loader
फ़ोटो क्रेडिट- CREATIVE COMMONS

विवाहित जोड़े को गोली मारी, पति की मौत, हाई कोर्ट से मांगी थी सुरक्षा

घरवालों की मर्जी के ख़िलाफ़ शादी करने वाले विवाहित जोड़े को गोली मार दी गई। हैरान करने वाली बात यह है कि ये घटना देश की राष्ट्रीय राजधानी में हुई है और विवाहित जोड़े ने हाई कोर्ट से सुरक्षा भी मांगी थी। घटना द्वारका के अमराई गांव में हुई है। 

पुलिस ने कहा है कि गुरूवार को छह-सात लोग इस विवाहित जोड़े के घर में घुस गए और 10 राउंड गोलियां चलाईं। इसमें 24 साल के विनय दहिया की मौत हो गई जबकि 19 साल की उसकी पत्नी किरण की हालत गंभीर है। विनय टैक्सी चलाता था। 

आस-पास के लोग जब वहां पहुंचे तो विनय की लाश रोड पर पड़ी थी और किरण बिल्डिंग की छत पर जख़्मी हालत में थी। वे दोनों तीन-चार दिन पहले ही यहां के एक नए घर में आए थे। 

ताज़ा ख़बरें
यह पूरी तरह ऑनर किलिंग का मामला है जिसमें लड़की के परिजनों को उनकी बेटी का किसी लड़के के साथ अपनी मर्जी से शादी करना पसंद नहीं आया और उन्होंने दोनों को मौत के घाट उतारना तय कर लिया।

ताबड़तोड़ फ़ायरिंग 

लोगों ने कहा कि विनय और किरण ने बचने की कोशिश की लेकिन हत्यारे उन पर पांच मिनट तक फ़ायरिंग करते रहे। पुलिस ने कहा है कि विनय को चार गोलियां जबकि किरण को पांच गोलियां मारी गई हैं। हमले के बाद पुलिस ने किरण के परिजनों को हिरासत में ले लिया है। 

पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने 19 अगस्त, 2020 को दिए अपने फ़ैसले में सोनीपत के पुलिस अधीक्षक से कहा था कि वे इस मामले में विवाहित जोड़े की ओर से लगाए गए आरोपों की जांच कर सच का पता लगाएं। 

दोनों ने पिछले साल 13 अगस्त को शादी की थी। किरण की मां ने उसी दिन सोनीपत के खरखौदा पुलिस थाने में अपनी बेटी के अपहरण की एफ़आईआर दर्ज कराई थी। 

दिल्ली से और ख़बरें

नहीं दी गई थी सुरक्षा 

विवाहित जोड़े के वकील अभिमन्यु कलसी ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को बताया कि किरण के परिवार वाले इस शादी के ख़िलाफ़ थे और उन्हें जान से मारने की धमकियां दे रहे थे। 

कलसी ने कहा कि विवाहित जोड़े को किसी तरह की सुरक्षा नहीं दी गई थी। इस मामले में किरण के परिवार वालों ने विनय के ख़िलाफ़ एफ़आईआर भी दर्ज कराई थी। इसमें कहा गया था कि जब विनय ने उनकी बेटी से शादी की तो वह नाबालिग थी। 

जान गंवाने को मजबूर 

अंतरजातीय या अंतरधार्मिक विवाहों का भारतीय समाज में अभी भी जबरदस्त विरोध होता है। ये विरोध इतना ज़्यादा है कि परिजन ऑनर किलिंग पर उतर आते हैं और कई राज्यों में इसे लेकर क़ानून तक बना दिए गए हैं। सड़-गल चुकी या पुरानी रवायतों को मानने से इनकार करने वाले युवा जोड़ों को इसका खामियाजा इसी तरह उठाना पड़ता है और कई बार अपनी जान भी गंवानी पड़ती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें