loader

सुशांत सिंह राजपूत के विसरा में जहर नहीं: रिपोर्ट्स

फ़िल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में एम्स के पैनल द्वारा सीबीआई को रिपोर्ट सौंप दी गई है। न्यूज़ चैनल आज तक के मुताबिक़, एम्स के पैनल की रिपोर्ट में कहा गया है कि सुशांत के विसरा में जहर नहीं था। इसका मतलब साफ है कि सुशांत को जहर नहीं दिया गया था। 

आज तक के मुताबिक़, रिपोर्ट में मुंबई के कूपर अस्पताल के डॉक्टर्स को क्लीन चिट नहीं देने का भी जिक्र है। सुशांत की 14 जून को बांद्रा स्थित अपने फ़्लैट में मौत हो गई थी। सुशांत के परिजनों की ओर से आरोप लगाया गया था कि इस युवा अभिनेता को जहर दिया गया था लेकिन अब इसके उलट ख़बर आ रही है। 

सीबीआई के कहने पर ही डॉ. सुधीर गुप्ता की अध्यक्षता में एम्स के डॉक्टर्स का एक पैनल बनाया गया था। ख़बरों के मुताबिक़, सीबीआई की एम्स के डॉक्टर्स के साथ इस रिपोर्ट को लेकर मंगलवार को बातचीत होनी है। 

सुशांत की मौत के बाद मुंबई पुलिस ने जब कई दिनों तक एफ़आईआर दर्ज नहीं की थी तो उसने यही कहा था कि यह सीधा मामला आत्महत्या का है। लेकिन बाद में इसकी सीबीआई जांच की मांग को लेकर राजनीतिक घमासान चला। जब सुप्रीम कोर्ट ने इसकी जांच सीबीआई को सौंपी तो उसने भी अपनी जांच में इसी बात को पाया कि सुशांत की हत्या नहीं की गई थी। 

ताज़ा ख़बरें

सितंबर महीने की शुरुआत में सुशांत की मौत मामले की जांच कर रहे सीबीआई के तीन अफ़सरों ने ‘इंडिया टुडे’ को बताया था कि जांच टीम को अब तक सुशांत की हत्या किए जाने का कोई सबूत नहीं मिला है और उसके बाद सीबीआई के अफ़सरों ने आत्महत्या या इसके लिए उकसाने के एंगल से जांच शुरू कर दी थी। 

सीबीआई अब तक इकट्ठा किए गए सबूतों के आधार पर आगे की कार्रवाई करेगी। सीबीआई की ओर से कहा गया है कि वह मामले के सभी एंगल पर जांच कर रही है। सुशांत की मौत कैसे हुई, इसे लेकर एम्स की रिपोर्ट से सीबीआई को काफी मदद मिल सकती है। 

इस ख़बर के सामने आने के बाद महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव और प्रवक्ता सचिन सावंत ने बीजेपी पर जोरदार हमला बोला है। सावंत ने कहा है कि बीजेपी को महाराष्ट्र की जनता माफ नहीं करेगी।

सीबीआई जांच पर जताई थी निराशा

कुछ दिन पहले ही सुशांत सिंह के परिवार के वकील विकास सिंह ने ट्वीट कर सीबीआई की जांच को लेकर नाराजगी जताई थी। उन्होंने कहा था, ‘सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या को हत्या में बदलने का फ़ैसला लेने में सीबीआई की देरी से मैं निराश हूं। एम्स टीम का हिस्सा रहे एक डॉक्टर ने मुझे बहुत पहले ही बता दिया था कि मेरे द्वारा भेजी गई तसवीरें 200% बताती हैं कि सुशांत की मौत गला घोटने से हुई, आत्महत्या से नहीं।’
दिल्ली से और ख़बरें

ड्रग्स एंगल पर पहुंच गया मामला

सुशांत की मौत कैसे हुई, इसकी जांच का मामला अब बॉलीवुड में ड्रग्स एंगल पर पहुंच गया है। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) इस मामले में फ़िल्म अभिनेत्री दीपिका पादुकोण, उनकी मैनेजर करिश्मा प्रकाश से इन दोनों के बीच वॉट्स ऐप पर हुई चैटिंग को लेकर पूछताछ कर चुकी है। इस चैटिंग में गांजा और वीड का जिक्र किया गया था। दीपिका से ड्रग्स चैट को लेकर पूछा गया था कि क्या यह चैट उन्होंने ही की है। ख़बरों के मुताबिक़, दीपिका ने स्वीकार किया था कि उन्होंने चैटिंग की है। 

दीपिका से पूछताछ को लेकर देखिए, वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष की मशहूर वकील आभा सिंह से बातचीत। 

श्रद्धा, सारा अली खान से पूछताछ

दीपिका पादुकोण के अलावा अलावा श्रद्धा कपूर और सारा अली खान से भी एनसीबी ने पूछताछ की थी। क्योंकि एनसीबी की पूछताछ के दौरान सुशांत सिंह राजपूत की एक्स गर्लफ़्रेंड रिया चक्रवर्ती ने श्रद्धा और सारा अली ख़ान का नाम लिया था। एनसीबी ने ड्रग्स के मामले में रिया चक्रवर्ती को पहले ही गिरफ़्तार कर लिया है। 

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद उनके पिता ने पटना में सुशांत की गर्लफ़्रेंड रिया चक्रवर्ती के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज करा दी थी। सुशांत के परिवार ने रिया के ख़िलाफ़ आत्महत्या के लिए उकसाने, आर्थिक ठगी करने और मानसिक रूप से परेशान करने का आरोप लगाया था। 

इसके बाद इस मामले में तीन एजेंसियां जांच में जुटीं- सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय और बाद में एनसीबी भी। ये एजेंसियां अभी तक न तो आर्थिक गड़बड़ी और न ही आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में कोई सबूत सामने रख पाई हैं। हालांकि इसमें ड्रग्स एंगल का मामला ज़रूर जोड़ दिया गया। 59 ग्राम मरिजुआना मिलने के बाद रिया चक्रवर्ती को गिरफ़्तार किया गया और उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें