loader

सुभाष चोपड़ा बने दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष 

पूर्व विधायक सुभाष चोपड़ा को कांग्रेस ने दिल्ली इकाई का अध्यक्ष मनोनीत किया है और कीर्ति आजाद को प्रचार समिति का अध्यक्ष बनाया गया है। 

शीला दीक्षित के निधन के बाद से ही दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष का पद खाली चल रहा था। दिल्ली में जनवरी-फ़रवरी 2020 में विधानसभा के चुनाव होने हैं और उससे पहले बाक़ी दलों ने अपनी चुनावी तैयारियां शुरू कर दी हैं। दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष पद की दौड़ में कीर्ति आज़ाद भी थे लेकिन पार्टी ने उन्हें प्रचार समिति का अध्यक्ष बनाया है। 

ताज़ा ख़बरें

15 साल तक दिल्ली में राज कर चुकी कांग्रेस अभी बेहद ख़राब दौर से गुजर रही है। वह 2013 और 2015 में विधानसभा चुनाव हार चुकी है। 2015 के विधानसभा चुनाव में तो उसका खाता भी नहीं खुल सका था। इसी तरह, 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में भी कांग्रेस को दिल्ली की सभी सातों सीटों पर हार मिली थी। 

लोकसभा चुनाव से पहले शीला दीक्षित और प्रदेश प्रभारी पीसी चाको के बीच आम आदमी पार्टी से गठबंधन को लेकर ख़ासा विवाद हुआ था। तत्कालीन प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन और चाको गठबंधन के पक्ष में थे जबकि शीला दीक्षित इसके ख़िलाफ़ थीं। अंतत: गठबंधन नहीं हुआ और दोनों दलों ने अलग-अलग चुनाव लड़ा। इसका सीधा फायदा बीजेपी को मिला और उसने सभी सातों सीटों पर जीत दर्ज की। 

दिल्ली से और ख़बरें

चोपड़ा की नियुक्ति को जहां दिल्ली में पंजाबी वोटरों के प्रभाव से जोड़कर देखा जा रहा है जबकि  कीर्ति आज़ाद की नियुक्ति को पूर्वांचली समाज को लुभाने की कवायद से जोड़कर देखा जा रहा है। दिल्ली में एक करोड़ 43 लाख वोटर हैं और माना जाता है कि इनमें से क़रीब 50 लाख वोटर पूर्वांचल से संबंध रखते हैं। इसी तरह पंजाबी समाज का भी दिल्ली में काफ़ी प्रभाव है। 

पूर्वांचली वोटों के प्रभाव को देखते हुए ही आम आदमी पार्टी ने कुछ ही दिन पहले राज्यसभा सांसद संजय सिंह को दिल्ली का प्रभारी बनाया था और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी भी पूर्वांचली समाज से हैं। 
देखना होगा कि चोपड़ा और आज़ाद की नियुक्ति से क्या कांग्रेस दिल्ली में अपनी स्थिति को मजबूत कर पायेगी क्योंकि दिल्ली में कांग्रेस गुटबाज़ी से बहुत परेशान है। गुटबाज़ी को थामने के लिए ही कांग्रेस आलाकमान ने जब शीला दीक्षित को प्रदेश अध्यक्ष बनाया था तो उनके साथ तीन कार्यकारी अध्यक्ष भी बना दिये थे। लेकिन गुटबाज़ी पर लगाम नहीं लग सकी। अगर कांग्रेस को दिल्ली की सत्ता में वापसी करनी है तो आलाकमान को गुटबाज़ी पर लगाम लगानी ही होगी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें