loader

चीन से तनाव के बीच सहयोगी देशों से भारत को मिलेंगे हथियार, रूसी प्रणाली, रफ़ाल 

चीन के साथ बढ़ते तनाव और गलवान घाटी में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर हुई झड़प के बाद हथियार बनाने वाली विदेशी कंपनियाँ अपने उत्पाद जल्द से जल्द भारत को देने की कोशिश में हैं।
इकोनॉमिक टाइम्स ने कहा है कि फ्रांस अगले महीने रफ़ाल लड़ाकू विमान की आपूर्ति कर देगा। रूस अपने गोला-बारूद और दूसरे हथियारों की सप्लाइ समय से पहले कर देगा। बीते दिनों विक्ट्री डे परेड देखने मास्को गए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से रूसी अधिकारियों की इस मुद्दे पर बात हुई थी। इसी तरह इज़रायल ने वायु सुरक्षा प्रणाली देने की पेशकश की है, वह भी जल्द ही भारत पहुँचने वाला है।
देश से और खबरें

हथियारों के ऑर्डर पहले दिए थे

भारत ने इन रक्षा उपकरणों का आदेश पहले ही दे दिया था और उस समय भारत-चीन सीमा पर तनाव नहीं था। पर तनाव बढ़ने के बाद यह कोशिश की जा रही है कि इन हथियारों और रक्षा उपकरणों की आपूर्ति जल्द से जल्द हो जाए। हथियार देने वाली कंपनियों ने भी इसमें रुचि ली है, रूस और इज़रायल ने तो समय से पहले ही सप्लाई का भरोसा दिया है।
इकोनॉमिक टाइम्स ने कहा है कि रफ़ाल लड़ाकू जहाज़ 27 जुलाई तक अंबाला हवाई छावनी पहुँच जाएंगे। इस समय तक जितने जहाज फ्रांस को देने थे, वह उससे ज़्यादा देने को तैयार है। समझा जाता है कि 8 रफ़ाल विमान को वायु सेना में शामिल होने का सर्टिफिकेट जल्द ही मिल जाएगा।
इज़रायल वायु सुरक्षा प्रणाली देगा, जो सीमा पर तैनात किया जाएगा। यह अनमैन्ड डिफ़ेन्स सिस्टम है, यानी इस पर किसी सैनिक या पायलट को भेजने की ज़रूरत नहीं होगी, इसे जम़ीन से ही चलाया और नियंत्रित किया जा सकेगा।

इज़रायल देगा अनमैन्ड सिस्टम

यह मौजूदा ड्रोन का विकसित रूप होगा, जिसमें मिसाइल वगैरह फिट किए जा सकेंगे। इससे शत्रु सीमा में भेज कर हमला किया जा सकेगा। समझा जाता है कि इसे लद्दाख में तैनात किया जाएगा।
रूस को 1 अरब डॉलर का अलग से ऑर्डर टैंक और गोला-बारूद की आपूर्ति के लिए दिया गया है। रूस से थल सेना को टैंक-रोधी मिसाइल, कंधे पर रख कर चलाया जाने लायक वायु सुरक्षा हथियार और वायु सेना को हवा से गिराने लायक बम मिलेंगे।
अमेरिका भारत का नया मित्र बन कर उभरा है। वह भारत को ख़ुफ़िया जानकारी और सैटेलाइट तसवीरें देगा।
भारत ने पहले ही एक्स कैलिबर तोपखाने की गोलियों का आदेश दे रखा है। ये ऐसे गोले हैं जो 40 किलोमीटर दूर लक्ष्य पर दागे जा सकते हैं। इसके अलावा एम-77 टैंक के गोले-बारूदों का आदेश भी दिया गया है, जिनका इस्तेमाल पहाड़ी इलाक़ों में किया जा सकता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें