loader

गिरिराज सिंह पर पैसे बांटने का आरोप, चुनाव आयोग ने मांगी रिपोर्ट

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह पर पैसे बांटने का आरोप लगने के बाद चुनाव आयोग ने इस मामले में जिला निर्वाचन अधिकारी से रिपोर्ट मांगी है। आम आदमी पार्टी (आप) ने शुक्रवार शाम को गिरिराज सिंह पर दिल्ली में मतदाताओं को पैसे बांटने का आरोप लगाया था। ‘आप’ के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा था कि गिरिराज सिंह को रिठाला विधानसभा के बुध विहार फेज वन में पैसे बांटते हुए पकड़ा गया है। उन्होंने आरोप लगाया था कि बीजेपी ने अपने सांसदों को अलग-अलग विधानसभाओं में पैसे और दारू बाँटने की जिम्मेदारी दी हुई है। उन्होंने कहा था कि चुनाव आयोग को इस मामले में कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। 
ताज़ा ख़बरें

चुनाव को प्रभावित करने का आरोप

संजय सिंह ने इस मामले में प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर कहा, 'मैंने कल चुनाव आयोग से मिलकर मुख्य चुनाव आयुक्त के सामने इस बात की आशंका जताई थी कि दिल्ली के चुनाव में बीजेपी दारू, पैसा बांटने का हथकंडा अपनायेगी और अपना रही है और आज सुबह से ही इस तरह की ख़बरें आ रही थीं। बीजेपी ने चुनाव के दौरान चुनाव आचार संहिता की धज्जियां उड़ाईं, दिल्ली का माहौल बिगाड़ा और अब मतदान से एक दिन पहले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, बीजेपी के कई सांसद दिल्ली की तमाम विधानसभाओं में रुपये बांट रहे हैं, शराब बांट रहे हैं, दिल्ली के चुनाव को प्रभावित कर रहे हैं।’ 

उन्होंने आगे कहा था, ‘गिरिराज सिंह को एक ज्वैलर्स की दुकान में पकड़ा गया। वहां के लोगों ने बताया कि गिरिराज सिंह रुपये बांट रहे थे। हवाला के जरिये रुपये इकट्ठे करके वहां रुपये बांटने की साज़िश थी। हमने चुनाव आयोग की इसकी सूचना दी है। हम मांग करते हैं कि बीजेपी के वे सांसद जो दिल्ली के निवासी नहीं है, उनको दिल्ली की विधानसभाओं से निकाला जाये।’

दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी नेताओं की ओर से आये विवादित बयानों के कारण चुनावी माहौल पहले से ही गर्म रहा है। बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आतंकवादी कहा तो केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने एक चुनावी जनसभा में ‘देश के गद्दारों को, गोली मारो…को’ का नारा लगवाया था। प्रवेश वर्मा ने शाहीन बाग़ के धरने को लेकर, ‘ये लोग आपके घरों में घुसकर रेप करेंगे’ जैसे बयान दे चुके हैं जबकि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कई बार अपने चुनावी भाषणों में कहा कि लोग बटन यहां दबाएं और करंट शाहीन बाग़ में लगे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें