loader

कुतुब मीनार परिसर में खुदाई की खबरों को केंद्र ने किया खारिज

केंद्र सरकार ने कहा है कि कुतुब मीनार परिसर में खुदाई को लेकर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है। केंद्र ने इस संबंध में आई तमाम मीडिया रिपोर्ट्स को खारिज कर दिया है। 

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया था कि संस्कृति मंत्रालय ने कुतुब मीनार परिसर में रखी मूर्तियों की आइकोनोग्राफी कराने का निर्देश दिया है और परिसर से 15 मीटर की दूरी पर खुदाई शुरू की जा सकती है। मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी कहा गया था कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग यानी एएसआई खुदाई का काम जल्दी शुरू करेगा।

हालांकि केंद्रीय संस्कृति मंत्री जी.के. रेड्डी ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई के साथ बातचीत में इस तरह की सभी खबरों को खारिज किया है।  

ताज़ा ख़बरें

विष्णु स्तंभ का दावा

बता दें कि कुछ दिन पहले हिंदू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने कुतुब मीनार परिसर में हनुमान चालीसा पढ़ी थी और इसे विष्णु स्तंभ बताया था। सोशल मीडिया पर कुतुब मीनार के विष्णु स्तंभ होने को लेकर तमाम दावे भी किए गए थे।

संस्कृति मंत्रालय के सचिव गोविंद मोहन ने शनिवार को कुतुब मीनार परिसर का दौरा किया था। इसके बाद यह खबर आई थी कि उन्होंने एएसआई को कुतुब मीनार परिसर में खुदाई करने का निर्देश दिया है।निर्देश के तहत कहा गया है कि इस बात का पता लगाया जाए कि कुतुब मीनार को कुतुबुद्दीन ऐबक ने बनवाया था या फिर चंद्रगुप्त विक्रमादित्य ने। हालांकि मंत्रालय ने कहा था कि कुतुब मीनार परिसर में किया गया दौरा एक सामान्य दौरा था।

दिल्ली की एक अदालत ने पिछले महीने एएसआई को निर्देश दिया था कि वह कुतुब मीनार परिसर में मिली भगवान गणेश की दो मूर्तियों को अगले निर्देश तक परिसर से नहीं हटाए।

अदालत ने यह फैसला एडवोकेट हरिशंकर जैन की उस याचिका पर दिया था जिसमें यह दावा किया गया था कि कुतुबुद्दीन ऐबक ने 27 मंदिरों को तोड़कर कुतुब मीनार का निर्माण कराया था। उन्होंने दावा किया था कि इन मंदिरों के अवशेषों इस्तेमाल मस्जिद कुवत उल इस्लाम को बनाने में किया गया था।

दिल्ली से और खबरें

विश्व हिंदू परिषद के प्रवक्ता विनोद बंसल ने भी इस बात का दावा किया था कि कुतुब मीनार वास्तव में विष्णु स्तंभ ही है। उन्होंने कहा था कि 27 हिंदू व जैन मंदिरों को तोड़कर कुतुब मीनार को बनाया गया था।

बता दें कि इन दिनों देश में ज्ञानवापी मस्जिद विवाद, मथुरा में श्री कृष्ण जन्मभूमि विवाद और ताजमहल में बंद पड़े 22 कमरों को खुलवाने की मांग वाली याचिका को लेकर अदालतों में लड़ाई लड़ी जा रही है। ऐसे में कुतुब मीनार के विष्णु स्तंभ होने के दावे और यहां खुदाई को लेकर आई खबरों के बाद से ही एक बार फिर से सरगर्मियां बढ़ने लगी हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें