loader

आलोक वर्मा बहाल, नहीं ले सकेंगे नीतिगत फ़ैसले

आलोक वर्मा की सीबीआई में वापसी हो गई है। सुप्रीम कोर्ट ने वर्मा को छुट्टी पर भेजने का फ़ैसला निरस्त कर दिया है। इसे मोदी सरकार के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। सीबीआई के चीफ़ आलोक वर्मा ने पूर्व संयुक्त निदेशक राकेश अस्थाना के साथ विवाद के बाद और छुट्टी पर भेजने के ख़िलाफ़ याचिका दायर की थी। बता दें कि अस्थाना और वर्मा के बीच विवाद बढ़ जाने के बाद सरकार ने दोनों अधिकारियों को छुट्टी पर भेज दिया था।

मतलब यह कि वर्मा अब सीबीआई प्रमुख का कार्यभार संभालेंगे। हालाँकि कोर्ट ने यह भी कहा कि वर्मा अभी नीतिगत फ़ैसले नहीं ले सकेंगे। 

कोर्ट ने फ़ैसले में कहा कि आलोक वर्मा को हटाने से पहले सेलेक्ट कमिटी से सहमति लेनी चाहिए थी। 
आलोक वर्मा के वकील ने कहा- हमें कोर्ट पर पूरा भरोसा था। इस फ़ैसले ने यह साबित किया है कि जब तक कोर्ट है तब तक किसी के साथ कुछ ग़लत नहीं होगा।
सीजेआई, प्रधानमंत्री और नेता विपक्ष की सेलेक्ट कमेटी यह तय करेगी कि वर्मा को उनके पद से हटाया जाए या नहीं। सेलेक्ट कमेटी एक हफ़्ते के भीतर बैठक करेगी। आलोक वर्मा का कार्यकाल 31 जनवरी को समाप्त हो रहा है।
कोर्ट के फ़ैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सीबीआई के निदेशक को छुट्टी पर भेजने का फ़ैसला एक संवैधानिक संस्था की प्रतिष्ठा को बचाए रखने के उद्देश्य से और सीवीसी की रिपोर्ट के आधार पर लिया गया।

6 दिसंबर को हुई सुनवाई के बाद मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस केएम जोसेफ़ की पीठ ने आलोक वर्मा और कॉमन कॉज की याचिका पर फ़ैसला सुरक्षित रखा था। याचिका में एसआईटी जाँच की माँग के साथ ही सरकार द्वारा छुट्टी पर भेजे जाने के फ़ैसले को चुनौती दी गई थी। 

सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले पर कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि कोर्ट के फैसले ने सरकार को सबक सिखाया है।
केंद्र सरकार ने वर्मा और अस्थाना के बीच विवाद के बाद दोनों को हटाते हुए संयुक्त निदेशक एम. नागेश्वर राव को अंतरिम मुखिया बना दिया था।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें