loader

हिमाचल कांग्रेस में बगावत के सुर, बदले जाएँगे अध्यक्ष?

कांग्रेस में राहुल गाँधी के इस्तीफ़े के बाद मची अफरा-तफरी के बीच अब हिमाचल कांग्रेस में भी बगावत का माहौल बनने लगा है। प्रदेश में इस बार लोकसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी की हुई शर्मनाक हार की ज़िम्मेदारी लेने को लेकर मौजूदा नेतृत्व पर दवाब बढ़ता जा रहा है। इससे मौजूदा कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर की कुर्सी ख़तरे में है।

लोकसभा चुनाव में हार के बाद अब हिमाचल कांग्रेस के नेताओं के ख़िलाफ़ आम कांग्रेसी कार्यकर्ताओं में गुस्सा पनपा है। हालाँकि प्रभारी रजनी पाटिल से लेकर अध्यक्ष कुलदीप राठौर तक इन दिनों खामोशी के आलम में हैं, वे किसी भी तरह अपनी-अपनी कुर्सी बचाने की जुगत में हैं। लेकिन आरोप लगाया जा रहा है कि कांग्रेस नेताओं की आपसी कलह व गुटबाज़ी की वजह से ही पार्टी को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा। अब हार मिली है तो पार्टी में इसको लेकर एक-दूसरे को ज़िम्मेदार ठहराया जा रहा है।

ताज़ा ख़बरें

चुनाव से पहले अध्यक्ष बदलना कितना सही?

जहाँ बीजेपी ने चुनाव से क़रीब तीन महीने पहले ही अपने संगठन को चुस्त-दुरुस्त करते हुए बैठकों का दौर शुरू कर दिया था वहीं कांग्रेस ने चुनाव के एन वक्त प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से सुखविन्दर सिंह सुक्खू को हटाकर पार्टी की कमान कुलदीप सिंह राठौर को सौंप दी। पार्टी का यह फ़ैसला संगठन के लिये आत्मघाती साबित हुआ। चुनावों में सुक्खू समर्थक कांग्रेसी साइलेंट मोड में चले गये। उन्हें मुख्यधारा में लाने के लिये राठौर ने कोशिश भी नहीं की। उल्टे राठौर वीरभद्र सिंह के सामने लमलेट हो गये। राठौर का प्रदेश में कोई ठोस जनाधार नहीं है। यही  नहीं, कांग्रेस का वाररूम क्या कर रहा था, इसका पता ही नहीं चला। कागजों में सब घोड़े दौड़ते रहे।

पहले से ही आंतरिक कलह

चुनावों के दौरान पहले तो कांग्रेस के कई बड़े नेता ही टिकट से दूर भाग गये और बाद में पूर्व केंद्रीय मंत्री पं. सुखराम और उनके पौत्र आश्रय शर्मा को कांग्रेस में शामिल कर मंडी का टिकट आश्रय को थमा दिया गया। इसी तरह बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष व सांसद सुरेश चंदेल को कांग्रेस में शामिल करवाया गया। अनमने भाव से वीरभद्र सिंह चुनाव प्रचार में तो आये, लेकिन आते ही कांग्रेस की रैलियों में कांग्रेस प्रत्याशियों के ख़िलाफ़ आग उगलने लगे।

शिमला के प्रत्याशी को उन्होंने पुराना पापी कह डाला, तो मंडी में सुखराम के ख़िलाफ़ जमकर भड़ास निकाली। इसी तरह कांगड़ा के प्रत्याशी को अपना बताया तो हमीरपुर के प्रत्याशी का खुलकर समर्थन ही नहीं किया। केन्द्रीय नेतृत्व ने प्रचार के लिए प्रदेश को बाकायदा हेलिकॉप्टर तक दिया था। लेकिन कुलदीप राठौर ने प्रचार के लिये पूर्व अध्यक्ष सुखविन्दर सिंह सुक्खू की मदद ही नहीं ली। यही नहीं पार्टी के स्टार प्रचारक ऐसे लोग थे, जिनमें से अधिकतर के जनाधार को लेकर अब सवाल उठ रहे हैं।

हिमाचल से और ख़बरें

जनाधार खिसका

चुनावी आँकड़े बताते हैं कि कांग्रेस का वोट बैंक इस बार बीजेपी की ओर छिटक गया है। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को महज 27.3 प्रतिशत मत ही मिले। चार सीटों पर शर्मनाक हार पार्टी के लिये किसी सदमे से कम नहीं है। वहीं बीजेपी ने 69.1 प्रतिशत मत हासिल कर हर किसी को चौंकाया है। क़रीब 18 माह पहले प्रदेश में विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 42.32 प्रतिशत मत हासिल कर 68 में से 21 सीटें जीती थीं। तब बीजेपी को 49.53 प्रतिशत मत मिले और उसने 44 सीटों पर जीत दर्ज की थी। 2014 में हुए लोकसभा चुनावों में मोदी लहर के बीच भी कांग्रेस ने 41.07 प्रतिशत मत प्राप्त किए थे। हालाँकि तब राज्य की सत्ता में होते हुए भी कांग्रेस किसी भी सीट पर जीत दर्ज नहीं कर पाई थी। प्रदेश के छह बार मुख्यमंत्री रहे वीरभद्र सिंह का भी जनाधार खिसका है। प्रदेश की चारों सीटों पर जीत का अंतर कहीं 4 लाख से अधिक तो कहीं 3 लाख से अधिक है।

कार्यकर्ताओं में निराशा

हिमाचल में कांग्रेस पार्टी के पतन की शुरुआत तो वीरभद्र सिंह के मुख्यमंत्री के काल से ही हो चुकी थी। दरअसल, वीरभद्र सिंह ने कभी भी सुखविन्दर सिंह सुक्खू को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर स्वीकार ही नहीं किया। हालाँकि वह छह साल तक पार्टी के प्रमुख रहे।  पार्टी जब सरकार में थी तो संगठन के लोगों को सरकार में कोई ठोस हिस्सेदारी नहीं मिली। इस दौरान ज़मीनी स्तर के कार्यकर्ताओं की अहमियत को न तो वीरभद्र सिंह ने स्वीकारा और न ही सुक्खू ने कोई तव्वजो दी। इससे कांग्रेस का आम कार्यकर्ता मायूस हुआ और वह घर बैठ गया। लोकसभा चुनावों में उन्होंने पार्टी की कोई मदद नहीं की।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
विजयेन्दर शर्मा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

हिमाचल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें