loader

विदेशी मीडिया ने कहा, फ़ेल नहीं हुआ चंद्रयान 2 मिशन

भले ही चंद्रयान 2 मिशन के पूरी तरह सफल न हो पाने के कारण भारत के लोगों में थोड़ा सा निराशा का माहौल हो लेकिन जिस तरह से अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की सराहना की है, उससे यह माना जाना चाहिए कि इसरो के वैज्ञानिकों की मेहनत सफल रही है। अमेरिका ने भी चंद्रयान-2 मिशन को ‘भारत के लिए बहुत बड़ा क़दम’ बताया है और यहाँ तक कहा कि ‘हमें इसमें कोई संदेह नहीं है कि भारत अपनी अंतरिक्ष आकांक्षाओं को हासिल करेगा।’ नासा ने कहा है कि आप और आपकी यात्रा से हमें प्रेरणा मिलती है। इसरो के अधिकारियों के मुताबिक, चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर पूरी तरह सुरक्षित है। 

अंतरिक्ष की दुनिया के अंतरराष्ट्रीय जानकारों और दुनिया भर के मीडिया का कहना है कि इसरो का विक्रम से संपर्क टूट जाना बहुत मामूली सा नुक़सान है और इसका यह मतलब क़तई नहीं है कि सब कुछ ख़त्म हो गया है। अंतरराष्ट्रीय मीडिया का कहना है कि ऑर्बिट्रर अभी भी चंद्रमा के चारों ओर चक्कर लगा रहा है। 

अख़बार ‘द गार्डियन’ ने लेख लिखा है ‘भारत की मून लैंडिंग को झटका, आख़िरी क्षणों में टूटा संपर्क।’ लेख में फ़्रांस की अंतरिक्ष एजेंसी सीएनईएस के भारत में प्रतिनिधि मैथ्यू वीइस के हवाले से कहा गया है कि ‘भारत संभवत: उस दिशा में जा रहा है जहाँ शायद चांद पर मानव बस्तियां बसने में 20 साल, 50 साल या 100 साल लगेंगे।'

ताज़ा ख़बरें

अमेरिकी मैगजीन ‘वायर्ड’ ने कहा है कि चंद्रयान-2 भारत का अब तक का 'सबसे महत्वाकांक्षी' अंतरिक्ष मिशन था। मैगजीन ने लिखा है, 'विक्रम लैंडर और जिस प्रज्ञान रोवर को चांद की सतह पर उतारने के लिए वह ले जा रहा था, उनसे संपर्क टूटना भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए बहुत बड़ा झटका है लेकिन मिशन को लेकर अभी सब कुछ ख़त्म नहीं हुआ है।'

वाशिंगटन पोस्ट ने, ‘चांद पर उतरने का भारत का पहला प्रयास संभवत: फ़ेल’, इस हेडिंग से ख़बर लिखी है। अख़बार ने आगे लिखा है, ‘मिशन के नाकाम होने के बावजूद सोशल मीडिया पर लोगों ने अंतरिक्ष एजेंसी इसरो और उसके वैज्ञानिकों को जमकर सपोर्ट किया। यह घटना भारत की बढ़ती अंतरिक्ष महत्वाकांक्षा के लिए झटका साबित हो सकता है लेकिन इसे देश की युवा आबादी की आकांक्षाओं के प्रतिरूप के रूप में देखा गया।’ 

वाशिंगटन पोस्ट लिखता है, ‘भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम की सफलताओं में से एक बात यह है कि इसकी लागत कम रही है। चंद्रयान-2 पर 14.1 करोड़ डॉलर का ख़र्च आया जो अमेरिका के द्वारा ऐतिहासिक अपोलो मून मिशन पर किये गये ख़र्च का एक छोटा सा हिस्सा है।'

अमेरिकी नेटवर्क सीएनएन ने कहा, ‘चांद पर भारत की ऐतिहासिक लैंडिंग शायद फ़ेल हो गई लगती है। अपने रोवर को चांद पर उतारने की भारत की ऐतिहासिक कोशिश संभवतः नाकाम हो गई है।’ सीएनएन ने आगे कहा, ‘भीड़ ने हर छोटे क़दम का जश्न मनाया और जिस समय विक्रम के चांद पर उतरने की उम्मीद की जा रही थी, सन्नाटा फैल गया।'

बीबीसी ने कहा कि भारत के इस मिशन को दुनिया भर के मीडिया में इसलिए जगह मिली क्योंकि यह बेहद सस्ता या किफायती था। बीबीसी ने लिखा है, ‘उदाहरण के लिए 'एवेंजर: एंडगेम' फ़िल्म का बजट लगभग 35.6 करोड़ डॉलर था जो चंद्रयान-2 के बजट के दोगुने से ज़्यादा था। लेकिन, यह कोई पहला मौक़ा नहीं है जब इसरो को इतनी कम लागत में यह काम करने के लिए तारीफ़ मिली हो। इसरो का 2014 का मंगल मिशन जिसकी लागत 7.4 करोड़ डॉलर थी और यह अमेरिका के मैवेन ऑर्बिटर के बजट का महज 10वां हिस्सा था।’

देश से और ख़बरें

फ़्रांस के दैनिक अख़बार, ले मोंद ने लिखा है, ‘चांद पर सॉफ़्ट लैंडिंग की सफलता दर केवल 45 फ़ीसदी है। अख़बार ने अपने लेख की शुरुआत ‘ए ब्रोकन ड्रीम’ यानी ‘एक टूटे हुए सपने’ से की है।  

अमरिका के पूर्व अंतरिक्ष वैज्ञानिक जैरी एम लिनेंगर ने कहा, भारत कुछ कठिन, बेहद कठिन काम करने की कोशिश कर रहा था। सब कुछ योजना के मुताबिक़ हो रहा था लेकिन दुर्भाग्य से यह असफल हो गया। कुल मिलाकर, मिशन बहुत सफल रहा है। उन्होंने कहा, ऑर्बिट्रर अगले साल से कई ज़रूरी जानकारियाँ देना शुरू कर देगा।’

नासा स्पेसफ़ाइट के प्रबंध निदेशक क्रिस जी ने कहा, ऑर्बिट्रर चंद्रमा की कक्षा में पहुँच चुका है और अपना काम कर रहा है। इसे पूरी तरह से असफल नहीं कहा जा सकता।

चंद्रयान मिशन के फ़ेल होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इसरो मुख्यालय पहुँचे थे और उन्होंने वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाते हुए कहा था कि पूरा देश आपके साथ है। 

प्रधानमंत्री ने वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए कहा था, ‘साथियों, चंद्रयान के सफ़र का आख़िर पड़ाव भले ही आशा के अनुकूल न रहा हो लेकिन हमें यह भी याद रखना होगा कि चंद्रयान की यात्रा शानदार रही है, जानदार रही है।’ 
संबंधित ख़बरें
इसरो ने शनिवार को ही बयान जारी कर कहा था कि चंद्रयान 2 मिशन अपने उद्देश्यों में बहुत हद तक कामयाब रहा है। इसरो ने कहा था कि ऑर्बिटर चांद की कक्षा में स्थापित हो चुका है और वह चांद की सतह की संरचना, खनिज और पानी की उपलब्धता आदि के बारे में जानकारी देता रहेगा और आने वाले 7 सालों तक काम करता रहेगा। इस दौरान हमें चांद से जुड़ी हज़ारों जानकारियाँ मिलती रहेंगी। 
अब जब चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर द्वारा खींची गई थर्मल इमेज से लैंडर विक्रम की लोकेशन का पता चल गया है तो लोगों के मन में एक बार फिर उम्मीदें जाग उठी हैं कि क्या विक्रम लैंडर से दोबारा संपर्क हो सकेगा? क्या लैंडर सही सलामत है? इसरो के चेयरमैन के. सिवन के मुताबिक़, विक्रम ने हार्ड-लैंडिंग की होगी क्योंकि जिस सॉफ़्ट लैंडिंग की योजना बनाई गई थी, वह सफल नहीं हो सकी। ऐसे में आने वाले 12 दिनों को बेहद अहम बताया जा रहा है। इसरो प्रमुख ने कहा है कि लैंडर से संपर्क स्थापित करने की कोशिश लगातार जारी है। बता दें कि चांद की सतह से 2.1 किलोमीटर ऊंचाई तक विक्रम की लैंडिंग प्रकिया बिलकुल ठीक चल रही थी लेकिन उसके बाद लैंडर का इसरो से संपर्क टूट गया।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें