loader

अमित शाह की बैठक के बाद दिल्ली में अतिरिक्त सुरक्षा बल

दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर रैली में हिंसा के बाद गृहमंत्री अमित शाह ने अधिकारियों की बैठक ली और इसमें सुरक्षा व्यवस्था कड़ी करने का फ़ैसला लिया गया। मंगलवार शाम को हुई बैठक में निर्णय लिया गया कि अतिरिक्त अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती भी की जाएगी। बैठक में सुरक्षा से जुड़े बड़े अधिकारियों से लेकर पुलिस के अधिकारी भी शामिल हुए। गृह सचिव अजय भल्ला और दिल्ली पुलिस के आयुक्त एसएन श्रीवास्तव भी उस बैठक में शामिल थे। बैठक में गृहमंत्री को दिल्ली के ताज़ा हालात से अवगत कराया गया।

दिल्ली में मंगलवार को हालात इतने बिगड़ गए कि हिंसा तक हुई। इसमें एक व्यक्ति की जान भी चली गई। इससे पहले गणतंत्र दिवस समारोह के बीच ही दिल्ली में किसानों ने ट्रैक्टर की रैली निकालनी शुरू कर दी थी और हिंसा की ख़बरें आईं। पुलिस की ओर से लाठी चार्ज किया गया और आँसू गैस के गोले दागे गए। पथराव की भी घटनाएँ हुईं। प्रदर्शन करने वाले कुछ लोगों ने मंगलवार को लाल क़िले की प्राचीर से पीले रंग का झंडा फहरा दिया। पुलिस की बैरिकेडिंग पार करते हुए किसान यहाँ तक पहुँचे थे। किसानों की ट्रैक्टर रैली को जिस रूट की मंजूरी दी गई थी उसमें लाल क़िले का रूट शामिल नहीं था। 

ताज़ा ख़बरें
हालाँकि, रिपोर्टों में कहा गया है कि अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था पहले से ही थी। 'एएनआई' ने सूत्र के हवाले से लिखा, 'कल (सोमवार को) अर्धसैनिक बलों की 15 कंपनियों को दिल्ली भेजा गया था। दस सीआरपीएफ़ (केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल) के थे और बाक़ी पाँच अर्धसैनिक बलों के थे। इसी तरह पाँच कंपनियाँ आज स्टैंडबाय पर थीं।' लेकिन हिंसा के बाद सुरक्षा व्यवस्था और पुख्ता किए जाने पर जोर दिया गया। 

दिल्ली पुलिस ने किसानों को ट्रैक्टर रैली निकालने के लिए रविवार को ही मंजूरी दे दी थी, लेकिन इसने कई शर्तें भी लगा दी थीं। इन शर्तों पर किसानों को आपत्ति थी। इनमें सबसे महत्वपूर्ण रूट को लेकर किसान नाराज़ थे। एक शर्त यह भी थी कि किसान राजपथ पर गणतंत्र दिवस समारोह ख़त्म होने के बाद रैली निकालेंगे। लेकिन किसानों ने उससे पहले ही रैली निकालनी शुरू कर दी।

किसानों ने जब रैली निकाली तो वे पुलिस द्वारा मंजूर रूट से इधर-उधर भी हुए। किसान राजधानी दिल्ली के अंदरूनी हिस्सों तक पहुँच गए। केंद्रीय दिल्ली के आईटीओ के पास पुलिस ने उन्हें रोकने की नाकाम कोशिश की। पुलिस ने आँसू गैस के गोले छोड़े, लेकिन पुलिस वालों की तुलना में किसानों की तादाद बहुत ज़्यादा रही। चारों तरफ अफरातफरी का माहौल रहा। 

आईटीओ पर भारी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात रहे और वहीं से पुलिस की बाधा को पार कर किसान निकले। आईटीओ से जो तसवीरें आई हैं उनमें दिख रहा है कि पुलिसकर्मी ट्रैक्टर को रोकने का प्रयास कर रहे हैं और किसान ट्रैक्टर तेज़ दौड़ाते हुए आगे निकल रहे हैं।

हिंसा की ख़बरों के बीच ही अमित शाह की उच्चस्तरीय बैठक की ख़बर आई है। एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से ख़बर दी है कि इस बैठक के बाद सुरक्षा को लेकर बड़ा फ़ैसला लिया जा सकता है। अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती भी की जा सकती है। 

वीडियो में देखिए, क्या रास्ते से भटका किसान आंदोलन?
हिंसा की रिपोर्टों के बीच गृह मंत्रालय ने दिल्ली के बाहरी इलाकों की इंटरनेट सेवा बंद कर दी है। गृह मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि ये सेवाएँ आज रात 12 बजे से पहले तक बंद रहेंगी। सरकार के इस फ़ैसले से जो क्षेत्र प्रभावित होंगे उनमें वे क्षेत्र शामिल हैं जहाँ किसान क़रीब दो महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं। इसमें किसान प्रदर्शन का केंद्र रहे सिंघु बॉर्डर भी शामिल है। सिंघु बॉर्डर के अलावा ग़ाज़ीपुर, टिकरी, मुकारबा चौक, नांगलोई और उसके आसपास क्षेत्रों में इंटरनेट सेवाएँ बाधित रहेंगी।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें