loader

गणतंत्र दिवस हिंसा पर ट्वीट के लिए योगिता भयाना पर भी केस

गणतंत्र दिवस के दिन किसान प्रदर्शन के दौरान हिंसा पर ट्वीट के लिए सामाजिक कार्यकर्ता योगिता भयाना पर केस दर्ज किया गया है। दिल्ली पुलिस ने उन्हें नोटिस भेजकर पुलिस के सामने पेश होने के लिए कहा है। इस मामले पर योगिता ने कहा है कि 'मेरा गुनाह ये है कि मैं किसान आंदोलन में किसान भाइयों का साथ दे रही हूँ।' उन्होंने आरोप लगाया है कि पुलिस उनकी आवाज़ को दबाना चाहती है। 

योगिता जैसे ही आरोप तब भी दिल्ली पुलिस पर लगाए गए जब किसान आंदोलन में हिंसा पर ट्वीट के लिए पत्रकार राजदीप सरदेसाई, मृणाल पाण्डेय जैसे पत्रकारों और कांग्रेस सांसद शशि थरूर पर उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली में एफ़आईआर दर्ज की गई। 

ताज़ा ख़बरें

जिन लोगों पर एफ़आईआर दर्ज की गई है उनमें किसान आंदोलन को लेकर ट्वीट करते रहे सांसद शशि थरूर, न्यूज़ एंकर राजदीप सरदेसाई, वरिष्ठ पत्रकार मृणाल पाण्डेय, कौमी आवाज़ उर्दू के मुख्य संपादक जफर आगा, कारवाँ के मुख्य संपादक परेशनाथ, कारवाँ के संपादक अनंतनाथ, कारवाँ के कार्यकारी संपादक विनोद के जोस और द वायर के संपादक सिद्धार्थ वरदराजन जैसे पत्रकारों के नाम शामिल हैं।

अब इसमें सामाजाकि कार्यकर्ता योगिता भयाना का नाम जुड़ गया है। पुलिस की इस कार्रवाई के बारे में योगिता ने भी ट्वीट कर जानकारी दी है। 

बता दें कि योगिता को नोटिस भेजे जाने की जानकारी अधिकारियों ने बुधवार को दी है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, नोटिस में दंगा भड़काने के मक़सद से उकसावे की कार्रवाई करने, समूहों के बीच रंजिश बढ़ाने और अफवाह व ऐसे बयान प्रसारित कर लोकशांति को ख़तरा पहुँचाने का आरोप लगाया गया है।

नोटिस में कहा गया है कि जाँच के दौरान पाया गया कि आपके ट्विटर खाते से कथित तौर पर दो फर्जी पोस्ट किए गए। इसके साथ ही उनसे पूछताछ के लिए समय के बारे में भी पूछा गया है। 

इससे पहले कांग्रेस सांसद शशि थरूर, पत्रकार राजदीप सरदेसाई, मृणाल पाण्डेय जैसे पत्रकारों पर भी सोशल मीडिया पर उनकी पोस्ट के लिए ही केस दर्ज किया गया है। गणतंत्र दिवस पर किसानों के प्रदर्शन में हिंसा को लेकर उन्होंने ये पोस्टें की थीं। 

इन पर आरोप लगाया गया है कि उन लोगों ने मध्य दिल्ली के आईटीओ में एक प्रदर्शनकारी की मौत पर लोगों को गुमराह किया जब हज़ारों किसानों ने राष्ट्रीय राजधानी में लाल क़िले सहित विभिन्न क्षेत्रों में प्रवेश किया था।
कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ हज़ारों किसान क़रीब ढाई महीने से दिल्ली के बॉर्डर पर डेरा डाले हुए हैं। इनकी माँग इन कृषि क़ानूनों को रद्द करने की है। इस बीच 26 जनवरी को दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर परेड हुई, जिसमें हज़ारों किसान ट्रैक्टर लेकर तय रूट से अलग हो कर दिल्ली में घुस गए, हिंसा हुई, लाठीचार्ज हुआ, आँसू गैस के गोले छोड़े गए। इस बीच एक व्यक्ति की मौत भी हो गई। कुछ लोगों ने लाल क़िले पर चढ़ कर सिखों का पवित्र झंडा निशान साहिब फहरा दिया।

पुलिस ने कहा था कि उस व्यक्ति की मौत ट्रैक्टर पलटने से हुई थी, जबकि राजदीप सरदेसाई ने शुरुआती आरोपों के आधार पर ट्वीट कर मौत का कारण गोली लगना बताया था। हालाँकि, बाद में पुलिस की प्रतिक्रिया आने के बाद राजदीप ने पुलिस के बयान को पोस्ट किया था। लेकिन इस बीच उन्हें कुछ समय के लिए इंडिया टुडे न्यूज़ चैनल से 'ऑफ़ एयर' कर दिया गया। 

गणतंत्र दिवस के दौरान हुई हिंसा को लेकर अपने ख़िलाफ़ दर्ज केसों को लेकर शशि थरूर और राजदीप सरदेसाई ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। पत्रकार मृणाल पांडे, जफर आगा, परेश नाथ और अनंत नाथ सुप्रीम कोर्ट एक दिन पहले ही पहुँच चुके हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें