loader

टीएमसी सांसद ने कहा, एनसीटी बिल पर चुनावों के बाद हो बहस

तृणमूल सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू को चिट्ठी लिख कर कहा है कि जब तक पश्चिम बंगाल समेत सभी पाँच राज्यों के चुनाव संपन्न नहीं हो जाते, दिल्ली के लेफ़्टिनेंट गवर्नर और मुख्यमंत्री के अधिकारों से जुड़े बिल पर राज्यसभा में चर्चा नहीं करानी चाहिए।

उन्होंने इसे 'लोकतंत्र, संविधान और संसद के सीने में चाकू' बताते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल चुनाव के कारण टीएमसी के लोग इस बहस में भाग नहीं ले पाएंगे। लेकिन इसकी पूरी संभावना है कि बुधवार को ही यह बिल राज्यभा में भी पेश कर दिया जाए। बुधवार को सभापति ने इसके लिए देर रात तक राज्यसभा की कार्यवाही चलाने का संकेत दिया। 

ख़ास ख़बरें
बता दें कि 'द गवर्नमेंट ऑफ नेशनल कैपिटल टेरिटरी ऑफ दिल्ली (अमेंडमेंट) बिल, 2021' लोकसभा में पारित किया जा चुका है, और अब उसे राज्यसभा से पारित किया जाना बचा है। इस विधेयक के पारित होने से दिल्ली में केंद्र का प्रतिनिधित्व करने वाले उपराज्यपाल यानी लेफ़्टिनेंट गवर्नर को दिल्ली की निर्वाचित सरकार की तुलना में अधिक अधिकार मिल जाएंगे। 
डेरेक ओ ब्रायन ने वेंकैया नायडू को लिखी चिट्ठी में कहा है कि "यह विधेयक 'विधान का बेहद महत्वपूर्ण हिस्सा है', जिसका समूचे भारत पर अहम असर होगा, और अगर इसे जल्दबाज़ी में पारित किया गया, तो 'न्याय की निष्फलता होगी।"

क्या कहा है टीएमसी सांसद ने?

ममता बनर्जी के क़रीबी समझे जाने वाले इस टीएमसी राज्यसभा सदस्य ने तर्क दिया है कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के कारण तृणमूल कांग्रेस के सदस्य संसद की कार्यवाही में शामिल नहीं हो पाएंगे। डेरेक ओब्रायन ने लिखा है,  

"संसद के प्रत्येक सदस्य को अपनी बात कहने का अवसर दिया जाना चाहिए, जब सदन में इस बिल पर चर्चा हो। सदस्यों को इस अवसर से वंचित करना उत्तरादायी शासन के सिद्धांत के विरुद्ध होगा।"


डेरेक ओ ब्रायन, राज्यसभा सदस्य, तृणमूल कांग्रेस

उन्होंने यह भी कहा कि इससे क़ानून पारित करने को लेकर ग]लत उदाहरण पेश होगा।

बुधवार को ही होगी बहस?

लेकिन इसकी पूरी संभावना है कि यह विधेयक बुधवार को ही राज्यसभ में पेश कर दिया जाए। बुधवार को राज्यसभा की कार्यवाही शुरू होने के बाद सबसे पहले एआईएडीएमक सांसद मोहम्मद जॉन को श्रद्धांजलि दी गई, जिनका बीती रात चेन्नई में मृत्यु हो गई। 

TMC MP derek o brien asks venkaih naidu to postpone NCT bill till polls - Satya Hindi
दिल्ली के लेफ़्टिनेंट गर्वनर अनिल बैजल के साथ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल

जब सदन की कार्यवाही फिर शुरू हुई, तो राज्यसभा चेयरमैन की ओर से कहा गया कि वित्त विधेयक पर चर्चा के लिए 8 से 9 घंटे का समय है, इसके बाद ही एनसीटी संशोधन बिल पेश किया जा सकता है।

यह भी कहा गया है कि ज़रूरत पड़ने पर राज्यभा की कार्यवाही देर रात तक चल सकती है। यानी, इससे यह तो साफ़ है कि सभापति इस बिल को बुधवार को पेश कराने की अनुमति देने को तैयार हैं। इसका अर्थ यह हुआ कि उन्होंने डेरेक ओ ब्रायन की चिट्ठी को नज़रअंदाज कर दिया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें