loader

कश्मीर में आतंकवादियों का समर्थन करने वाले बैठे हैं शाहीन बाग़ में: योगी 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आरोप लगाया है कि जो लोग कश्मीर में आतंकवादियों का समर्थन करते हैं, वे लोग शाहीन बाग़ में धरना दे रहे हैं और आज़ादी के नारे लगा रहे हैं। योगी आदित्यनाथ दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी के प्रचार में शनिवार को करावल नगर में आयोजित चुनावी जनसभा को संबोधित कर रहे थे। योगी आदित्यनाथ ने अरविंद केजरीवाल सरकार पर आरोप लगाया कि वह शाहीन बाग़ में बैठे प्रदर्शनकारियों को बिरयानी की सप्लाई कर रही है। नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध में शाहीन बाग़ में 50 दिन से धरना चल रहा है। 

ताज़ा ख़बरें

चुनाव प्रचार के दौरान योगी आदित्यनाथ ने नागरिकता क़ानून के विरोध में प्रदर्शन करने वालों पर हमला बोला और कहा कि इनके पूर्वजों ने ही भारत का विभाजन किया था। योगी ने कहा, ‘आज आतंकवादियों को बिरयानी नहीं खिलाई जा रही है, ये बिरयानी खिलाने का शौक या तो कश्मीर के अंदर कांग्रेस को था या शाहीन बाग़ जैसी घटना में केजरीवाल को है, बीजेपी को नहीं है।’ 

योगी ने कहा, ‘पाकिस्तान का एक मंत्री केजरीवाल के समर्थन में अपील कर रहा है यानी उसे दिल्ली की जनता पर विश्वास नहीं है, अपने पाकिस्तान के आकाओं से कह करके, अपने पक्ष में बयान दिलाए जा रहे हैं। इन चेहरों को पहचान लीजिए। ये देश की सुरक्षा के लिए घातक हैं।’ 

योगी ने कहा, ‘दिल्ली में कई जगहों पर चल रहे धरने नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध के कारण नहीं हो रहे हैं, बल्कि इस वजह से हो रहे हैं कि भारत दुनिया में एक ताक़त के रूप में कैसे बनकर उभर रहा है।’ 

दिल्ली से और ख़बरें

शाहीन बाग़ में चल रहे धरने को लेकर बीजेपी नेताओं के लगातार बयान आ रहे हैं। गृह मंत्री अमित शाह कई चुनावी जनसभाओं में जनता से कह चुके हैं कि ईवीएम का बटन इतने ग़ुस्से में दबाएं कि करंट शाहीन बाग़ में लगे। पश्चिमी दिल्ली से बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा ने शाहीन बाग़ के धरने को लेकर, ‘ये लोग आपके घरों में घुसेंगे, आपकी बहन-बेटियों से रेप करेंगे’ का बयान दिया था। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने शाहीन बाग़ को तौहीन बाग़ कहा था। केंद्रीय क़ानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा था कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी नागरिकता क़ानून के नाम पर लोगों को भड़का रही हैं और अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया शाहीन बाग़ के लोगों के साथ खड़े हैं।  

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें