loader

दिल्ली में बग़ैर मास्क के पकड़े जाने पर 2,000 रुपये का ज़ुर्माना

अब आप दिल्ली में बग़ैर मास्क पकड़े गए तो 2,000 रुपए का ज़ुमाना देना होगा। अब तक 500 रुपए के ज़ुर्माने की व्यवस्था थी। राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना के बढ़ते प्रकोप की वजह से सरकार ने यह फ़ैसला किया है। इसके साथ ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सभी राजनीतिक दलों से अपील की है कि वे आम जनता में मुफ़्त मास्क बाँटें और लोगों को इसका इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित करें। 
 राज्य सरकार के इस कड़े कदम के पहले मुख्यमंत्री ने कई बार लोगों से मास्क लगाने की अपील की थी। पर इसका बहुत असर नहीं दिख रहा था। दूसरी ओर दिल्ली में कोरोना संक्रमण बढ़ता ही जा रहा था।
ख़ास ख़बरें
त्योहारों के बाद कोरोना संक्रमितों की संख्या यकायक बहुत ही बढ़ गई है। इसे इससे समझा जा सकता है कि बुधवार को दिल्ल में कोरोना संक्रमण के 7,486 नए मामले सामने आए और 131 लोगों की मौत हो गई। यह 24 घंटे में अब तक की सबसे अधिक मृत्यु है। इसके साथ ही दिल्ली में कोरोना प्रभावितों की संख्या 5,03,084 हो गई और इससे मरने वालों की तादाद 42,458 हो गई।
कोरोना के मामले में दिल्ली की स्थिति का अंदाज इससे लगाया जा सकता है कि सरकार ने एक एक्शन प्लान बनाया है। बीते हफ्ते गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बीच हुई बैठक में रोज़ाना की जाने वाली कोरोना जाँच की संख्या दूनी करने, 750 बिस्तर अलग से तैयार रखने और ऑक्सीजन सिलिंडर मुहैया कराने पर फ़ैसला हुआ।
fine of 2000 if caught in delhi without corona mask - Satya Hindi
बैठक के बाद केजरीवाल ने कहा कि 750 आईसीयू बिस्तर कोरोना रोगियों के लिए अलग से तैयार रखे जाएंगे। केंद्र सरकार डीआरडीओ केंद्र पर इसकी व्यवस्था करेगी। इसके साथ ही रोज़ाना जाँच की संख्या बढ़ा कर एक लाख कर दी जाएगी। फ़िलहाल रोज़ाना 60 हज़ार लोगों की कोरोना जाँच की जाती है।
इसके ठीक पहले के 12 दिनों में दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या में में बहुत ही अधिक बढ़ोतरी हुई थी। कुछ हफ़्तों तक संख्या कम रहने के बाद 3 नवंबर को यह 6,725 पर पहुँच गई। अगले तीन दिनों में यह तादाद 7 हज़ार पार कर गई। हालात और बिगड़ी व 11 नवंबर को दिल्ली में कोरोना रोगियों की संख्या 8,593 हो गई।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें