loader

दिल्ली: अमित शाह जी, सिसोदिया के घर में घुसे लफंगों की भीड़ देखिए

देश की राजधानी दिल्ली की सुरक्षा इतनी ‘मजबूत’ है कि राज्य सरकार के उप मुख्यमंत्री के घर में दिन दहाड़े लफंगों की भीड़ घुस जाती है और उनके परिजनों को आतंकित कर देती है। 130 करोड़ के हिंदुस्तान को रोटी देने वाली इस दिल्ली की पुलिस केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन है, जिसकी कमान बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह के पास है। 

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के ट्विटर हैंडल पर जाकर देखिए। जो वीडियो उन्होंने ट्वीट किया है, उसे देखकर लगता ही नहीं कि नेशनल कैपिटल में ऐसा हो सकता है और वो भी उप मुख्यमंत्री के आवास पर। 

वीडियो में दिख रहा है कि 50 से ज़्यादा लफंगे गेट के बाहर मौजूद पुलिसवालों को धकियाते हुए सिसोदिया के आवास के अंदर घुस जाते हैं। आप सोचिए, कि वो तो उप मुख्यमंत्री हैं, उनके पास सुरक्षा है, इस दिल्ली में या कहीं भी इतनी बड़ी भीड़ किसी के घर में घुस जाए, घर में मौजूद बच्चों-महिलाओं बुजुर्गों पर क्या गुजरेगी। 

ताज़ा ख़बरें
निश्चित रूप से गृह मंत्री अमित शाह को इस बात का जवाब देना चाहिए कि देश की राजधानी में आम आदमी क्या अपनी सुरक्षा भगवान के भरोसे छोड़ दे। सिसोदिया ने लिखा है, ‘आज बीजेपी के गुंडे मेरी ग़ैरमौजूदगी में मेरे घर के दरवाज़े तोड़कर अंदर घुस गए और मेरे बीवी-बच्चों पर हमला करने की कोशिश की।’
Manish sisodia house Attacked in delhi - Satya Hindi

दिल्ली पर चुप्पी क्यों?

बीजेपी उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के काफिले पर बंगाल में हुए हमले के बाद धुआंधार ट्वीट कर रही है कि बंगाल में लोकतंत्र ख़त्म हो गया है, उसकी हत्या हो गयी है। बंगाल का जो शख़्स इस वीडियो को देखेगा वो तो बीजेपी से यही पूछेगा कि आपकी पुलिस दिल्ली में उप मुख्यमंत्री की हिफ़ाजत नहीं कर पा रही है तो आम आदमी की क्या सुरक्षा वहां होगी, यह बताने की ज़रूरत नहीं है। 

बंगाल का कोई जागरूक शख़्स यह भी पूछेगा कि 2 करोड़ की आबादी वाली दिल्ली में क़ानून व्यवस्था का ये हाल है तो 10 करोड़ से ज़्यादा आबादी वाले बंगाल में आप कितनी बेहतर क़ानून व्यवस्था देंगे, इसे लेकर ढेरों सवाल हैं। 

निश्चित रूप से दिल्ली में आम आदमी पार्टी और बीजेपी की राजनीति से ऊपर उठकर आप सोचिए कि गुंडई करती हुई ये भीड़ जब उप मुख्यमंत्री के घर में घुसने का माद्दा रखती है तो ये फिर किसी के भी घर में घुस सकती है।

यह वीडियो सिर्फ़ दिल्ली ही नहीं, देश के सभी राज्यों की सरकारों को यह सोचने पर मजबूर करेगा कि दिल्ली में उप मुख्यमंत्री के आवास पर इतनी ‘मजबूत’ सुरक्षा व्यवस्था है कि लफंगे मिनटों में उनके घर के अंदर घुस गए। 

‘बीजेपी में इतनी बौखलाहट क्यों है’

इस घटना पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि गुंडे पुलिस की मौजूदगी में सिसोदिया के आवास के अंदर घुस गए। केजरीवाल के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से पूछा है कि आम आदमी पार्टी और दिल्ली सरकार द्वारा किसानों के आंदोलन को समर्थन देने पर बीजेपी में इतनी बौखलाहट क्यों है? आम आदमी पार्टी की विधायक आतिशी मार्लेना ने कहा है कि यह दिल्ली के राजनीतिक इतिहास में काला दिन है। 

दिल्ली से और ख़बरें

ऐसे में सवाल फिर से वही कि जब यहां उप मुख्यमंत्री का परिवार ही दिल्ली के सबसे सुरक्षित इलाक़े में महफ़ूज नहीं है तो आम आदमी और उसके परिवार की सुरक्षा का क्या होगा। ऐसे में राष्ट्रीय राजधानी की क़ानून व्यवस्था कैसे चलेगी, यह एक यक्ष प्रश्न है। 

यह कहा जाना चाहिए कि जब दिल्ली में उप मुख्यमंत्री के आवास के बाहर इतनी ‘मजबूत’ सुरक्षा व्यवस्था है तो विधायकों, विरोधी दलों के नेताओं, आम आदमी को तो अपनी चिंता करनी छोड़ देनी चाहिए, क्योंकि इस वीडियो को देखकर यही लगता है कि उनके साथ कभी भी कुछ भी हो सकता है और वे इसके लिए तैयार रहें। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें