loader

‘वाइब्रेंट गुजरात’ से किनारा क्यों कर रहे हैं बड़े देश?

ब्रिटेन, अमरीका, रूस, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया समेत तमाम बड़े और प्रमुख देश इस बार ‘वाइब्रेंट गुजरात’ में हिस्सा नहीं लेंगे। प्रधानमंत्री मोदी चुनाव वर्ष में इसका उद्घाटन करेंगे। सारी दुनिया की मीडिया समेत लोकल मीडिया को भरपूर कवरेज के लिए तैनात करने का काम पूरे उरूज पर था कि तभी इस सूचना की पुष्टि हुई। 18 से 20 जनवरी तक होने वाले इस समिट के लिये ब्रिटिश सरकार ने आधिकारिक तौर पर 'नहीं' कह दिया है, जबकि अमरीका, ऑस्ट्रेलिया आदि ‘नो कमेंट’ कहकर सूचना की पुष्टि नहीं कर रहे हैं।

भारत में एफ़डीआई लाने में मॉरिशस, सिंगापुर और जापान के बाद दुनिया का चौथा राष्ट्र ब्रिटेन ही है। पिछले सारे ‘वाइब्रेंट गुजरात’ कार्यक्रमों में ब्रिटिश पंडाल था, पर उनका अनुभव बहुत कड़वा है। अंग्रेजी अख़बार 'इंडियन एक्सप्रेस' को भारत स्थित उच्चायुक्त में तैनात एक आला अफ़सर ने बताया, 'हमने मंत्रियों और व्यापारियों को इंग्लैंड से इस सम्मिट में लाने में हर बार 50,000 पाउंड से ज़्यादा ख़र्च किए, पर नतीजा उत्साहवर्धक नहीं निकला'। 

  • सितंबर 2018 में एक बड़ा प्रतिनिधिमंडल लेकर गुजरात सरकार के मुख्य सचिव एम. के. दास लंदन गए थे। उनकी वहाँ व्यापारियों और सरकार के नुमाइंदों से कई बैठकें हुई थीं। लंदन स्थित भारतीय उच्चायुक्त कार्यालय की पहल पर बैठकों में अच्छी उपस्थिति भी रही, पर भोजन-भजन के बाद सब ठन-ठन गोपाल रहा! यहाँ तक कि पोंटाक यूके नाम की कंपनी से हस्ताक्षरित एमओयू के मामले में भी शीतलहर पसर गई।
राहुल गांधी ने भी नव वर्ष की पूर्व संध्या पर इस प्रसंग में चुटकी ली 'स्पांसर नमो का भाषण सुनने को अब तैयार नहीं हैं!' इसके जवाब में गुजरात के मुख्यमंत्री रूपानी ने राहुल गाँधी को बेशर्म-झूठा कहा और दावा किया कि इस बार कहीं ज़्यादा देशों की हिस्सेदारी इस समिट में होने जा रही है। पर उन्होंने ब्रिटेन और अमेरिका का नाम नहीं लिया।

 

दिसंबर 2018 में वडोदरा आए अमरीकी कौंसुल जनरल एडगार्ड डी. केगन ने भी पत्रकारों के पूछने पर साफ़ कर दिया था कि अमरीका इस बार समिट का पार्टनर नहीं है।ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड पहले से ही इसको लेकर बहुत उत्साहित नहीं रहे। सिर्फ़ फ़्रांस और जापान दो बड़े नाम हैं, जो यहाँ इस बार आ रहे हैं। दोनों के यहाँ आने की व्यापारिक वजहें भी हैं और यह कारण भी है कि दोनों के राष्ट्र प्रमुखों से मोदी जी कई-कई बार मिल चुके हैं। 

कुल मिलाकर चुनाव वर्ष में ‘वाइब्रेंट गुजरात’ एक नया विवादित मसला बनने जा रहा है!

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें