loader

दीप सिद्धू, इक़बाल सिंह को लाल किले लाई दिल्ली पुलिस

26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा और लाल क़िले पर निशान साहिब फहराने के मामले के मुख्य अभियुक्त दीप सिद्धू और इक़बाल सिंह को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम शनिवार को लाल क़िले में लेकर पहुंची। दीप सिद्धू को हरियाणा के करनाल से जबकि इक़बाल सिंह को पंजाब के होशियारपुर से गिरफ़्तार किया गया था। 

क्राइम ब्रांच की टीम ने सिद्धू और इक़बाल को घटनास्थल पर लाकर उनसे यह जानने की कोशिश की कि लाल क़िले पर निशान साहिब को फहराए जाने की घटना को किस तरह अंजाम दिया गया। क्राइम ब्रांच की टीम ने सीन रीक्रिएट कर कई सवालों के जवाब ढूंढने की कोशिश की। 

ताज़ा ख़बरें
पुलिस ने सिद्धू पर एक लाख रुपये जबकि इक़बाल सिंह पर 50 हज़ार रुपये का इनाम घोषित किया था। 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा को लेकर मुक़दमा दर्ज किए जाने के बाद से ही ये दोनों फरार चल रहे थे। 
दिल्ली से और ख़बरें

क्राइम ब्रांच की टीम सिद्धू और इक़बाल सिंह से पूछताछ में जुटी हुई है। सिद्धू से पूछताछ में कई अहम बातों का पता चला है। दीप सिद्धू ने पुलिस को बताया है कि वह इसलिए छुपा हुआ था क्योंकि उसकी जान को ख़तरा था। सिद्धू ने कहा कि वह इस बात से डरा हुआ था कि उसकी हत्या कर दी जाएगी क्योंकि किसान नेताओं ने गणतंत्र दिवस के दिन हुई हिंसा का पूरा दोष उसके मत्थे मढ़ दिया था। 

पुलिस के मुताबिक़ दीप सिद्धू ने बताया, “लाल क़िले और आईटीओ की ओर ट्रैक्टर मार्च जाने की घटना अचानक नहीं हुई थी। इस रैली से 15 दिन पहले पंजाब और सिंघु बॉर्डर में आंदोलन कर रहे किसान नेता कह रहे थे कि वे नई दिल्ली, संसद, इंडिया गेट और लाल क़िले तक ट्रैक्टर रैली निकालेंगे।” दिल्ली पुलिस ने कहा है कि वह सिद्धू के द्वारा कही गई बातें कितनी सच हैं, इसकी जांच करेगी।

Lal quila violence case deep sidhu accused - Satya Hindi

दोस्त करती थी वीडियो अपलोड

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, पुलिस के एक सूत्र ने बताया, “लाल किले पर हिंसा के बाद सिद्धू सोनीपत चला गया था, वहां वह एक मोटल में रुका और उसने अपने मोबाइल फ़ोन बंद कर दिए थे। इसके बाद वह एक कार में इधर से उधर जाता रहा और इस दौरान उसके दोस्त उसे ज़रूरी मदद दे रहे थे। वह कैलिफ़ोर्निया में रह रही अपनी एक महिला दोस्त के संपर्क में भी था।” 

पुलिस के मुताबिक़, “फरार रहने के दौरान सिद्धू ने अपने दोस्तों के फ़ोन से वीडियो बनाए और वह उन्हें इस महिला दोस्त को भेजता था। वही इन्हें सिद्धू के फ़ेसबुक अकाउंट पर अपलोड करती थी।”

पुलिस ने कहा है कि दीप सिद्धू लोगों को भड़काने के लिए जिम्मेदार है और लाल क़िले पर हुई घटना के मुख्य साज़िशकर्ताओं में से एक है। 
दीप सिद्धू ने 2019 के लोकसभा चुनाव में गुरदासपुर सीट से बीजेपी के उम्मीदवार सनी देओल के लिए प्रचार किया था। लाल किले पर हुई हिंसा के बाद सनी देओल ने कहा था कि उनका और उनके परिवार का दीप सिद्धू से अब कोई रिश्ता नहीं है और वह 6 दिसंबर को ट्वीट कर इस बात को साफ कर चुके हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें