अवैध रूप से बने हुए कुछ ढांचों को गिरा दिया। मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस और सुरक्षा बलों के कर्मचारी तैनात रहे। 

दिल्ली से और खबरें

मंगलवार को दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने उत्तरी एमसीडी के मेयर को पत्र लिखकर अवैध निर्माणों को चिन्हित करने और उन्हें गिराने की मांग की थी। 

बता दें कि रामनवमी के जुलूस के मौके पर हुई हिंसा के दौरान मध्य प्रदेश के खरगोन व बड़वानी में अवैध निर्माणों पर बुलडोजर चल चुका है।

Bulldozers demolition drive in Jahangirpuri - Satya Hindi

बीजेपी, केजरीवाल पर हमलावर हुए ओवैसी 

इस मामले में सियासत भी तेज है और एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने बीजेपी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को निशाने पर ले लिया है। ओवैसी ने कहा कि अतिक्रमण के नाम पर अब उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की तरह दिल्ली में घरों को उजाड़ने का काम किया जाएगा। 

जबकि इससे पहले ना किसी तरह का नोटिस और ना अदालत जाने का कोई मौका दिया गया और ऐसा करके ग़रीब मुसलमानों को सजा दी जा रही है। 

उन्होंने उत्तरी एमसीडी की ओर से दिल्ली पुलिस को लिखे गए पत्र की कॉपी को ट्वीट किया है। साथ ही अरविंद केजरीवाल को भी टैग कर उनसे कहा है कि वह अपनी संदिग्ध भूमिका को स्पष्ट करें। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें