loader

गणतंत्र दिवस हिंसा: दीप सिद्धू व 3 अन्य पर 1 लाख का इनाम

गणतंत्र दिवस पर किसानों के प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा और लाल क़िले पर हुए घटनाक्रमों की जाँच कर रही पुलिस ने पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू व तीन अन्य पर 1 लाख रुपये का इनाम घोषित किया है। दिल्ली पुलिस यह इनाम उसको देगी जो कोई भी दीप सिद्धू, उनके दो सहयोगी और गणतंत्र दिवस के दिन लाल क़िले पर झंडा फहराने वाले जुगराज सिंह के बारे में जानकारी देगा। आरोपियों की तलाश में पुलिस दिल्ली और पंजाब में कई बार छापे मार चुकी है।

26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान तब हिंसा हो गई थी जब किसानों की रैली तय समय से पहले ही निकल गई थी। पुलिस ने बल का प्रयोग कर उन्हें रोकने की कोशिश की। इसके बाद किसान तय रूट से भी आगे निकल गए। आईटीओ पर हिंसा में एक व्यक्ति की मौत भी हो गई। लाल क़िले परिसर में कुछ लोग ट्रैक्टर लेकर घुस गए और वहाँ पर सिखों का निशान साहिब का पवित्र झंडा फहरा दिया गया। एक वीडियो में उस प्रदर्शन के दौरान लाल क़िले में दीप सिद्धू को देखा गया था। इसके बाद से दीप सिद्धू निशाने पर आए।

ताज़ा ख़बरें

पुलिस दीप सिद्धू के अलावा जजबीर सिंह, बूटा सिंह, सुखदेव सिंह और इक़बाल सिंह नाम के प्रदर्शनकारियों की तलाश कर रही है और उन पर जानकारी देने के लिए 50,000 रुपये का इनाम घोषित किया गया है। गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर मार्च के दौरान हिंसा के संबंध में पुलिस ने अब तक 44 एफ़आईआर दर्ज की है और कुल 122 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है।

हालाँकि इन एफ़आईआर में किसानों और किसान नेताओं का भी नाम है, लेकिन अब दीप सिद्धू निशाने पर हैं। किसान भी दीप सिद्धू के नेतृत्व पर भी उस हिंसा के लिए आरोप मढ़ते रहे हैं।

हिंसा के बाद किसानों ने कहा था कि 26 जनवरी से पहले वाली सोमवार रात को सिंघु बॉर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा के मंच को कुछ 'फ्रिंज एलिमेंट' ने हथिया लिया था और उन्होंने 'हमारा रूट रिंग रोड' का नारा दिया था। जबकि संयुक्त किसान मोर्चा और पुलिस के बीच जो तीन रूट तय हुए थे उसमें रिंग रोड शामिल नहीं था। इसी का कुछ युवा विरोध कर रहे थे। 

हिंसा से पहले तीन रूट पर किसानों के सहमत होने के विरोध का नेतृत्व करने वालों में पंजाबी फ़िल्मों के अभिनेता दीप सिद्धू और लखबीर सिंह सिधाना उर्फ लखा सिधाना शामिल थे।

रिपोर्ट के अनुसार तब सिद्धू ने कहा था, 'हमारा नेतृत्व दबाव में है। हमें उन पर अधिक दबाव नहीं डालना चाहिए। लेकिन हम उन्हें ऐसा निर्णय लेने के लिए कह सकते हैं जो सभी को स्वीकार्य हो। उन्हें मंच पर आना चाहिए। यदि वे नहीं आते हैं, तो हम एक निर्णय लेंगे। आप सभी को यह तय करना चाहिए कि उस मामले में फ़ैसला किसे लेना चाहिए।'

delhi police announces 1 lakh cash reward on deep sidhu and 3 others - Satya Hindi
गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकाले जाने का फ़ैसला हो जाने के बाद 20 जनवरी को यानी लाल क़िला हिंसा से क़रीब एक हफ़्ता पहले फ़ेसबुक लाइव में सिद्धू ने बड़ी बात कही थी। पंजाब से दिल्ली आ रहे ट्रैक्टरों के बीच दीप सिद्धू ने फ़ेसबुक लाइव में कहा था, 'पिक्चर तो अभी बाक़ी है मेरे दोस्त...।'

23 जनवरी को उन्होंने पंजाबी में एक वेब चैनल को दिए इंटरव्यू को साझा किया है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, उस साक्षात्कार में उन्होंने कहा, '26 जनवरी को क्या होगा हम इसकी योजना नहीं बना सकते। यह हमारी कल्पना से बाहर होगा। यह अप्रत्याशित होगा। यह ऊपर वाले पर निर्भर है, 26 जनवरी को क्या होता है। हम इंसान कुछ भी नहीं कह सकते।'

हिंसा पर देखिए, आशुतोष की बात 

बता दें कि दीप सिद्धू ने 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के उम्मीदवार सनी देओल के लिए प्रचार किया था। सोशल मीडिया पर सिद्धू की प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के साथ तसवीरें भी वायरल हुई थीं। इसके बाद लोगों ने दीप सिद्धू को लेकर बीजेपी पर निशाना साधना शुरू कर दिया था।

दीप सिद्धू का नाम आने पर कई किसान नेताओं के साथ ही बीकेयू हरियाणा के नेता गुरनाम सिंह चड़ूनी ने लाल क़िले मामले में युवाओं को गुमराह करने के लिए दीप सिद्धू की आलोचना की और उन्हें केंद्र सरकार का 'दलाल' बताया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें