loader
प्रतीकात्मक तस्वीर

असम की महिला के थाने में कपड़े उतारे, बुरी तरह पीटा

पूर्वोत्तर के लोगों के साथ दिल्ली-एनसीआर में अत्याचार होने की ख़बरें आती रहती हैं। इसे लेकर पूर्वोत्तर के संगठन आवाज़ भी उठाते हैं और सरकारें भी उन्हें उनकी सुरक्षा का भरोसा देती हैं। लेकिन शायद देश के बाक़ी हिस्सों के लोग आज भी उनके प्रति पूर्वाग्रह से ग्रसित हैं। अगर ऐसा नहीं होता तो क्या असम की एक महिला के साथ गुरुग्राम में पुलिस इतनी दरिंदगी करती, जिसे सुनकर एक बार को आप कांप उठेंगे और पूछेंगे कि आख़िर पुलिस जाहिलियत पर क्यों उतर आई। 

30 वर्षीय महिला गुरुग्राम के डीएलएफ़ फेज़ वन के एक बंगले में घरेलू सहायिका के रूप में काम करती है। महिला जिस बंगले में काम करती है, उसके मालिक ने उस पर चोरी का आरोप लगाया था और इसकी शिकायत पर महिला को मंगलवार को थाने बुलाया गया था। 

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, महिला के पति ने कहा, ‘चोरी के मामले की जाँच कर रही पुलिस अफ़सर मधुबाला ने मेरी पत्नी को पुलिस थाने बुलाया था। जब वह थाने पहुंची तो उसे एक कमरे में ले जाया गया, जहां उसके कपड़े उतारे गये और उसे बेल्टों और डंडों से पीटा गया। पुलिसवालों ने उस पर अपराध को कबूल करने का दबाव डाला जबकि उसने कोई अपराध नहीं किया था।’ 

ताज़ा ख़बरें

पुलिस की दरिंदगी के बारे में बताते हुए महिला और उसके पति ने आरोप लगाया कि महिला के निजी अंगों में भी पुलिस ने मारपीट की। ख़बरों के मुताबिक़, महिला को कई घंटों तक पीटा गया और उसकी हालत इतनी ख़राब थी कि जब शाम को उसे छोड़ा गया तो वह थाने से बाहर निकलकर चल भी नहीं पा रही थी। 

ख़बरों के मुताबिक़, बुधवार को महिला पर जब दुबारा थाने आने के लिए दबाव बनाया गया तो पूर्वोत्तर के लोगों ने गुरुग्राम पुलिस आयुक्त मुहम्मद अकील के दफ़्तर के बाहर जोरदार प्रदर्शन किया। इसके बाद पुलिस आयुक्त ने विभागीय जांच के आदेश दे दिए हैं और डीएलएफ़ फ़ेज वन के एसएचओ समेत चार लोगों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करते हुए उन्हें पुलिस लाइन भेज दिया है। 

गुरुग्राम पुलिस के जनसंपर्क अधिकारी सुभाष बोकान ने कहा, ‘हमें डीएलएफ़ फ़ेज वन के पुलिस अधिकारियों के ख़िलाफ़ शिकायत मिली थी। आरोपी पुलिसकर्मियों एसएचओ सावित कुमार, एएसआई मधुबाला, हेड कांस्टेबल अनिल कुमार और महिला कांस्टेबल कविता के ख़िलाफ़ कार्रवाई की गई है।’ उन्होंने कहा कि नये एसएचओ इस मामले को देखेंगे। 

इस घटना के सामने आने के बाद कुछ दिन पहले ही आई सीएसडीएस की लोकनीति और काॅमन कॉज की ओर से तैयार की गई सर्वे रिपोर्ट का जिक्र करना ज़रूरी हो जाता है। इस रिपोर्ट में पुलिसकर्मियों को लेकर हैरान करने वाली जानकारियाँ सामने आई थीं।

रिपोर्ट के मुताबिक़, देश में हर दो में से एक पुलिसकर्मी को यह लगता है कि मुसलमानों के अपराधी होने की संभावना स्वाभाविक रूप से ज़्यादा होती है और तब यह सवाल उठा था कि जब पुलिसकर्मी ही किसी एक समुदाय के प्रति पूर्वाग्रह से ग्रसित हों और यह मान बैठे हों कि उस समुदाय के लोग स्वाभाविक रूप से अपराधी होते हैं या उनके अपराधी होने की संभावना ज़्यादा होती है तो ऐसे में उस समुदाय के व्यक्ति को न्याय कैसे मिलेगा। 

संबंधित ख़बरें

इस रिपोर्ट में मॉब लिन्चिंग को लेकर भी पुलिसकर्मियों का बेहद हैरान करने वाला रवैया सामने आया था। रिपोर्ट के मुताबिक़, 35 फ़ीसदी पुलिसकर्मियों का मानना है कि गो हत्या के मामलों में भीड़ का अपराधी को सजा देना स्वाभाविक है। पुलिसकर्मियों की ऐसी ही मानसिकता रेप के अभियुक्त के मामले में भी है क्योंकि रिपोर्ट में जानकारी सामने आई थी कि 43 फ़ीसदी पुलिसकर्मियों का मानना है कि रेप मामलों में भीड़ के द्वारा अभियुक्त को पीटा जाना स्वाभाविक बात है। 

इस तरह की मानसिकता में पुलिस से कैसे उम्मीद की जा सकती है कि वह किसी को न्याय दिलाने की बात भी सोचेगी। क्योंकि आम इंसान कोई भी मुसीबत पड़ने पर सबसे पहले पुलिस के पास जाता है क्योंकि उसे उम्मीद होती है कि थाने, चौकी में उसकी बात सुनी जाएगी और उसे इंसाफ़ मिलेगा। लेकिन आए दिन ऐसे मामले सुनने को मिलते हैं जिनमें यह पता चलता है कि पुलिसकर्मी किस हद तक लोगों पर अत्याचार करते हैं। इस सबके बाद सवाल यह खड़ा होता है कि आख़िर पुलिसकर्मियों की मानसिकता कैसे बदलेगी और वे थाने, चौकियों में ग़रीबों के साथ मारपीट करना कब बंद करेंगे।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

हरियाणा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें