loader

शाहीन बाग़ में पुलिस ने 5 सड़कों को बंद किया, मध्यस्थ ने कोर्ट को बताया

नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ शाहीन बाग़ में चल रहे धरने पर सुप्रीम कोर्ट के द्वारा नियुक्त किये गये मध्यस्थों की प्रदर्शनकारियों से कई दौर की वार्ता हो चुकी है। लेकिन अब तक इस मामले में कोई हल नहीं निकल सका है। सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त किये गए एक मध्यस्थ पूर्व सूचना आयुक्त वजाहत हबीबुल्लाह ने अदालत को बताया है कि महिला प्रदर्शनकारियों ने इस जगह का चयन अपनी सुरक्षा के लिये किया है क्योंकि उन्हें लगातार धमकियां मिल रही हैं। कोर्ट ने हबीबुल्लाह के अलावा वरिष्ठ अधिवक्ताओं संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन को भी मध्यस्थ नियुक्त किया है। दोनों अधिवक्ताओं ने कोशिश है कि प्रदर्शनकारी इस बात के लिये राजी हो जाएं कि वे शाहीन बाग़ में अपना धरना ख़त्म कर दें जिससे सड़क बंद होने के कारण लोगों को हो रही परेशानी ख़त्म हो। 
ताज़ा ख़बरें

हबीबुल्लाह ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि धरना-प्रदर्शन वाले इलाक़े में 5 वैकल्पिक सड़कें हैं जिन्हें पुलिस या लोगों ने बंद किया हुआ है। उन्होंने अदालत से कहा कि इस तरह के आरोप जिनमें कहा गया है कि प्रदर्शन के कारण ट्रैफ़िक जाम हो रहा है, पूरी तरह ग़लत हैं। हबीबुल्लाह ने अदालत को सौंपे हलफ़नामे में कहा, ‘मुझे इस बात का पता चला है कि कई सड़कें जिनका इस प्रदर्शन से कोई लेना-देना नहीं है, उन्हें पुलिस ने बेवजह ही बैरिकेडिंग लगाकर बंद किया हुआ है और प्रदर्शन को इसके लिये जिम्मेदार बताया जा रहा है, जो ग़लत है।’ उन्होंने हलफ़नामे में यह भी कहा है कि इन बैरिकेडिंग की वजह से ही अफरा-तफरी की स्थिति बन रही है और पुलिस को प्रदर्शन स्थल की समानांतर सड़कों को बंद करने के लिये जिम्मेदार लोगों के नामों का ख़ुलासा करना चाहिए। 

अदालत ने इस मामले में सुनवाई के दौरान शाहीन बाग़-कालिंदी कुंज रोड को बंद किये जाने को लेकर चिंता जताई थी। कोर्ट ने कहा था कि सड़कों को अनिश्चित काल के लिये बंद नहीं किया जा सकता है। शाहीन बाग़ में बैठे प्रदर्शनकारियों के कारण पुलिस ने मथुरा रोड और कालिंदी कुंज के बीच की सड़क 13ए को बंद किया हुआ है। 

दिल्ली से और ख़बरें

मामले में सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, ‘आप प्रदर्शन करना चाहते हैं, इसमें कोई दिक़्कत नहीं है। लेकिन कल कोई दूसरे समुदाय के लोग किसी दूसरे इलाक़े में प्रदर्शन करेंगे, इसके लिये कोई ढंग होना चाहिए जिससे यातायात सुगमतापूर्वक चल सके।’ कोर्ट ने कहा था कि हमारी चिंता यह है कि हर आदमी अगर सड़कों को ब्लॉक करना शुरू कर देगा तो लोग कहां जायेंगे। 

हबीबुल्लाह ने कहा कि कुछ राजनीतिक दलों ने आरोप लगाया है कि प्रदर्शनकारी स्कूल वैन और एंबुलेंस को रोक रहे हैं, जबकि ऐसा बिलकुल नहीं है। उन्होंने कहा मुझे बताया गया है कि सभी एंबुलेंस और स्कूल वैन को प्रदर्शन स्थल से निकलने दिया जा रहा है। 

प्रदर्शनकारियों के साथ बातचीत में मध्यस्थ साधना रामचंद्रन ने कहा था कि अगर पूरी कोशिश के बाद भी बात नहीं बनती है तो केस वापस सुप्रीम कोर्ट में जायेगा और तब हमारे पास कोई विकल्प नहीं रहेगा और फिर सरकार जो करना चाहेगी, उसे करना पड़ेगा। दूसरे मध्यस्थ संजय हेगड़े ने कहा था कि कोर्ट ने कहा है कि आपका प्रदर्शन करने का अधिकार बरक़रार रहे और प्रदर्शन करने की जगह ऐसी हो जिससे दूसरों को कोई परेशानी न हो। 

चुनाव में मुद्दा रहा शाहीन बाग़ 

दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी नेताओं के निशाने पर शाहीन बाग़ का आंदोलन रहा था। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह अपनी हर चुनावी सभा में कहते थे कि ईवीएम का बटन इतनी जोर से दबायें कि करंट शाहीन बाग़ में लगे। पश्चिमी दिल्ली के सांसद प्रवेश वर्मा ने शाहीन बाग़ के धरने को लेकर कहा था, ‘ये लोग आपके घरों में घुसकर रेप करेंगे’। वर्मा ने यह भी कहा था कि दिल्ली में अगर बीजेपी की सरकार बनी तो वह एक घंटे में शाहीन बाग़ को खाली करा देंगे। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने शाहीन बाग़ को तौहीन बाग़ कहा था। 
Satya Hindi Logo लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा! गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने के लिए 'सत्य हिन्दी' के साथ आइए। नीचे दी गयी कोई भी रक़म जो आप चुनना चाहें, उस पर क्लिक करें। यह पूरी तरह स्वैच्छिक है। आप द्वारा दी गयी राशि आपकी ओर से स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) होगा, जिसकी जीएसटी रसीद हम आपको भेजेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें