loader

स्पाइस जेट के दो यात्री आईसीयू में; क्रू रोस्टर से हटाए गए

नागरिक उड्डयन महानिदेशक ने सोमवार को कहा है कि रविवार को बंगाल के दुर्गापुर में लैंडिंग के दौरान टर्बुलेंस में घायल हुए यात्रियों में से दो को आईसीयू में भर्ती करना पड़ा है। इसके साथ ही विमानन नियामक डीजीसीए ने स्पाइसजेट के दो कर्मचारियों को इसलिए रोस्टर से हटा दिया है कि उन्होंने औपचारिक जांच से पहले ही उस विमान को दुर्गापुर से कोलकाता जाने की अनुमति दी थी। क्रू को भी हटाया गया है।

डीजीसीए ने कहा है कि इसने चालक दल, विमान को दुर्गापुर से जाने की अनुमति देने वाले एएमई यानी एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियर और स्पाइज जेट के रखरखाव नियंत्रण केंद्र के प्रभारी को रोस्टर से हटा दिया है। 

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि स्पाइसजेट के एक विमान में बैठे यात्रियों और केबिन क्रू के मेंबर्स की जान खराब मौसम के कारण मुसीबत में आ गई थी। स्पाइसजेट का यह बोइंग B737 विमान मुंबई से पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर आ रहा था और जब यह उतरने वाला था उसी दौरान मौसम बेहद खराब हो गया। 

हादसे की वजह से 14 यात्री और केबिन क्रू के 3 मेंबर्स घायल हो गए हैं।

हालांकि यह विमान सुरक्षित ढंग से दुर्गापुर एयरपोर्ट पर उतर गया और घायल हुए लोगों को इलाज के लिए तुरंत हॉस्पिटल ले जाया गया। 

इसका एक वीडियो भी सामने आया है जिसमें दिख रहा है कि तूफान के कारण विमान के अंदर रखा सामान इधर-उधर गिरने लगा। 

देश से और खबरें

एक यात्री ने बताया कि लोगों के बैग जमीन पर गिर गए और इस वजह से उन्हें चोटें आई। घायल हुए एक शख्स ने बताया कि एक वक्त तो ऐसा लगा कि विमान पलट जाएगा। सीट बेल्ट लगे होने के बाद भी लोगों को काफी चोटें आई हैं। तूफान के दौरान विमान में मौजूद एयर हॉस्टेस स्टाफ ने यात्रियों को हिम्मत बंधाई। 

डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन यानी डीजीसीए ने कहा कि उसने इस घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं और कुछ यात्रियों के सिर में चोटें आई हैं और उन्हें टांके लगाए गए हैं जबकि एक शख्स की कमर में चोट आई है। स्पाइसजेट ने इस घटना को लेकर दुख जताया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें