loader

किसान आंदोलन: सिंघु बॉर्डर पर धरना दे रहे किसान की मौत 

कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ दिल्ली के कई बॉर्डर्स पर धरना दे रहे किसानों का आंदोलन इस कड़ाके की ठंड में भी जारी है। किसानों का कहना है कि ये कृषि क़ानून उनके लिए डेथ वारंट की तरह हैं और जब तक सरकार इन्हें वापस नहीं लेती, वे यहां से हटेंगे नहीं। ऐसे में दिल्ली के सिंघु बॉर्डर से एक चिंताजनक ख़बर आई है। 

यहां धरना दे रहे सोनीपत के एक किसान की मौत हो गई है। किसान के परिजनों का कहना है कि उनकी मौत ठंड लगने के कारण हुई है। बड़ी संख्या में किसान पंजाब और हरियाणा से दिल्ली के बॉर्डर्स पर आकर डटे हैं। इनमें कई बुजुर्ग किसान भी हैं। इसके अलावा बड़ी संख्या में महिलाएं और बच्चे भी आंदोलन में आए हैं। 

ताज़ा ख़बरें

पिछले कई दौर की बातचीत के बेनतीजा रहने के बाद किसान आक्रामक हैं और उनका कहना है कि सरकार तुरंत इन क़ानूनों को वापस ले। 

farmer in kisan andolan died at Singhu border  - Satya Hindi

खा लिया था ज़हर 

जब मोदी सरकार कृषि विधेयक लाई थी, तभी से किसान पंजाब में विधेयकों के विरोध में लगातार धरना दे रहे थे। सितंबर महीने में इन विधेयकों के ख़िलाफ़ आंदोलन कर रहे एक किसान ने आत्महत्या कर ली थी। यह घटना बठिंडा के बादल गांव में हुई थी। आत्महत्या करने वाले किसान का नाम प्रीतम सिंह था और उनकी उम्र 60 साल थी। 

प्रीतम सिंह मानसा जिले के अक्कावाली गांव के रहने वाले थे और विधेयकों के ख़िलाफ़ बादल गांव में धरना दे रहे थे। प्रीतम सिंह की मौत के बाद किसान संगठनों ने केंद्र की सरकार के ख़िलाफ़ जबरदस्त नाराजगी का इजहार किया था। 

दिल्ली से और ख़बरें

राजनीतिक दल समर्थन में उतरे

कांग्रेस, टीएमसी, आरजेडी, एसपी, एनसीपी, शिव सेना, जेएमएम, टीआरएस, सीपीआई, सीपीआई(एम), ऑल इंडिया फ़ॉरवर्ड ब्लॉक सहित कई विपक्षी दलों के इस आंदोलन को समर्थन देने के कारण माना जा रहा है कि भारत बंद सफल रहेगा। लेकिन दूसरी ओर बीजेपी समर्थकों ने बंद का पूरी तरह विरोध किया है। किसानों को विदेशों से भी जोरदार समर्थन मिल रहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें