loader

...तो दूसरी से भी ज़्यादा भयावह तीसरी लहर संभव: एम्स निदेशक

क्या देश में तीसरी लहर आएगी और यह आएगी तो कितनी ख़तरनाक होगी? ये सवाल हर किसी को कौंध रहे हैं। महामारी रोग विशेषज्ञ और कोरोना पर शोध-सर्वे करने वाली एजेंसियाँ तो क़रीब-क़रीब पक्के तौर पर कहती हैं कि तीसरी लहर तो आएगी ही। लेकिन यह कितना घातक होगी इस पर अब एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने आकलन पेश किया है।

गुलेरिया ने कहा है कि अगर तीसरी लहर आती है तो इसके कई परिदृश्य बन सकते हैं। उन्होंने कहा कि यदि सभी प्रतिबंध हटा दिए जाते हैं और कोरोना का एक वैरिएंट इम्युन यानी प्रतिरक्षा से बचने में सक्षम होता है तो अगली लहर दूसरी लहर से बड़ी हो सकती है। उन्होंने ये बातें तब कहीं जब वह आईआईटी के एक गणितीय मॉडल द्वारा अनुमानित तीसरी लहर की संभावना का हवाला दे रहे थे। 

ताज़ा ख़बरें

उन्होंने यह आशंका तब जताई है जब दुनिया के कई देशों में फिर से संक्रमण बढ़ रहा है। कई देशों में तीसरी लहर शुरू हो चुकी है तो कुछ देशों में चौथी लहर की शुरुआत भी होने लगी है। भारत में भी तीसरी लहर के आने की आशंकाएँ जताई जा रही हैं और इसको लेकर रिपोर्टें भी आ रही हैं। 

हाल ही में आई एसबीआई की रिपोर्ट में कहा गया था कि तीसरी लहर अगस्त में आ सकती है और इसके क़रीब एक महीने बाद सितंबर में यह अपने चरम पर होगी। मौजूदा समय में कोरोना की दूसरी लहर चल रही है और हर रोज़ क़रीब 30-40 हज़ार मामले सामने आ रहे हैं। 

डॉक्टरों के शीर्ष संगठन इंडियन मेडिकल एसोसिएशन यानी आईएमए ने सरकार को चेतावनी दी है कि कोरोना की तीसरी लहर अवश्यंभावी है। आईएमए ने कहा कि 'पर्यटन, तीर्थाटन और धार्मिक उत्साह, सबकुछ ठीक है, पर इन्हें कुछ समय के लिए टाला जा सकता है। धार्मिक अनुष्ठानों और उनमें बड़ी तादाद में लोगों के बेरोकटोक जाने की अनुमति देने से ये कार्यक्रम सुपर स्प्रेडर यानी कोरोना फैलाने के बड़े कारण बन सकते हैं।' 

सरकार भी तीसरी लहर को लेकर कितनी आशंकित है यह इससे समझा जा सकता है कि हाल ही में केंद्र ने उन 8 राज्यों को कोरोना नियंत्रण के लिए कहा था जहाँ पॉजिटिविटी रेट 10 फ़ीसदी से ज़्यादा आने लगे थे। इससे पहले तो केंद्र ने विशेषज्ञों की टीमें छह राज्यों में भेजी थीं।

लगातार आ रही ऐसी ही रिपोर्टों के बीच एम्स निदेशक का यह बयान आया है। उन्होंने यह तो बताया ही है कि किन परिस्थितियों में दूसरी लहर से ज़्यादा घातक तीसरी लहर होगी, यह भी बताया कि इससे कैसे बचा जा सकता है। 'हिंदुस्तान टाइम्स' की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने कहा कि यदि प्रतिबंधों और ढील देने के बीच संतुलन है और कुछ प्रतिबंध लगे हुए हैं तो प्रभाव उतना बड़ा नहीं होगा जितना कि दूसरी लहर के दौरान था, बशर्ते वायरस भी स्थिर रहे।

देश से और ख़बरें

उन्होंने यह भी कहा कि तीसरी लहर को किससे बढ़ावा मिलेगा। डॉ. गुलेरिया ने तीन संभावित कारण बताए- कमजोर होता इम्युन, ज़्यादा संक्रामक वैरिएंट का आना और लॉकडाउन में छूट। इम्युन के कमजोर होने से मतलब है कि जो व्यक्ति पहले संक्रमण से ठीक हो चुके हैं उनका इम्युन फिर धीरे-धीरे कमजोर पड़ने लगता है। ऐसे में टीका लेना बी कारगर होगा।

गुलेरिया ने कहा, 'एक आईआईटी के एक ऐसे मॉडल से पता चलता है कि यदि सभी प्रतिबंध हटा दिए जाते हैं और यदि कोई वायरस (वैरिएंट) भी इम्युन यानी प्रतिरक्षा से बचने में सक्षम है तो अगली लहर दूसरी लहर से बड़ी हो सकती है। अगर कुछ प्रतिबंध लगाए रखे जाते हैं और वायरस भी स्थिर रहता है तो मामले ज़्यादा नहीं होंगे और अगर हम और पाबंदियाँ रखेंगे तो मामले और कम होंगे।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें