loader

सबूत भारी पड़े सिसोदिया पर, जवाब नहीं दे पाए, और किस पर आएगी आंच

दिल्ली शराब घोटाले में रविवार को 8 घंटे की पूछताछ के बाद मनीष सिसोदिया की गिरफ्तारी बताती है कि सीबीआई ने अहम सबूत मिलने के बाद ही दिल्ली के डिप्टी सीएम को गिरफ्तार किया। हालांकि सीबीआई सूत्रों का कहना है कि सीबीआई ने सिसोदिया को सबूतों को नष्ट करने में शामिल होने के कारण गिरफ्तार किया है। आम आदमी पार्टी ने आज सोमवार को इस गिरफ्तारी के विरोध में देशव्यापी प्रदर्शन का ऐलान किया है, लेकिन इन प्रदर्शनों से क्या हासिल होगा, सवालों का सामना तो आप प्रमुख अरविन्द केजरीवाल को भी करना पड़ेगा। इस घोटाले की आंच में अभी कई लोगों का झुलसना बाकी है।
इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक सिसोदिया की गिरफ्तारी 2021-22 की नई दिल्ली शराब नीति में करप्शन के संबंध में है। सिसोदिया को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 120 बी (आपराधिक साजिश), 477 ए (धोखाधड़ी करने का इरादा) और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 7 के तहत गिरफ्तार किया गया है।

ताजा ख़बरें
सीबीआई ने कहा कि मनीष सिसोदिया के जवाब संतोषजनक नहीं थे और वह जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। आठ घंटे की पूछताछ के दौरान, सिसोदिया का सामना सीबीआई ने सबूतों के साथ कराया। इसमें दस्तावेजी और डिजिटल सबूत शामिल थे।

सीबीआई सूत्रों का दावा है कि सीबीआई के सबूतों के सामने सिसोदिया अपना बचाव करने में नाकाम रहे। सूत्रों ने बताया कि दिल्ली शराब नीति में कुछ विवादास्पद प्रावधान जोड़े गए थे जो पहले मसौदे का हिस्सा नहीं थे। सीबीआई ने जब इसके बारे में पूछा तो मनीष सिसोदिया यह बताने में नाकाम रहे कि उन प्रावधानों को अंतिम मसौदे में कैसे शामिल किया गया।


इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक ड्राफ्ट में किए गए बदलावों पर, सिसोदिया ने ज्यादातर जवाब दिया कि "मुझे नहीं पता।"

इंडिया टुडे की रिपोर्ट में कहा गया है कि आबकारी विभाग में काम करने वाले एक अधिकारी के एक बयान से ड्राफ्ट में हेरफेर करने में सिसोदिया की भूमिका का खुलासा हुआ। जब्त किए गए डिजिटल उपकरणों की फॉरेंसिक जांच से पता चलता है कि ये प्रावधान व्हाट्सएप पर एक अधिकारी द्वारा प्राप्त किए गए थे।

रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली आबकारी विभाग में फाइलों का कोई रिकॉर्ड या सबूत नहीं है जो यह बताता हो कि इन प्रावधानों को अंतिम मसौदे में कैसे शामिल किया गया था।
इंडिया टुडे के मुताबिक सीबीआई ने एक आईएएस अधिकारी के बयान के आधार पर आप के वरिष्ठ नेता पर हाथ डाला। उस आईएएस अफसर ने आरोप लगाया कि मनीष सिसोदिया ने आबकारी नीति को बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

दिल्ली से और खबरें
मनीष सिसोदिया को सीबीआई की एफआईआर में आरोपी नंबर एक के रूप में आरोपित किया गया था। उनसे सबसे पहले 17 अक्टूबर 2022 को पूछताछ की गई थी। एजेंसी ने 25 नवंबर को चार्जशीट दायर की थी। सीबीआई ने चार्जशीट में सिसोदिया का नाम नहीं लिया था क्योंकि केंद्रीय जांच एजेंसी ने उनके और अन्य संदिग्धों और अभियुक्तों के खिलाफ जांच को जारी रखा था।

दिल्ली शराब घोटाले में आप का एक और पदाधिकारी विजय नायर जेल में है। शराब कर्टेल के कई बड़े नाम भी गिरफ्तार हो चुके हैं। शराब की साउथ लॉबी के बारे में भी केंद्रीय जांच एजेंसियों ने सबूत जुटाए हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें