loader

वीरभद्र सिंह के आग उगलते तेवरों से हिमाचल कांग्रेस हलकान

छह बार हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे वीरभद्र सिंह इन दिनों चुनाव प्रचार में अपनी ही पार्टी के नेताओं को निशाने पर ले रहे हैं जिससे पार्टी में बेचैनी का माहौल है। सवाल यह उठ रहा है कि ऐसा करके कहीं वीरभद्र सिंह बीजेपी को मदद तो नहीं पहुँचा रहे हैं।  
ताज़ा ख़बरें
लोकसभा चुनाव में हिमाचल की राजनीति में इस बार कांग्रेस पार्टी का चुनाव प्रचार अपने आपमें अनोखा है क्योंकि पार्टी के कद्दावर नेता वीरभद्र सिंह चुनावी रैलियों में पार्टी लाइन से हटकर बोल रहे हैं। वीरभद्र सिंह जहाँ खुलकर पार्टी के दूसरे नेताओं को खरी-खोटी सुना रहे हैं, वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अच्छा इंसान बताने से भी गुरेज नहीं कर रहे हैं। यही नहीं उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर बनाने की भी हिमायत की है। यह सब ऐसे समय में हो रहा है, जब हिमाचल कांग्रेस लोकसभा चुनावों में चारों सीटें जीत कर राहुल गाँधी को प्रधानमंत्री पद तक पहुँचाने का दम भर रही है।
हिमाचल कांग्रेस में गुटबाज़ी किसी से छिपी नहीं है। यही वजह है कि चुनावों से पहले प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखविन्दर सिंह सुक्खू को हटाकर पार्टी की कमान कुलदीप राठौर को सौंपी गई थी। लेकिन राठौर गुटबाज़ी पर लगाम लगाने में कामयाब नहीं हो पाये हैं।
प्रदेश में कांग्रेस अब कई गुटों में बँटी नज़र आ रही है। चुनावी सभाओं में वीरभद्र सिंह के आग उगलते तेवर कांग्रेस के लिये मुसीबत बनते जा रहे हैं। पता ही नहीं चल पा रहा है कि वीरभद्र सिंह कांग्रेस का समर्थन कर रहे हैं या विरोध।

आश्रय को टिकट मिलने से हैं नाराज

दरअसल, जिस तरीक़े से पिछले दिनों पूर्व केंद्रीय मंत्री पंडित सुखराम ने बीजेपी छोड़ कांग्रेस का दामन थामा और अपने पोते आश्रय शर्मा के लिये मंडी से टिकट झटका, वह वीरभद्र सिंह को क़तई रास नहीं आया है। हालाँकि सुखराम की ओर से वीरभद्र सिंह को मनाने की कोशिशें भी हुईं।

लेकिन वीरभद्र सिंह जब मंडी में कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा के चुनाव प्रचार में गये तो उन्होंने चुनावी सभाओं में सुखराम यानी आश्रय के दादा, को ही निशाने पर ले लिया। वीरभद्र सिंह ने एक चुनावी सभा में कहा कि वह सुखराम को कभी माफ़ नहीं करेंगे क्योंकि उन्होंने हमेशा पार्टी को धोखा दिया है। वीरभद्र सिंह का यह बयान सुखराम की ओर से माफ़ी माँगने के बाद आया जिसे सुनकर सभी दंग रह गये। हैरानी की बात यह है कि वीरभद्र सिंह पोते के समर्थन में आयोजित सभाओं में दादा का विरोध कर रहे हैं।

मंडी में वीरभद्र सिंह का भी प्रभाव रहा है। जानकारों का मानना है कि वीरभद्र एक तरह से मंडी से कांग्रेस प्रत्याशी के ख़िलाफ़ ही मोर्चा खोल रहे हैं और ऐसा इसलिए क्योंकि वह उनकी पंसद का प्रत्याशी नहीं है। हमीरपुर में भी पार्टी वीरभद्र सिंह की पसंद का नहीं है।

कांग्रेस प्रत्याशी को कहा पुराना पापी

यही नहीं, शिमला में कांग्रेस प्रत्याशी धनी राम शांडिल को भरी सभा में वीरभद्र सिंह ने पुराना पापी कह डाला तो शांडिल को शर्मसार होना पड़ा। इसी तरह हमीरपुर में कांग्रेस प्रत्याशी के नामांकन के बाद कांग्रेस की रैली में वीरभद्र सिंह ने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुखविन्दर सिंह सुक्खू को निशाने पर लेते हुए कहा कि पार्टी में आये बदलाव से पुरानी गंद निकल गयी है। इस पर वीरभद्र सिंह के भाषण के दौरान ही सुक्खू व वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा को मंच छोड़ कर वहाँ से जाना पड़ा।
वीरभद्र सिंह जब कांगड़ा गये तो कांग्रेस प्रत्याशी पवन काजल के समर्थन में आयोजित रैली में उन्होंने आनंद शर्मा को ख़ूब खरी-खोटी सुनाई। इससे पहले वीरभद्र सिंह, सुक्खू की ओर से नियुक्त कांग्रेस पदाधिकारियों को कबाड़ भी कह चुके हैं।

आलम यह है कि वीरभद्र सिंह से कांग्रेसी भी परेशान हैं, उन्हें हर समय यही डर सता रहा है कि पता नहीं कब वीरभद्र सिंह किसके ख़िलाफ़ बोल दे। वहीं, दूसरी ओर वीरभद्र सिंह के रवैये से बीजेपी ख़ूब मजे ले रही है। बीजेपी ने वीरभद्र सिंह के भाषणों को भी चुनावी मुद्दा बना लिया है।  

हिमाचल में हालाँकि लोकसभा की चार ही सीटें हैं  और पिछले चुनाव में बीजेपी ने ही चारों सीटों पर क़ब्जा जमाया था। इस बार बीजेपी ने दो सीटों पर अपने प्रत्याशी बदले हैं। कांग्रेस हालाँकि संसाधनों की कमी की वजह से अभी प्रचार में पीछे ही है, लेकिन वीरभद्र सिंह के बग़ावती तेवर भी पार्टी के लिये मुसीबत बनते जा रहे हैं। 

हिमाचल से और ख़बरें
प्रदेश की राजनीति में वीरभद्र सिंह का अपना प्रभाव है। कुलदीप राठौर को भले ही पार्टी की कमान मिल गई हो लेकिन पूर्व अध्यक्ष सुक्खू के मुक़ाबले उनका कोई ठोस जनाधार प्रदेश में नहीं है। पार्टी के ही नेता मानने लगे हैं कि वीरभद्र सिंह का यही रवैया रहा तो पार्टी को चुनावों में अच्छा-ख़ासा नुक़सान हो सकता है। 

पार्टी के एक बड़े वर्ग का मानना है कि वीरभद्र सिंह की अंदरखाने बीजेपी नेताओं से साँठगाँठ हो चुकी है। उनके ख़िलाफ़ चल रहे भ्रष्टाचार के मामलों की वजह से वीरभद्र सिंह कहीं न कहीं सुनियोजित तरीके़ से बीजेपी के प्रति नरम रवैया रखने लगे हैं। पिछले दिनों जिस तरीके़ से वीरभद्र सिंह की बेटी अभिलाषा सिंह को देश के पहले लोकपाल का न्यायिक सदस्य नियुक्त किया गया है, उससे अभिलाषा की ताज़पोशी की टाइमिंग को लेकर भी सवाल उठाये जा रहे हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
विजयेन्दर शर्मा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

हिमाचल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें