loader

प्राचा पर छापेमारी के ख़िलाफ़ 1,200 वकीलों की चिट्ठी, 22 को जुलूस

दिल्ली दंगों के मुसलिम अभियुक्तों के मुक़दमे लड़ने वाले महमूद प्राचा के दफ़्तर पर हुई छापामारी के ख़िलाफ़ देश के वकील एकजुट हो रहे हैं। मशहूर वकील प्रशांत भूषण समेत लगभग 1,200 वकीलों ने मुख्य न्यायाधीश एस. ए. बोबडे के नाम एक चिट्ठी लिखी है, जिसमें इसे न सिर्फ आपराधिक न्याय प्रणाली बल्कि अभियुक्तों के अधिकार पर हमला बताया गया है। इसके साथ ही छापे से जुड़े पुलिस अफ़सरों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई करने की माँग भी की गई है।

इन वकीलों ने तय किया है कि वे 22 जनवरी को दिल्ली हाई कोर्ट से एक जुलूस लेकर सुप्रीम कोर्ट तक जाएँगे और मुख्य न्यायाधीश एस. ए. बोबडे से मिल कर उन्हें वह चिट्ठी सौंपेगे।

ख़ास ख़बरें

क्या है मामला?

प्राचा के कार्यालय पर जो छापा मारा गया है वह मामला दरअसल अगस्त महीने में एक मुक़दमे से जुड़ा है। दिल्ली की एक अदालत ने 22 अगस्त को प्राचा के ख़िलाफ़ उन आरोपों की जाँच के आदेश दिए थे, जिनमें उनपर धोखाधड़ी के आरोप लगाए गए थे। इसके बाद उनके ख़िलाफ़ धोखाधड़ी और जालसाजी की एफ़आईआर दर्ज की गई थी। इस मामले की जाँच दिल्ली पुलिस द्वारा की जा रही है। और इसी संदर्भ में यह तलाशी की कार्रवाई की गई है।

रिपोर्ट के अनुसार, पूर्वी निज़ामुद्दीन में प्राचा के कार्यालय में जब तलाशी ली जा रही थी तो पुलिसकर्मियों ने प्रवेश पर रोक लगा दी थी। प्राचा ने कहा था, 'मेरा फ़ोन जब्त कर लिया गया है। मुझे धमकी दी जा रही है। मैंने उन्हें बताया था कि "वे मेरे कंप्यूटर से, मेरे कार्यालय से और यहाँ तक कि मेरे घर से भी चीजें ले जा सकते हैं। आख़िरकार संविधान जीतेगा। यह इतना कमज़ोर नहीं है... हम सुनिश्चित करेंगे कि हर दंगा पीड़ित को न्याय मिले।"

वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा था, “उन वकीलों पर निशाना साधा जा रहा है जो ऐसे लोगों का बचाव कर रहे हैं जिन्हें फँसाया गया है। यह उस साज़िश में अगला क़दम है जिसमें प्रदर्शन करने वालों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और उनके वकीलों को जाँच की आड़ में फँसाया जाए।”

प्रशांत भूषण ने कहा था कि प्राचा के यहाँ छापा मारने के बजाय पुलिस उन्हें बुला कर वे चीजें पेश करने को कह रही थीं, जिसकी तलाश में उसने छापा मारा था।

lawyers write to chief justice s.a. bobde against mehmood pracha raid - Satya Hindi

'छापे का वीडियो शेयर करे पुलिस'

इस मशहूर वकील ने इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए कहा है कि पुलिस का मक़सद प्राचा और उनके मुवक्किलों को डराना था। भूषण ने यह भी कहा कि पुलिस छापेमारी के दौरान रिकॉर्ड किए गए वीडियो साझा नहीं कर रही है क्योंकि यह पता लगेगा कि उसमें गृह मंत्री का नाम लिया जा रहा है।

बंबई हाई कोर्ट के पूर्व जज बी. जी. कोलसे पाटिल ने कहा कि दिल्ली पुलिस ने एक कथित ई-मेल को बरामद करने के लिए 200 पुलिस कर्मियों को तैनात कर दिया था और 15 घंटे तक तलाशी लेती रही।

यह सवाल उठा था कि यदि किसी मामले में फँसे आरोपियों की पैरवी करने वाले वकीलों के ख़िलाफ़ ही केस दर्ज कर दिया जाए तो क्या वकील वैसे आरोपियों की पैरवी करने से हतोत्साहित नहीं होंगे? और यदि किसी आरोपी की तरफ़ से कोर्ट में पैरवी करने वाले वकील ही नहीं होंगे तो क्या यह न्याय के मूलभूत सिद्धांतों के ख़िलाफ़ नहीं होगा? न्याय का मूलभूत सिद्धांत कहता है कि आरोपी को बिना किसी डर के अपना पक्ष रखने की पूरी छूट होनी चाहिए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें