loader

क्या कांग्रेस की रैली में लहराया गया पाकिस्तानी झंडा?

सोशल मीडिया पर एक विडियो शेयर किया जा रहा है जिसमें दावा किया गया है कि कांग्रेस की रैली में पाकिस्तान का झंडा लहराया गया। विडियो राजस्थान के जोधपुर जिले के टिउरी गाँव का बताया गया है। आइए, पड़ताल करते हैं कि क्या वास्तव में कांग्रेस की रैली में पाकिस्तान का झंडा लहराया गया। पहले देखते हैं विडियो और सुनते हैं कि उसमें क्या कहा जा रहा है।
अब देखिए कि किन-किन लोगों ने इसे शेयर किया है।
pakistan flag in congress rally in jodhpur fake news - Satya Hindi
स्क्रीनशॉट क्विंट से साभार
अब हम आपको बताते हैं कि वास्तव में सच्चाई क्या है। पहले देखिए कांग्रेस की रैली में लहराया गये झंडे की तस्वीर और उसकी तुलना कीजिए पाकिस्तानी झंडे से जो उसके ठीक बाद हमने लगाई है। क्या उनमें हरे रंग और सफ़ेद पट्टी के अलावा कोई समानता है?
pakistan flag in congress rally in jodhpur fake news - Satya Hindi
pakistan flag in congress rally in jodhpur fake news - Satya Hindi
आप देख सकते हैं कि कांग्रेस की रैली में लहराया गया झंडा और पाकिस्तान का झंडा पूरी तरह अलग हैं। यह संभवतः किसी मुसलिम संगठन का झंडा है। पाकिस्तान के झंडे में एक किनारे पर सफ़ेद पट्टी है और बाक़ी हिस्से में हरे रंग की पट्टी में चाँद-तारा बना है जबकि विडियो में दिखाए गए झंडे में भी हरा रंग है लेकिन हरे रंग पर मीनार बनी है और दोनों ओर सफ़ेद रंग की पट्टी बनी है।ज़ाहिर है कि कांग्रेस की रैली में पाकिस्तान का झंडा लहराने का यह दावा पूरी तरह झूठ है। राजस्थान पुलिस ने भी एक ट्वीट करके इसे झूठा बताया है और कहा है कि जिस व्यक्ति ने यह शरारत की है, उसकी तलाश की जा रही है। 
तो भाइयो और बहनो, जिस तरह हर तीन रंगों वाला झंडा तिरंगा नहीं होता, उसी तरह हर हरा झंडा पाकिस्तानी झंडा नहीं होता। लेकिन मुसलमानों से घृणा करने वाले कट्टरपंथियों को हर हरे रंग में पाकिस्तानी झंडा ही नज़र आता है। मगर आप अपनी आँखें और दिमाग़ को खुला रखिए और अगली बार जब कभी फ़ेसबुक या वॉट्सऐप पर ऐसा कोई पोस्ट देखें तो ख़ुद ही पता करें कि क्या वह वाक़ई पाकिस्तानी झंडा है। नहीं समझ आए तो हमें contact@satyahindi.com पर वह पोस्ट शेयर करें। हम उसकी पडताल करेंगे और बताएँगे कि सच क्या है।
Satya Hindi Logo लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा! गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने के लिए 'सत्य हिन्दी' के साथ आइए। नीचे दी गयी कोई भी रक़म जो आप चुनना चाहें, उस पर क्लिक करें। यह पूरी तरह स्वैच्छिक है। आप द्वारा दी गयी राशि आपकी ओर से स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) होगा, जिसकी जीएसटी रसीद हम आपको भेजेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असत्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें