loader

कोरोना के 85 फ़ीसदी मामले और 87% मौतें सिर्फ़ 8 राज्यों में

देश में जितनी संख्या में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले आए हैं उनमें से 85 फ़ीसदी संक्रमण के मामले सिर्फ़ आठ राज्यों में हैं। इन 8 राज्यों में ही देश भर की कुल मौतों की 87 फ़ीसदी मौतें हुई हैं। ये 8 राज्य हैं- महाराष्ट्र, दिल्ली, तमिलनाडु, तेलंगाना, गुजरात, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल। 

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि इन राज्यों में कोरोना की स्थिति से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने विशेषज्ञों को लगाया है। इसने कहा कि राज्यों को सहायता देने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ, महामारी विशेषज्ञ और वरिष्ठ संयुक्त सचिव स्तर के एक अधिकारी वाली 15 केंद्रीय टीमों को तैनात किया गया है। फ़िलहाल एक अन्य केंद्रीय टीम कोविड-19 के प्रबंधन के लिए चल रहे प्रयासों को मज़बूत करने के लिए गुजरात, महाराष्ट्र और तेलंगाना का दौरा कर रही है।

ताज़ा ख़बरें

जिन आठ राज्यों का ज़िक्र किया गया है उनमें से महाराष्ट्र में डेढ़ लाख से ज़्यादा कोरोना संक्रमण के मामले आ चुके हैं और 7 हज़ार से ज़्यादा मौतें हो चुकी हैं। इसी तरह दिल्ली में 80 हज़ार से ज़्यादा संक्रमण के मामले व 24 से ज़्यादा मौतें, तमिलनाडु में 74 हज़ार से ज़्यादा मामले व साढ़े नौ सौ मौतें हो चुकी हैं। इन तीन राज्यों में ही क़रीब 63 फ़ीसदी मामले हैं। गुजरात में 30 हज़ार से ज़्यादा, उत्तर प्रदेश में 20 हज़ार से ज़्यादा, पश्चिम बंगाल में 16 हज़ार से ज़्यादा, तेलंगाना में 12 हज़ार से ज़्यादा और आँध्र प्रदेश में 11 हज़ार से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने शनिवार को कहा कि भारत की रिकवरी दर लगभग 60 प्रतिशत है, जबकि मृत्यु दर 3 प्रतिशत के पास। डबलिंग दर अब 19 दिन है। डॉ. हर्षवर्धन 17 वें ग्रुप ऑफ़ मिनिस्टर्स (जीओएम) की बैठक के दौरान बोल रहे थे। उन्होंने कहा, 'हमारे यहाँ मृत्यु दर 3 प्रतिशत के पास है जो बहुत कम है। हमारी डबलिंग दर 19 दिनों के क़रीब आ गई है, जो लॉकडाउन से तीन दिन पहले थी।' बता दें कि पूरे देश में कोरोना संक्रमण के कुल मामले 5 लाख से ज़्यादा हो गए हैं और ठीक होने वाले लोगों की संख्या क़रीब तीन लाख है। 

देश से और ख़बरें

संक्रमण की मौजूदा स्थिति और इसको नियंत्रित करने की तैयारियों की समीक्षा करते हुए डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि कोविड​​-19 के परीक्षण के लिए अब 1,026 डायग्नोस्टिक लैब हैं, जिनमें निजी क्षेत्र के 285 शामिल हैं। बैठक में बेड की कमी से जूझ रहे दिल्ली और मुंबई जैसे प्रमुख शहरों के अस्पतालों में बेडों की उपलब्धता पर भी चर्चा की गई।

इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च यानी आईसीएमआर ने कहा है कि 26 जून को 2,20,479 नमूनों का परीक्षण किया गया है। शनिवार को 2 लाख 31 हज़ार 95 सैंपल टेस्ट किए गए। 27 जून तक 82 लाख 27 हज़ार 802 सैंपल की जाँच की गई।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें