loader

गुजरात बीजेपी में असंतोष, नई सरकार में एक भी पुराना चेहरा नहीं

'पार्टी वद अ डिफरेंस' और 'समर्पित व अनुशासित कार्यकर्ताओं की पार्टी' कही जाने वाली बीजेपी में भारी असंतोष है। यह असंतोष कहीं और नहीं, बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के गृह राज्य गुजरात में है। 

गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने इस्तीफ़ा तो दे दिया, नए मुख्यमंत्री का चुनाव भी शांतिपूर्वक हो गया। पर उसके बाद सरकार गठन को लेकर सिर फुटौव्वल इतनी तेज़ हो गई कि मंत्रियों का शपथ ग्रहण समारोह टालना पड़ा।

यहीं पेच फँसा हुआ था। नई सरकार का जो फॉर्मूला दिया गया था, उस वजह से ही । यह फ़ॉर्मूला यह था कि विजय रूपाणी सरकार का कोई मंत्री नई सरकार में नहीं होगा, बिल्कुल नहीं सरकार होगी। मुख्यमंत्री समेत सभी मंत्री नए होंगे, पुराना चेहरा एक नहीं होगा।

ख़ास ख़बरें

सरकार का फ़ॉर्मूला

इस फ़ॉर्मूले की वजह यह बताई जा रही है कि बीजेपी एंटी-इनकम्बेन्सी यानी सरकार विरोधी भावनाओं को पहले से ही भाँप चुकी है और यह समझती है कि राज्य सरकार के ख़िलाफ़ लोगों का गुस्सा चरम पर है। सरकार के कामकाज और ख़ास कर कोरोना महामारी के दौरान उसकी लापरवाही व बदइंतजामी से लोग उबल रहे हैं। 

ऐसे में बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व यह संकेत देना चाहता है कि बिल्कुल ब्रांड न्यू सरकार, पिछली सरकार के लिए इन्हें ज़िम्मेदार ठहराना ठीक नहीं। पार्टी का मानना है कि इससे लोगों का गुस्सा शांत होगा। 

लेकिन गुजरात बीजेपी के पुराने व अनुभवी ही नहीं, अपेक्षाकृत नए और तेज़-तर्रार नेताओं का राजनीतिक कैरियर दाँव पर लग गया।

जातीय समीकरण गड़बड़

दूसरी दिक्क़त यह है कि इस फ़ार्मूले से जातीय समीकरण गड़बड़ हो सकता है, क्योंकि इस पर चल कर कुछ जातियों का प्रतिनिधित्व सरकार में नहीं हो सकेगा। उन जातियों के नेता विधायक नहीं है या हैं तो बहुत ही जूनियर हैं। ऐसे में जो जाति छूट जाएगी, विपक्ष चुनाव के समय उसी जाति में सेंध लगा सकता है। बीजेपी के लिए घाटे का सौदा होग। 

इन फ़ार्मूले का सबसे मुखर विरोधी पूर्व मुख्यमंत्री रूपाणी कर रहे हैं। उनका तर्क है कि सभी मंत्रियों को हटाने से लोगों और पार्टी कार्यकर्ताओं में ग़लत संकेत जाएगा। 

new faces in Gujarat BJP govt - Satya Hindi
कांग्रेस छोड़ कर जो लोग बीजेपी में शामिल हुए थे, वे भी परेशान हैं। वे आख़िर राजनीतिक फ़ायदे और पद की उम्मीद में ही तो बीजेपी में शामिल हुए थे। पर उन्हें कुछ न मिला तो उनका विरोध स्वाभाविक है। 
पहले शपथ ग्रहण समारोह 15 सितंबर बुधवार को होना था। इसे टाल कर अगले दिन यानी गुरुवार को कर दिया गया। 
सबसे बड़ा सवाल तो यह है कि नई सरकार क्या पूरे गुजरात का प्रतिनिधित्व कर पाएगी? क्या सभी जातियों के लोग इसमें होंगे? क्या इससे गुजरात बीजेपी को लेने के देने तो नहीं पड़ जाएंगे?
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें