loader
आरोपी आफताब पूनावाला

श्रद्धा मर्डर केसः कोर्ट में आफताब बोला-गुस्से में की हत्या

श्रद्धा मर्डर केस में आरोपी आफताब पूनावाला ने आज मंगलवार 22 नवंबर को साकेत कोर्ट में कहा कि उसने गुस्से में आकर लिव इन पार्टनर श्रद्धा वालकर की हत्या की थी। साकेत कोर्ट ने विशेष सुनवाई के बाद आफताब पूनावाला की पुलिस हिरासत अगले 4 दिनों के लिए बढ़ा दी।
आफताब का मंगलवार को कोर्ट में दिए गए बयान से अलग है। एक हफ्ता पहले आफताब ने कहा था कि उसने एक घटना से एक हफ्ता पहले श्रद्धा को मारने की योजना बनाई थी। लेकिन अब वो कह रहा है कि उसने हत्या गुस्से में की थी। आफताब ने अदालत से कहा, " जो कुछ हुआ, गुस्से में हुआ।" उसने यह भी कहा कि वो जांच में सहयोग कर रहा है। आफताब ने कहा कि उसे पिछली घटनाओं को याद करने में मुश्किल हो रही है।

ताजा ख़बरें
आफताब को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश किया गया। अगले 5 दिनों में होने वाले नार्को टेस्ट से पहले आफताब का आज पॉलीग्राफ टेस्ट होने की उम्मीद है।

दिल्ली पुलिस ने आफताब का पॉलीग्राफ टेस्ट कराने की अनुमति के लिए निचली अदालत का दरवाजा खटखटाया है। पुलिस ने कोर्ट में दावा किया कि आरोपी आफताब जांच में सहयोग नहीं कर रहा है और विरोधाभासी बयान देकर पुलिस को गुमराह कर रहा है।

दिल्ली पुलिस हत्या के इस मामले में ज्यादा से ज्यादा सबूत इकट्ठा करने के लिए अभी भी महरौली के जंगल में श्रद्धा के शव के टुकड़ों की तलाश कर रही है।

देश से और खबरें
आफताब ने मुंबई से दिल्ली शिफ्ट होने के तीन दिन बाद इस साल मई में अपनी गर्लफ्रेंड श्रद्धा वालकर की कथित तौर पर हत्या कर दी थी। आफताब ने अपने बाथरूम में आरी से श्रद्धा के शव के 35 टुकड़े कर दिए थे और उन्हें महरौली के जंगलों और आसपास के इलाकों में फेंक दिया था। उसने कुछ दिनों तक शरीर के टुकड़ों को फ्रिज में भी रखा था। उस दौरान उसने कई दोस्तों को अपने घर बुलाया था, जिनमें वो लड़कियां भी शामिल थीं, जिन्हें वह कैजुअली डेट कर रहा था।

दिल्ली पुलिस श्रद्धा के कई दोस्तों और आफताब पूनावाला और उसके परिवार को जानने वालों के बयान दर्ज कर रही है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें