loader

नूपुर विवाद: पूर्व बीजेपी नेता नवीन जिंदल के परिवार ने दिल्ली शहर छोड़ा

पैगंबर मोहम्मद साहब के खिलाफ की गई टिप्पणी के बाद निशाने पर आए पूर्व बीजेपी नेता नवीन जिंदल की मुश्किलें बढ़नी शुरू हो गई हैं। धमकियां मिलने के बाद उनके परिवार ने दिल्ली शहर छोड़ दिया है।

बता दें कि नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल की गिरफ्तारी की मांग को लेकर मुसलिम समुदाय सड़कों पर है। भारत के कई विपक्षी राजनीतिक दलों ने भी इनकी गिरफ्तारी की मांग की है। 

इस मामले में इस्लामिक मुल्कों के जोरदार विरोध के बाद बीजेपी ने नवीन जिंदल को 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया था जबकि नूपुर शर्मा को निलंबित किया गया था।

ताज़ा ख़बरें
बीते दिनों में नवीन जिंदल और नूपुर शर्मा को लगातार धमकियां मिली हैं और इसके बाद नूपुर शर्मा को दिल्ली पुलिस ने सुरक्षा दी है। दिल्ली पुलिस ने कुछ दिन पहले दो एफआईआर भी दर्ज की हैं और इन एफआईआर में नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के अलावा वरिष्ठ पत्रकार सबा नक़वी, एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी, विवादित महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती सहित कुल 32 लोगों के नाम हैं।
Naveen Jindal Prophet Muhammad remark death threat  - Satya Hindi

नवीन जिंदल ने कुछ दिन पहले कहा था कि जब वह डॉक्टर के पास जा रहे थे तो कुछ लोगों ने जाते वक्त उनका वीडियो बनाया था। उन्होंने इस बारे में पुलिस को सूचना भी दी थी। कुछ लोगों ने नवीन जिंदल के घर की रेकी भी की थी। पुलिस ने इसे बेहद गंभीरता से लिया था। 

नवीन जिंदल ने कहा है कि वह अभी भी दिल्ली में ही रह रहे हैं लेकिन डर के कारण उनके परिवार ने दिल्ली छोड़ दी है और यह एक तरह का पलायन है।

दिल्ली से और खबरें

नवीन जिंदल का कहना है कि उन्हें लगातार मारने की धमकियां मिल रही हैं और धमकी देने वाले उन्हें उनके घर की तस्वीरें भी भेजते हैं। इसके साथ ही उन पर बहुत बड़ी रकम का इनाम रखा गया है। उन्होंने अपने टि्वटर हैंडल पर बहुत सारे ऐसे संदेशों के स्क्रीनशॉट भी जारी किए हैं जिनमें उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई है।

नवीन जिंदल ने ट्वीट कर लोगों से निवेदन किया है कि उनकी और उनके परिवार के सदस्यों की किसी भी प्रकार की जानकारी को किसी से भी साझा न किया जाए और उनके घर के पते को सोशल मीडिया पर पोस्ट ना किया जाए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें