loader

दिल्ली हिंसा: मृतकों की संख्या बढ़कर 39 हुई

जाफराबाद-मौजपुर क्षेत्र में रविवार को शुरू हुई हिंसा के बाद पाँच दिन में मृतकों की संख्या बढ़कर 39 हो गई है और 250 से ज़्यादा लोग घायल हैं। अधिकतर लोगों की मौत गोली लगने से हुई है। हालाँकि इसके बावजूद हिंसा पर काबू नहीं पाया जा सका है। भजनपुरा, मौजपुर और करावल नगर क्षेत्र में देर शाम को हिंसा की छिटपुट घटनाएँ सामने आईं। इन घटनाओं से पहले इस क्षेत्र का राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने जायजा लिया था। प्रधानमंत्री मोदी ने भी शांति की अपील की है। इस पर काबू पाने के लिए देश के गृह मंत्री अमित शाह से लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल तक लगातार बैठकें कर रहे हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने ख़ुद स्थिति का जायजा लेने के लिए हिंसा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। हालात को संभालने के लिये चार इलाक़ों में कर्फ़्यू लगा दिया गया है। इनमें मौजपुर, जाफ़राबाद, चांदबाग और करावल नगर शामिल हैं। हिंसक प्रदर्शनों के दौरान पत्रकारों पर भी हमला किया गया है। 
ताज़ा ख़बरें

भीड़ ने किया पत्रकारों पर हमला

एनडीटीवी ने कहा है कि हिंसक प्रदर्शनों के दौरान उसके तीन पत्रकारों और एक कैमरामैन पर हथियारबंद लोगों ने हमला किया है और इस दौरान हमलावरों को रोकने के लिये वहां कोई भी पुलिसकर्मी मौजूद नहीं था। एनडीटीवी ने कहा है कि अरविंद गुनाशेकर को भीड़ ने घेर लिया और उनके चेहरे पर हमला किया। इसके बाद अरविंद पर लाठी से हमला किया गया लेकिन उन्हें बचाने के लिये उनके सहयोगी सौरभ शुक्ला बीच में आ गये और उन्हें चोट लग गयी। घटना में अरविंद का एक दांत टूट गया है। इसके बाद दोनों पत्रकार वहां से बच निकले। एनडीटीवी ने कहा है कि भीड़ ने एक और पत्रकार मरियम अलावी पर हमला किया और इस दौरान उनके साथ मौजूद कैमरामैन सुशील राठी को भी चोट आई है।
दिल्ली पुलिस ने कहा है कि इलाक़े में सुरक्षा व्यवस्था को बनाये रखने के लिये भारी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। दिल्ली पुलिस के जनसंपर्क अधिकारी एम.एस.रंधावा ने बीजेपी नेता कपिल मिश्रा के भाषण को लेकर कहा कि इस मामले की जांच चल रही है और हमारी प्राथमिकता स्थिति को नियंत्रण में लाने की है। 

हिंसा में मारे गये दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतन लाल को मंगलवार को सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। सोमवार को हुई हिंसा में शाहदरा जिले के डीसीपी अमित शर्मा घायल हो गए थे। वह अभी आईसीयू में भर्ती हैं। लगातार हो रही हिंसा के कारण डीएमआरसी ने जाफ़राबाद, मौजपुर-बाबरपुर, गोकुलपुरी, जौहरी एन्क्लेव और शिव विहार मेट्रो स्टेशन को मंगलवार को भी बंद रखा है। 

सोशल मीडिया में दिल्ली में हो रही हिंसा से जुड़े कई वीडियो वायरल हो रहे हैं। ऐसे ही एक वीडियो में देखा गया है कि एक युवक ने हाथ में रिवॉल्वर ली हुई है और वह एक पुलिसकर्मी को धमका रहा है। इस शख़्स की पहचान शाहरूख के रूप में हुई है और वह स्थानीय निवासी है। पुलिस ने शाहरूख को गिरफ़्तार कर लिया है।
दिल्ली से और ख़बरें

जाफ़राबाद में नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध में चल रहे प्रदर्शन के विरोध में रविवार को बीजेपी नेता कपिल मिश्रा की अगुवाई में सैकड़ों लोग मौजपुर इलाक़े में जमा हो गये थे और इसके बाद क़ानून के विरोध में और समर्थन में उतरे लोगों के बीच पत्थरबाज़ी हुई थी। 

इसके बाद सोमवार को हिंसा भड़क गई थी और पुलिस ने उत्तर-पूर्वी जिले में धारा 144 लागू कर दी थी। जाफ़राबाद के चांदबाग इलाक़े में भी सोमवार को हिंसा हुई थी और पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिये आंसू गैस के गोले छोड़े थे और लाठीचार्ज किया था। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें