loader

कोरोना- महीने के आख़िर तक दिल्ली में हो सकते हैं 1 लाख केस: सरकारी पैनल

सरकार द्वारा गठित एक पैनल ने अध्ययन कर कहा है कि दिल्ली में इस महीने के आख़िर में कोरोना वायरस के मरीज़ों की संख्या 1 लाख तक पहुँच सकती है। इसके लिए अस्पतालों में 15 हज़ार अतिरिक्त बेड की ज़रूरत होगी। जुलाई के मध्य तक क़रीब 42000 अतिरिक्त बेड चाहिए होंगे। 

कोरोना वायरस की स्थिति को संभालने के लिए केजरीवाल सरकार ने 2 मई को पाँच सदस्यों की कमेटी गठित की थी। इस कमेटी का काम यह देखना है कि दिल्ली के अस्पतालों में तैयारी कैसी है, स्वास्थ्य ढाँचा तैयार हो और ज़रूरत के अनुसार स्वास्थ्य सुविधाएँ विकसित की जाएँ। 

ताज़ा ख़बरें

कमेटी की यह रिपोर्ट ऐसे समय में आई है जब वैज्ञानिक इस बात की संभावना जता रहे हैं कि कोरोना वायरस का संक्रमण जून-जुलाई में अपने शिखर पर होगा। नीति आयोग ने भी हाल में ऐसी ही संभावना जताई थी। एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने ‘एनडीटीवी’ को दिए साक्षात्कार में कहा है कि भारत में कोरोनो वायरस के मामले दो से तीन महीनों में चरम पर हो सकते हैं।

पाँच सदस्यीय कमेटी के अध्यक्ष डॉ. महेश वर्मा ने ‘एएनआई’ से कहा कि कमेटी ने अहमदाबाद, मुंबई और चेन्नई में कोरोना वायरस के रुझान का अध्ययन किया है। 'हिंदुस्तान टाइम्स' की रिपोर्ट के अनुसार, डॉ. वर्मा ने कहा, 'वर्तमान में दिल्ली में क़रीब 25,000 कोविड-19 के मामले हैं और डबलिंग रेट 14 से 15 दिन का है। इसका मतलब है कि मध्य जून तक क़रीब 50,000 मामले और महीने के अंत तक 1 लाख मामले हो जाएँगे। अब, यह मानते हुए कि इन रोगियों में से 20 से 25% को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है, दिल्ली को महीने के अंत तक 15,000 बेड और जुलाई के मध्य तक 42,000 बेड की आवश्यकता होगी।'

दिल्ली से और ख़बरें

कमेटी ने आँकड़ों का विश्लेषण कर कहा है कि अस्पतालों में अतिरिक्त बेडों की ज़रूरत इस आधार पर बताई है कि महीने के आख़िर में क़रीब एक लाख मरीज़ हो सकते हैं। इसका मानना है कि अस्पताल में भर्ती लोगों में से क़रीब पाँच फ़ीसदी लोगों को वेंटिलेटर की ज़रूरत पड़ सकती है। बेड की व्यवस्था करने के लिए सरकार को बैंक्वेट हॉल, खुले मैदान या स्टेडियम में अस्थायी बेड बनाने पड़ सकते हैं। 

बता दें कि देश भर में दिल्ली फ़िलहाल सबसे ज़्यादा कोरोना प्रभावित राज्यों में से एक है। दिल्ली में 27 हज़ार 654 संक्रमण के मामले हैं, और 761 लोगों की मौत हो चुकी है। दिल्ली से ज़्यादा महाराष्ट्र में 82 हज़ार 968 पॉजिटिव मामले आए व 2969 लोगों की मौत हुई है। तमिलनाडु में 30 हज़ार 152 संक्रमण के मामले, 251 लोग मारे जा चुके हैं। देश भर में अब तक 2 लाख 46 हज़ार 628 पॉजिटिव केस आए, 6929 लोगों की मौत हुई। देश में क़रीब 1 लाख 19 हज़ार ठीक हुए, फ़िलहाल 1 लाख 20 हज़ार संक्रमित हैं। अब हर रोज़ क़रीब 10 हज़ार कोरोना संक्रमित मरीज़ सामने आने लगे हैं।
Satya Hindi Logo सत्य हिंदी सदस्यता योजना जल्दी आने वाली है।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें