loader

क्या दिल्ली दंगों में योगेंद्र यादव को फँसाना चाहती है पुलिस? 

क्या दिल्ली पुलिस योगेंद्र यादव को फँसाना चाहती है? दिल्ली दंगों की चार्ज शीट में स्वराज इंडिया के इस नेता का नाम क्यों है? योगेंद्र यादव ने हिंसा में किसी तरह की भूमिका से साफ़ इनकार किया है। उस समय किए उनके ट्वीट देखने लगता है कि वह हिंसा भड़काने में शामिल नहीं ही थे, बल्कि वह लोगों को शांत करने की कोशिश ही कर रहे थे। लेकिन दिल्ली पुलिस का रवैया इसके ठीक उलट जान पड़ता है। 

अभियुक्त नहीं हैं योगेंद्र

उत्तर पूर्वी दिल्ली में हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल की हत्या के मामले में दाखिल चार्जशीट में छात्र नेता कंवलप्रीत कौर और एडवोकेट डी. एस. बिंद्रा के साथ योगेन्द्र यादव के नाम का भी ज़िक्र है। इनके नाम 17 अभियुक्तों  की सूची में शामिल नहीं हैं। अभियुक्त के बयानों में इनके नाम दिखाए गए हैं। 
चार्ज शीट में अभियुक्त नज़म उल हसन के बयान में दूसरे लोगों के साथ यादव का नाम लिया गया है। उसमें हसन ने कहा, 'प्रदर्शन शुरू हो गया। वहाँ बाहर से लोगों को बुलाते थे, जिनमें एडवोकेट भानु प्रताप, एडवोकेट डी. एच. बिंद्रा, योगेंद्र यादव तथा जेएनयू, जामिया और डीयू के बहुत से छात्र आते थे।' 
yogendra yadav in delhi riots charge sheet police ploy to frame  - Satya Hindi
अभियुक्त नज़म- उल- हसन के बयान में योगेंद्र यादव का नाम

क्या है चार्जशीट में?

चार्जशीट में शादाब अहमद को मुख्य साजिशकर्ता बताया गया है। इस चार्ज में कहा गया है कि मुताबिक़, शादाब कंवलप्रीत कौर (एआईएसए), देवांगना कलिता (पिंजड़ा तोड़), सफ़ूरा, योगेंद्र यादव को जानता था, जो विरोध प्रदर्शन की जगह पर जाते थे और नफ़रत फैलाने व लोगों को हिंसा के उकसाने वाले भाषण दिया करते थे। 
yogendra yadav in delhi riots charge sheet police ploy to frame  - Satya Hindi
अभियुक्त शादाब अहमद के बयान में योगेंद्र यादव का नाम
दिल्ली पुलिस ने दंगों की चार्ज शीट में साफ़ तौर पर योगेंद्र यादव पर नफ़रत फैलाने और हिंसा के लिए उकसाने के आरोप लगाए हैं।
चार्ज शीट में एक जगह यह भी कहा गया है कि चाँद बाग में विरोध प्रदर्शन की जगह पर 24 फरवरी को हिंसा फैलाने और लोगों को उकसाने की योजना थी, जिसका मक़सद लोगों की जान और संपत्ति का नुक़सान था। आयोजकों के तार डी. एस. बिंद्रा, कंवलप्रीत कौर, देवांगना कलिता, सफ़ूरा और योगेंद्र यादव जैसे लोगों से जुड़ने से विरोध के पीछे किसी गुप्त अजेंडा का संकेत मिलता है। 

गवाह के बयान

चार्जशीट में यादव का नाम चाँद बाग़ विरोध स्थल से एक गवाह के बयान में भी आता है: 'यहाँ विरोध शुरू हुआ। बाहर से लोगों को बुलाया जाता था और भानु प्रताप, बिंद्रा, यादव और जेएनयू, जामिया व डीयू के कई छात्र आते थे, जो सरकार और एनआरसी के ख़िलाफ़ बोलते थे और कहते थे कि मुसलमानों को चिंतित होना चाहिए। यह 50 दिनों के लिए जनवरी से 24 फ़रवरी तक जारी रहा।'
yogendra yadav in delhi riots charge sheet police ploy to frame  - Satya Hindi
एक गवाह के बयान में योगेंद्र यादव का नाम
इन तीन बातों से यह साफ़ है कि दिल्ली पुलिस यह कहना चाहती है कि योगेंद्र यादव अपरोक्ष रूप से हिंसा के लिए ज़िम्मेदार हैं। 

क्या कहना है योगेंद्र यादव का?

लेकिन यादव इससे इनकार करते हैं। उन्होंने 'द इंडियन एक्सप्रेस' से कहा, 

'मैंने जो कुछ भी कहा है वह सब पब्लिक डोमेन में है। कृपया एक उदाहरण बताएँ जहाँ मैंने प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से किसी भी तरह की हिंसा को उकसाया है।'


योगेंद्र यादव, प्रमुख, स्वराज इंडिया

योगेंद्र यादव के ट्वीट

स्वराज इंडिया के इस नेता ने 24 फरवरी को ट्वीट कर कहा कि 'मोदी के बारे में जो भी राय हों, ट्रंप भारत के राजकीय अतिथि के रूप में राष्ट्रीय राजधानी में मौजूद होंगे।' उन्होंने कहा, 'मैं सीएए-विरोधी आन्दोलनकारियों से अपील करता हूँ कि जब तक अमेरिकी राष्ट्रपति मौजूद हैं, वे तब तक कोई विरोध प्रदर्शन न करें।' 
yogendra yadav in delhi riots charge sheet police ploy to frame  - Satya Hindi

योगेंद्र यादव ने 24 फरवरी को एक और ट्वीट कर दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल रतन लाल की मृत्यु पर दुख जताते हुए कहा कि 'वह न तो सीएए के समर्थक थे न ही विरोधी, वह तो बस अपनी ड्यूटी कर रहे थे।' उन्होंने यह भी कहा कि 'रतन लाल की मौत न केवल दुखद और निंदनीय है, बल्कि सभी पक्षों से सार्वजनिक जीवन से जुड़े हर आदमी के लिए शर्मनाक है।' 

yogendra yadav in delhi riots charge sheet police ploy to frame  - Satya Hindi

'हाथ हमारा नहीं उठेगा'

योगेंद्र यादव ने 24 फरवरी को ही एक और ट्वीट किया। उसमें वह कहते हैं कि 'गोडसे के अनुयायी इस स्तर तक नीचे उतर सकते है, गाँधी के अनुयायियों को उनके स्तर तक ऊपर उठना होगा।' वे अपील करते हैं, 'गुंडे आपको भड़काएंगे, पुलिस भेदभावपूर्ण रवैया अपनाएगी, पर हमें किसी सूरत में बदला नहीं लेना है।' वह कहते हैं, 'हमला चाहे जैसा हो, हाथ हमारा नहीं उठेगा।'
yogendra yadav in delhi riots charge sheet police ploy to frame  - Satya Hindi

पुलिस कार्रवाई का समर्थन

योगेंद्र यादव दिल्ली दंगों के दौरान पुलिस कार्रवाई का समर्थन ही नहीं करते, बल्कि कहते हैं कि उसे यह काम पहले ही करना चाहिए था। उन्होंने 26 फरवरी को ट्वीट कर कहा, 'कल रात से , शायद हाई कोर्ट के आदेश के बाद से, दिल्ली पुलिस स्थिति पर प्रतिक्रिया देती दिख रही है। देखते ही गोली मारने का आदेश दे दिया गया है, यह काम उन्हें कल ही करना चाहिए था।'
yogendra yadav in delhi riots charge sheet police ploy to frame  - Satya Hindi
योगेंद्र यादव के ट्वीट से यही पता चलता है कि वह हिंसा के ख़िलाफ़ थे। वह रतन लाल की हत्या को शर्मनाक बताते हैं, अमेरिकी राष्ट्रपति की मौजूदगी में प्रदर्शन नहीं करने की सलाह देते हैं, वह हमला होने पर भी हाथ नहीं उठाने की अपील करते हैं और दंगों के दौरान देखते ही गोली मारने के आदेश को सही ठहराते हैं।
दिल्ली पुलिस ने अब तक योगेंद्र यादव को अभियुक्त नहीं बनाया है। पर वह इस चार्जशीट में नाम आने के कारण किसी न किसी बहाने पूछताछ कर सकती है। उस दौरान पुलिस का क्या रवैया होगा और उसका क्या नतीता होगा, यह अधिक महत्वपूर्ण होगा। 
Satya Hindi Logo सत्य हिंदी सदस्यता योजना जल्दी आने वाली है।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें