loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

जानिए, दिल्ली में क्या हैं कोरोना को लेकर नयी पाबंदियाँ

राजधानी में बेतहाशा बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर दिल्ली सरकार ने शनिवार देर शाम को नयी पाबंदियों की घोषणा की है। ये नयी पाबंदियाँ रेस्तराँ, थियेटर, सार्वजनिक परिवहन, सार्वजनिक सभा और शादियों व अंतिम संस्कार में लोगों के इकट्ठे होने के संदर्भ में हैं। नयी घोषणा 30 अप्रैल तक के लिए है। यानी इस महीने के आख़िर में जैसी स्थिति होगी, उसके अनुसार फ़ैसले लिए जाएँगे।

सरकार की यह ताज़ा घोषणा रात के कर्फ्यू से अलग है। दिल्ली सरकार ने 6 अप्रैल को रात के कर्फ़्यू की घोषणा की थी। यह कर्फ्यू रात के 10 बजे से सुबह 5 बजे तक के लिए है। यह फ़ैसला भी 30 अप्रैल तक के लिए है।

ताज़ा ख़बरें

दिल्ली में ये फ़ैसले तब लिए गए हैं जब राजधानी में शनिवार को एक दिन में 7,897 नए कोरोनो वायरस के मामले आए हैं और 39 मौतें हुईं। शुक्रवार को एक दिन में 8,500 से अधिक नए संक्रमण आए थे। मरीज़ों की बढ़ती संख्या को देखते हुए कुछ दिन पहले ही दिल्ली सरकार ने 100 से अधिक बेड वाले निजी अस्पतालों में कोरोना मरीज़ों के लिए 30 फ़ीसदी बेड आरक्षित करने के लिए कहा है। इन अस्पतालों में सामान्य बेड के अलावा आईसीयू बेड भी कोरोना मरीज़ों के लिए आरक्षित करने होंगे। 

क्या लगाए गए हैं ताज़ा प्रतिबंध?

  • दिल्ली मेट्रो और डीटीसी की बसों में क्षमता के 50 फ़ीसदी लोग ही बैठ सकते हैं। 
  • थियेटर, रेस्तरां, बार, सिनेमाघर उनकी बैठने की क्षमता के 50 प्रतिशत पर काम करेंगे।
  • शादियों में सिर्फ़ 50 लोग शामिल हो सकेंगे और अंतिम संस्कार में 20 से अधिक नहीं।
  • स्टेडियम स्पोर्ट्स इवेंट आयोजित कर सकते हैं लेकिन दर्शकों के बिना।
  • राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं के लिए प्रशिक्षण को छोड़कर बाक़ी सभी स्विमिंग पूल बंद होंगे।
  • महाराष्ट्र से दिल्ली आने वालों के लिए 72 घंटे के अंदर का आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट ज़रूरी।
  • बिना टेस्ट रिपोर्ट के होने पर 14 दिनों के लिए क्वारेंटीन। सरकारी काम से जुड़े लोगों को छूट दी जाएगी।
  • उच्च स्तर के ग्रेड 1 के अधिकारियों को छोड़कर सभी सरकारी कार्यालय 50 प्रतिशत क्षमता पर काम करेंगे।
  • स्वास्थ्य विभाग, पुलिस, होमगार्ड नागरिक सुरक्षा, आग, आपातकालीन सेवाएँ, जिला प्रशासन बिना किसी प्रतिबंध के काम जारी रखेंगे।
  • निजी कंपनियों को भीड़ से बचने के लिए अलग-अलग समय पर कर्मचारियों को बुलाने की सलाह दी गई है।

बता दें कि स्कूलों और कॉलेजों को इस सप्ताह के शुरू में ही बंद करने के लिए कहा गया था। इसके अलावा कोरोना के कंटेनमेंट ज़ोन के नियम भी पहले की तरह जारी रहेंगे। सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन और मास्क पहनने के नियमों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। 

नये नियमों की घोषणा से पहले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा था कि कुछ दिनों से कोरोना के केस बहुत तेज़ी से बढ़ रहे हैं और संक्रमण को रोकना ज़रूरी है। 

हालाँकि क़रीब एक हफ़्ते पहले ही अरविंद केजरीवाल ने एक बैठक में सख़्त फ़ैसले लेने के प्रति अनिच्छा जताई थी। उन्होंने कहा था कि दिल्ली में लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा। 

केजरीवाल ने कहा था, 'हम घटनाक्रम पर बहुत कड़ी नज़र रख रहे हैं। पहली और चौथी लहर के बीच का अंतर यह है कि बहुतों का होम क्वरेंटीन में ही इलाज नहीं किया जा रहा है। फ़िलहाल के लिए लॉकडाउन लागू करने की कोई योजना नहीं है। यदि भविष्य में ऐसी ज़रूरत हुई तो हम लोगों के साथ चर्चा करेंगे और एक ज़रूरी निर्णय लेंगे। लेकिन अभी तक, कोई लॉकडाउन नहीं है।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें