loader

डोभाल-चीनी विदेश मंत्री बातचीत, सीमा पर शांति बहाल करने पर राज़ी दोनों देश

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के बीच हुई बातचीत में इस पर सहमति बनी है कि सीमा पर शांति बरक़रार रखी जाए और मतभेदों को विवाद न बनने दिया जाए।

तनाव कम करने पर फ़ोकस

शनिवार को दोनों अधिकारियों के बीच टेलीफ़ोन पर बात हुई। इस बातचीत का केंद्र वास्तविक नियंत्रण रेखा पर बना तनाव और उसे दूर करने के उपायों पर था। दोनों इस पर राजी हो गए कि सीमा पर तनाव कम करने के लिए सैनिकों को वापस बुलाया जाए, इलाक़े खाली किए जाएं और हर हाल में शांति बनाई रखी जाए ताकि दोतरफ़ा सम्बन्धों को और मजबूत किया जा सके।
देश से और खबरें
विदेश मंत्रालय ने सोमवार को जारी एक बयान में कहा,

'अजित डोभाल और वांग यी इस पर राज़ी हैं कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाम कम करने के लिए यह ज़रूरी है कि सभी सैनिकों की वापसी सुनिश्चित की जाए।'


विदेश मंत्रालय के बयान का हिस्सा

'कूटनीतिक बातचीत जारी रहे'

बयान के मुताबिक़, 'दोनों अधिकारी इस पर सहमत हुए कि दोनों पक्षों के राजनीतिक व कूटनीतिक अधिकारी बातचीत जारी रखें ताकि एलएसी पर पूर्ण और दीर्घकालिक शांति बहाल की जा सके।'
दोनों अधिकारियों की यह बातचीत विशेष प्रतिनिधि स्तर की बातचीत की प्रक्रिया को शुरू करने के लिए की गई है।

सैनिकों की वापसी

इसके पहले सोमवार को इसकी पुष्टि हो गई कि गलवान घाटी के पैट्रोलिंग प्वाइंट 14 से भारतीय और चीनी सेनाओं ने अपने-अपने सैनिकों को वापस बुला लिया है। उन्होंने बनाई गई संरचनाओं को हटा दिया है। दोनों सेनाओं ने अपने-अपने कब्जा वाले इलाक़े खाली कर दिए हैं।
उधर बीजिंग में चीन के विदेश मंत्रालय ने इस बातचीत पर एक बयान जारी किया है। बयान में कहा गया है, 'दोनों ही पक्षों को एक दूसरे के लिए ख़तरा नहीं बनना चाहिए, स्थिति की गंभीरता को समझना चाहिए और मौजूदा स्थिति को ठीक करने के लिए मिलजुल कर काम करना चाहिए।'

चीन को नयी उम्मीद

चीनी विदेश मंत्रालय ने यह उम्मीद भी जताई है कि 'भारत और चीन एक ही दिशा में साथ-साथ चलेंगे, अपनी जनता का सही मार्गदर्शन करेंगे और एक दूसरे से सहयोग करेंगे। यह भी कहा गया है कि दोनों पक्षों को ऐसे काम नहीं करने चाहिए जिससे विवाद बढ़े, उन्हें दोतरफा सम्बन्धों को और मजबूत बनाने की दिशा में काम करना चाहिए।'
बता दें कि इसके पहले दोनों देशों के बीच सैन्य कमांडरों, राजनीतिकों व कूटनीतिकों में कई स्तर पर और कई दौर की बातचीत हुई है। दोनों सेनाओं में लेफ़्टीनेंट जनरल स्तर पर 5 जून और 22 जून को हुई बातचीत के बाद ही दोनों पक्ष सैनिकों को वापस बुलाने और इलाक़े खाली करने पर राजी हुए हैं। इस आधार पर ही सोमवार को दोनों सेनाओं ने कुछ इलाक़े खाली किए हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें