loader

रघुवर दास की जूतों से पिटाई वाली वायरल ख़बर का सच

झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास को जूतों से पीटा गया। ये दावा एक न्यूज़ साइट 'वायरल इन इंडिया' ने किया है। 'वायरल इन इंडिया' ने इस ख़बर का शीर्षक 'बड़ी खबर- बीजेपी के मुख्यमंत्री को मारे गए जूते, सभी 500 लोगों पे केस दर्ज' दिया है। ख़बर में आगे लिखा गया कि 'झारखंड में सत्तारूढ़ बीजेपी की सरकार जनता के विरोध को हजम नहीं कर पा रही है।' 'प्रदेश की जनता ने मुख्यमंत्री रघुवर दास का जूते और चपल्लों के साथ विरोध किया गया है।'
shoes hurled at jharkhand cm raghubar das fake news  - Satya Hindi
'वायरल इन इंडिया' पर प्रकाशित ख़बर का स्क्रीन शाॅर्ट
ख़बर में आगे दावा किया गया कि 'मुख्यमंत्री रघुवर दास एक शहीद को श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे, लेकिन उन्हें इस बात का अंदाजा नहीं था कि यहां पर बीजेपी के सताए लोग उन पर ही जूते चप्पल की बरसात कर देंगे।' 'वायरल इन इंडिया' ने यह ख़बर अपनी साइट पर 9 जनवरी 2019 को प्रकाशित की थी।   

ख़बर की सच्चाई

जब हमने इस ख़बर की सच्चाई जानने के लिए गूगल पर झारखंड के मुख्यमंत्री 'रघुवर दास' का नाम सर्च किया, तो वहां पर ऐसी कोई भी ख़बर नहीं थी जो वायरल हो रही ख़बर पर मुहर लगाती हो। इसके बाद जब हमने अपनी पड़ताल को आगे बढ़ाया तो हमें एक न्यूज़ वेबसाइट 'हिंदुस्तान टाइम्स' पर ऐसी ही एक ख़बर दिखाई दीं। लेकिन यहां पर यह ख़बर आज से 2 साल पहले 1 जनवरी 2017 को प्रकाशित की गई थी। 'हिंदुस्तान टाइम्स' के मुताबिक ये मामला झारखंड के खरसावां गाँव का है। 

shoes hurled at jharkhand cm raghubar das fake news  - Satya Hindi
2 जनवरी, 2017 को 'हिंदुस्तान टाइम्स' पर प्रकाशित हुई ख़बर
मुख्यमंत्री रघुवर दास यहां शहीद स्थल पर आयोजित शहीद दिवस समारोह में शहीदों को श्रद्धांजलि देने पहुँचे थे। इस दौरान रघुवर दास को आदिवासी समुदाय के लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ा। ख़बर के मुताबिक इस दौरान आदिवासी समुदाय के लोगों ने मुख्यमंत्री को काला झंडा दिखाते हुए वापस जाओ के नारे भी लगाए थे। श्रद्धांजलि देने के बाद रघुवर दास का काफ़िला जब वहां से निकल गया, तो बाद में लोगों ने वहां पर जूते-चप्पल उछाले। यानी कि उस दौरान रघुवर दास को कोई जूता नहीं लगा था।
इस पूरे मामले को ज़्यादातर मीडिया हाउस ने रिपोर्ट किया था।
shoes hurled at jharkhand cm raghubar das fake news  - Satya Hindi
अमर उजाला पर प्रकाशित ख़बर का स्क्रीन शाॅर्ट
2 साल पुरानी ख़बर को 9 जनवरी को तोड़-मरोड़ कर प्रकाशित किया गया। हमारी पड़ताल में रघुवर दास की जूतों से पिटाई और 500 लोगों पर केस दर्ज होने की बात पूरी तरह से झूठी साबित हुई।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असत्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें