loader

गोवा संकट: मैं कांग्रेस के साथ हूं- माइकल लोबो

गोवा कांग्रेस में आया सियासी संकट खत्म होता दिख रहा है। राज्य में कांग्रेस के 11 में से 10 विधायक सोमवार शाम को हुई एक बैठक में मौजूद रहे। लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री दिगंबर कामत इस बैठक से गैरहाजिर रहे। इस बीच विधायक माइकल लोबो ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा है कि वह कांग्रेस के साथ हैं।

कांग्रेस ने सोमवार को विधानसभा स्पीकर से दिगंबर कामत और माइकल लोबो के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कहा था। कांग्रेस ने माइकल लोबो को विधानसभा में विपक्ष के नेता के पद से भी हटा दिया था।

कांग्रेस ने कहा था कि माइकल लोबो और दिगंबर कामत बीजेपी के साथ मिलकर उसे कमजोर करने की साजिश रच रहे हैं।

ख़ास ख़बरें

सावंत से की मुलाकात 

बता दें कि यह सियासी संकट शनिवार को तब शुरू हुआ था जब तीन विधायक कांग्रेस की बैठक में नहीं पहुंचे थे। बाद में यह खबर आई कि चार से पांच विधायकों ने गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत से मुलाकात की है। सियासी हालात पर नजर रखने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने वरिष्ठ नेता मुकुल वासनिक को गोवा भेजा था। बगावत करने वाले विधायकों में  माइकल लोबो, दलीला लोबो, दिगंबर कामत, केदार नाइक और राजेश फलदेसाई का नाम सामने आया था। 

Goa Congress crisis Michael Lobo  - Satya Hindi

लोबो ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा कि इस मामले को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया। उन्होंने कहा कि इस मामले में कुछ गलतफहमी रही और वह पार्टी नेतृत्व को इस बारे में सफाई देंगे। लोबो ने कहा कि पार्टी में ही कुछ लोग ऐसे हैं जो उन्हें पीछे धकेलना चाहते हैं। 

राज्य सरकार में रहते हुए कई अहम विभाग संभाल चुके लोबो ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी दिनेश गुंडू राव से बात की है और अपना स्टैंड क्लियर किया है। उन्होंने कहा कि वह पहले ही कह चुके हैं कि वह कांग्रेस के साथ हैं।
लोबो ने कहा कि वह कांग्रेस में नए हैं और उन्हें अभी यह समझने में वक्त लगेगा कि कांग्रेस कैसे काम करती है।
गोवा से और खबरें

बीजेपी के साथ थे लोबो 

हालांकि लोबो ने कहा है कि वह कांग्रेस के साथ हैं लेकिन फिर भी पक्के तौर पर कुछ कह पाना संभव नहीं है क्योंकि छोटे से राज्य गोवा में विधायकों में टूट बड़े पैमाने पर होती रही है। माइकल लोबो बीजेपी की पिछली सरकार में मंत्री थे और विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस में शामिल हुए थे। 

कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी उसके छह विधायकों को राज्य से बाहर ले जाने की तैयारी में थी और बीजेपी के एक बड़े नेता इन सभी विधायकों के संपर्क में थे। यह भी कहा गया था कि हर विधायक को 15 से 20 करोड़ रुपये देने का ऑफर था। हालांकि बीजेपी ने इस तरह की खबरों को बेबुनियाद बताया था और इसे कांग्रेस का आंतरिक संकट बताया था।

गोवा से ठीक पहले महाराष्ट्र में सियासी संकट खड़ा हो चुका है जहां पर शिवसेना के एकनाथ शिंदे गुट के विधायकों ने पार्टी से बगावत की और बीजेपी के साथ मिलकर राज्य में सरकार बना ली।

2019 में हुई थी टूट

गोवा कांग्रेस में साल 2019 में बड़ी टूट हुई थी जब उसके 15 में से 10 विधायक पार्टी छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गोवा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें