loader

नवरात्रि: बंद हों मीट की दुकानें: प्रवेश; महुआ बोलीं- संविधान देता है इजाजत

दक्षिणी दिल्ली के महापौर द्वारा नवरात्रि के दौरान मीट की दुकानों को बंद किए जाने के मामले में विवाद बढ़ता जा रहा है। पश्चिमी दिल्ली के सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने कहा है कि नवरात्रि के दौरान देश भर में सभी जगहों पर मीट की दुकानों को बंद किया जाना चाहिए। जबकि टीएमसी की सांसद महुआ मोइत्रा ने भी इस मामले में प्रतिक्रिया दी है। 

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के महापौर मुकेश सूर्यान ने निगम के आयुक्त को पत्र लिखकर कहा था कि नवरात्रि के दौरान 2 अप्रैल से 11 अप्रैल तक मीट की दुकानों को बंद रखा जाए। उन्होंने कहा था कि इस दौरान लोग प्याज और लहसुन का भी इस्तेमाल नहीं करते और मंदिरों के आसपास जब कहीं मीट बिकता है तो इससे लोगों को परेशानी होती है।

इसके बाद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा इस मामले में कूद पड़े हैं और उन्होंने कहा है कि मुसलमानों को एआईएमआईएम के सांसद असदुद्दीन ओवैसी जैसे नेताओं के भड़काऊ बयानों से प्रभावित नहीं होना चाहिए और हिंदू त्योहारों का सम्मान करना चाहिए।

ताज़ा ख़बरें
टीएमसी की सांसद और तमाम बड़े मुद्दों पर खासी मुखर रहने वालीं महुआ मोइत्रा ने इस तरह के विवाद को फिजूल का बताया है और कहा है कि वह दक्षिणी दिल्ली में रहती हैं और भारत का संविधान उन्हें जब वह चाहें मीट खाने की इजाजत देता है और उसी तरह दुकानदारों को भी उनका व्यापार करने की आजादी देता है।
दिल्ली में ऐसा पहली बार हुआ है जब नवरात्रि के दौरान मीट की दुकानों को बंद करने की मांग उठी है। दक्षिणी दिल्ली में मीट की लगभग 1500 दुकानें हैं।

कांग्रेस, आप की प्रतिक्रिया

कांग्रेस ने महापौर के द्वारा उठाई गई इस मांग को ओछी हरकत बताया है और कहा है कि उन्होंने यह बयान खबरों में बने रहने और अपने नेताओं को खुश करने के लिए दिया है। आम आदमी पार्टी के एमसीडी के प्रभारी दुर्गेश पाठक ने कहा है कि बीजेपी को उत्तर प्रदेश और हरियाणा में इस तरह के नियम लागू करने चाहिए। 

बंद रही दुकानें

इस पूरे विवाद की वजह से दक्षिणी दिल्ली में मंगलवार को आईएनए मार्केट में मीट की सभी 38 दुकानों को बंद रखा गया। आईएनए की मार्केट एसोसिएशन के अध्यक्ष रमेश भूटानी ने द इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि आईएनए की दुकानों से होटलों को भी मीट की सप्लाई होती है और दुकानें बंद होने से इस पर भी असर पड़ेगा।

दिल्ली से और खबरें

डरे हुए हैं दुकानदार 

आईएनए मार्केट सहित दक्षिणी दिल्ली में मीट की दुकानें चलाने वाले दुकानदार भी इस तरह के विवाद के बाद डरे हुए हैं। उन्हें इस बात का डर है कि अगर वह दुकान खोलेंगे तो उन पर जुर्माना होगा और उनका लाइसेंस भी रद्द हो सकता है। दुकान बंद रखने से उन्हें आर्थिक नुकसान भी हो रहा है।

बीते साल दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की ओर से मीट विक्रेताओं को जब दुकान के बाहर झटका और हलाल का मीट लिखा हुआ बोर्ड लगाने को कहा गया था तब भी इसे लेकर विवाद हुआ था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें