loader

गोवा: बीजेपी के साथ रही एमजीपी का टीएमसी के साथ हुआ गठबंधन 

गोवा के विधानसभा चुनाव में जोर-शोर से उतर रही टीएमसी को बीजेपी के एक पुराने सहयोगी दल का साथ मिल गया है। सहयोगी का नाम है- महाराष्‍ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी)। एमजीपी के अध्यक्ष सुदीन धवलीकर हैं, जिन्होंने 2017 में बीजेपी की सरकार बनाने में मदद की थी। लेकिन बीजेपी ने एमजीपी के ही दो विधायकों को तोड़ लिया था और इसके बाद सुदीन धवलीकर को सरकार से बाहर का रास्ता दिखा दिया था। 

एमजीपी और टीएमसी के बीच इस गठबंधन का एलान टीएमसी की सांसद महुआ मोइत्रा और एमजीपी के नेता दीपक धवलीकर ने किया। 

एनडीटीवी के मुताबिक़, 40 सीटों वाली गोवा विधानसभा में एमजीपी 9 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है। 

ताज़ा ख़बरें
गोवा में तीन महीने के भीतर विधानसभा के चुनाव होने हैं। इस छोटे से राज्य में हालांकि टीएमसी का कोई आधार नहीं है लेकिन ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल से बाहर निकलकर गोवा में भी अपनी सरकार बनाना चाहती हैं। 

गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री लुईजिन्हो फलेरो को टीएमसी ने राज्यसभा सांसद बना दिया है और फलेरो गोवा में टीएमसी का विस्तार करने में जुटे हैं। वह राज्य की राजनीति के बड़े चेहरों को टीएमसी के साथ लाने के काम में जुटे हैं। 

TMC MGP alliance In Goa election 2022  - Satya Hindi

गोवा फ़ॉरवर्ड पार्टी कांग्रेस के साथ 

कुछ दिन पहले ही गोवा फ़ॉरवर्ड पार्टी ने कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ने का एलान किया था। गोवा फ़ॉरवर्ड पार्टी इससे पहले बीजेपी के साथ थी लेकिन इस बार उसने कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ने का फ़ैसला किया है। कुछ दिन पहले जीएफ़पी को तगड़ा झटका तब लगा था जब इसके कार्यकारी अध्यक्ष किरन कांडोलकर टीएमसी में शामिल हो गए थे। 

गोवा से और ख़बरें

बीजेपी को एक और झटका तब लगा जब उसके बाग़ी कार्यकर्ताओं ने सलाइगो विधानसभा सीट पर पार्टी के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ने का एलान कर दिया। ये लोग यहां के पूर्व विधायक जयेश सलगांवकर के बीजेपी में शामिल होने से नाराज़ हैं। 

जोड़-तोड़ कर बनाई थी सरकार 

2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 13 सीटों पर जीत मिली थी जबकि कांग्रेस 17 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी। लेकिन बीजेपी ने जोड़-तोड़ कर सरकार बना ली थी। उसने कांग्रेस के विधायकों में सेंध लगाई थी और 15 में से 10 विधायक बीजेपी में शामिल हो गए थे थे। बीजेपी ने महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को गोवा का प्रभारी बनाया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गोवा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें