loader

कन्हैया लाल मर्डर मामले की जांच करे एनआईए: गृह मंत्रालय 

गृह मंत्रालय ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) से कहा है कि वह उदयपुर के कन्हैया लाल मर्डर मामले की जांच करे। गृह मंत्रालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि कन्हैया लाल की हत्या के मामले में किसी भी संगठन या किसी भी अंतरराष्ट्रीय लिंक के होने की भी गहराई से जांच पड़ताल की जाए। 

बता दें कि कन्हैया लाल की मंगलवार को दो लोगों ने दुकान में घुसकर हत्या कर दी थी। हत्या करने वाले दोनों ही लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने एक वीडियो जारी कर हत्या की जिम्मेदारी ली थी। कन्हैया लाल की हत्या बीजेपी नेता नूपुर शर्मा की विवादित टिप्पणी का समर्थन किए जाने को लेकर की गई थी। 

इसके बाद उदयपुर में जोरदार हंगामा हुआ और पुलिस को कर्फ्यू लगाना पड़ा। 24 घंटे के लिए इंटरनेट भी बंद कर दिया गया है। 

हत्यारों ने कन्हैया लाल की हत्या करने के बाद जो वीडियो जारी किया था उसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी धमकी दी गई थी। हालात को देखते हुए पूरे राजस्थान में धारा 144 लागू कर दी गई है।

ताज़ा ख़बरें

एएसआई निलंबित

हत्या से कुछ दिन पहले कन्हैया लाल को धार्मिक भावनाएं भड़काने जाने के मामले में गिरफ्तार किया गया था और उन्होंने जमानत पर रिहा होने के बाद पुलिस से सुरक्षा भी मांगी थी।

लेकिन बाद में सुलह समझौता होने के बाद पुलिस उनकी सुरक्षा के मामले में आगे नहीं बढ़ी और इसलिए उनकी हत्या में पुलिस की बड़ी चूक मानी जा रही है। 

इसलिए धानमंडी पुलिस स्टेशन के असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर भंवर लाल को निलंबित कर दिया गया है। 

Udaipur tailor Kanhaiya Lal murder NIA take over probe - Satya Hindi

कन्हैया लाल को लगातार जान से मारने की धमकियां मिल रही थीं और इस बारे में उन्होंने पुलिस से शिकायत भी की थी। 

पाकिस्तानी संगठन से संबंध! 

इस मामले में गिरफ्तार किए गए दोनों अभियुक्त रियाज अहमद और गौस मोहम्मद का पाकिस्तान के एक कट्टरपंथी संगठन से संबंध होने की बात भी सामने आई है। यह दोनों पाकिस्तान में सक्रिय दावत-ए-इस्लामी नाम के संगठन से जुड़े हुए थे। दोनों अभियुक्तों को मंगलवार रात को राजसमंद से गिरफ्तार कर लिया गया था और अभी उन्हें जेल में रखा गया है। इस मामले में तीन और लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 

दिल्ली से और खबरें

नवीन जिंदल को धमकियां

इस बीच बीजेपी के पूर्व नेता नवीन जिंदल ने भी कुछ ऐसे ई-मेल के स्क्रीनशॉट्स को जारी किया है जिसमें उन्हें कन्हैया लाल के जैसा अंजाम भुगतने की धमकी दी गई है। इससे पहले नवीन जिंदल के परिवार को इन धमकियों के चलते दिल्ली छोड़कर जाना पड़ा था। नवीन जिंदल को पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी करने के चलते बीजेपी ने पार्टी से निकाल दिया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें