loader

नूपुर विवाद: सलमान चिश्ती संग सीओ का वीडियो वायरल, हुई कार्रवाई

बीजेपी नेता नूपुर शर्मा को धमकी देने वाले अजमेर दरगाह के खादिम सलमान चिश्ती को लेकर अजमेर दरगाह के थाने के सीओ का एक वीडियो वायरल हुआ है। वीडियो के वायरल होने के बाद राजस्थान पुलिस ने कार्रवाई करते हुए सीओ संदीप सारस्वत को लाइन हाजिर कर दिया है। 

वायरल वीडियो को लेकर दावा है कि यह तब का है जब पुलिस सलमान चिश्ती को गिरफ्तार करने पहुंची थी। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही सलमान चिश्ती का एक वीडियो सामने आया था जिसमें उसने कहा था कि जो नूपुर शर्मा की गर्दन लाएगा उसे वह अपना घर इनाम में दे देगा।

चिश्ती का वीडियो बहुत तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था और उसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था। हालांकि दरगाह की अंजुमन कमेटी ने चिश्ती के बयान से पूरी तरह किनारा कर लिया था। 

ताज़ा ख़बरें

अब जो नया वीडियो आया है उसमें यह दावा किया गया है कि अजमेर दरगाह थाने के सीओ ने सलमान चिश्ती की गिरफ्तारी के बाद उससे कहा था कि वह यह बोल दे कि वह नशे में था। 

इससे पहले सीओ ने सलमान चिश्ती से पूछा था कि उसने वीडियो बनाने के दौरान कौन सा नशा किया था। सलमान चिश्ती कहता है कि वह नशा नहीं करता। सीओ के साथ सलमान चिश्ती का यह वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ और बीजेपी के तमाम नेताओं ने राजस्थान पुलिस के कामकाज को लेकर सवाल खड़े किए।

राजस्थान बीजेपी के नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने इस वीडियो को ट्वीट करते हुए कहा है कि हिंदू विरोधी तत्वों को कांग्रेस ऐसे ही संरक्षण देती है और बचाती है।

अजमेर पुलिस का बयान

अजमेर पुलिस की ओर से बयान जारी कर कहा गया है कि सलमान चिश्ती आदतन अपराधी है और नशे का भी आदी है। पुलिस ने कहा है कि आरोपी डरा हुआ था और इसलिए वह किसी भी प्रकार का नशा करने के बारे में मना कर रहा था। पुलिस ने कहा है कि यह वीडियो किस व्यक्ति द्वारा बनाया गया है इसकी पुष्टि अभी नहीं की जा सकती। पुलिस ने कहा है कि सीओ का बयान पुलिस विभाग का बयान नहीं है और वीडियो में आई आवाज किसकी है इस बारे में भी स्पष्ट नहीं कहा जा सकता। 

देश से और खबरें

बता दें कि नूपुर शर्मा का समर्थन किए जाने के चलते राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल नाम के दर्जी की हत्या कर दी गई थी और इसके बाद राजस्थान का माहौल तनावपूर्ण हो गया था। 

हालात को देखते हुए राज्य में धारा 144 लागू है और कन्हैया लाल दर्जी की हत्या के मामले में जांच कर रही एनआईए लगातार कई लोगों की धरपकड़ कर रही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें