loader

दिल्ली दंगों के बाद भारत में पनपेगा नए किस्म का रंगभेद?

दिल्ली दंगों के बाद भारत के शहरों में नए किस्म का रंगभेद उभरने और अलग-अलग समुदायों के लोगों के अलग-अलग कस्बों में रहने की प्रवृत्ति बढ़ने की आशंका है। मुसलमानों को अब अपनी पसंद के घर ढूंढने में ख़ासी दिक्क़तों का सामना करना होगा। मानवाधिकार विशेषज्ञों ने यह आशंका जताई है। 
टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने पूर्व संयुक्त राष्ट्र आवासन दूत मिलन कोठारी को उद्धृत करते हुए यह ख़बर दी है। 
देश से और खबरें
कोठारी ने थॉमसन रॉयटर्स फ़ांउडेशन को कहा, 'राजनीतिक कारणों से और पूर्व-नियोजित तरीके से अलग-अलग श्रेणियों के लोगों को शहरों में अलग-अलग रहने की प्रवृत्ति से शहरों में रंगभेद को बढ़ावा मिलता है। ऐसे में ग़रीबों के रंगभेद का शिकार होने की आशंका और बढ़ जाती है।'
कोठारी ने कहा, 'दंगों के बाद शहरों में लोगों को दड़बों में रहने की प्रवृत्ति बढ़ जाती है क्योंकि उनमें डर और असुरक्षा बढ़ जाती है। कई बार तो सरकार ख़ुद इसे बढ़ावा देती है और इस तरह के अलगाव को सहयोग करती है।'
उन्होंने आशंका जताई कि दिल्ली में रहने वाले 2 करोड़ लोग अपने पहले की तुलना में अधिक तेजी से अलग-थलग होंगे, उनमें मेल मिलाप कम होगा और वे अपने-अपने दड़बों में सिमटे होंगे। 
कोठारी ने दुनिया के दूसरे देशों का हवाला देते हुए कहा कि 2016 के रियो ओलंपिक खेलों के बाद उस शहर में अलग-अलग समुदायों के लोग अपने-अपने दड़बों में सिमट गए थे। ऐसा ही दिल्ली में 2010 के कॉमनवेल्थ खेलों के बाद हुआ था। 

शहरों का दड़बाकरण

एक अध्ययन में पाया गया कि दिल्ली में लोग धर्म विशेष और राज्य विशेष के लोगों को भाड़े पर घर देने से कतराने लगे। खाने-पीने के अलग आदतों के लोगों के साथ भी यह दिक्क़त आई। 
अहमदाबाद विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर दर्शनी महादेविया ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया से कहा कि 1992-93 में मुंबई में हुए दंगों के बाद मुसलमान मिली-जुली आबादी वाले इलाक़ों से निकल कर शहर के बाहर के इलाक़ों में जा बसे। वे इलाक़े मुसलिम-बहुल क्षेत्रों में तब्दील हो गए। ऐसा ही अहमदाबाद में 2002 के दंगों के बाद हुआ था।  उन्होंने कहा, 
'मुसलमान, ख़ास कर ग़रीब, उन इलाक़ों में जा बसे जहाँ सिर्फ़ मुसलमान रहते थे और इसकी वजह यह थी कि वे वहां सुरक्षित महसूस करते थे। इस तरह का अलगाव राजनीतिक दलों के लिए मुफ़ीद है क्योंकि इससे सांप्रदायिक आग सुलगती रहती है।'

गुजरात और महाराष्ट्र में पाया गया कि हिन्दू और मुसलमान दोनों ही, अपने घर-मकान अपने धर्म के लोगों को बेचने लगे। 

यह भी पाया गया कि इन इलाक़ों में आबादी घनी हो गई, घर मिलना मुश्किल हो गया, दूसरी सुविधाएं कम हो गईं, इसके बावजूद लोग वहीं रहना पसंद करने लगे।

ऐसे में लोगों के पास यह संकट खड़ा हुआ कि वे सुविधाओं से लैस बेहतर जगह रहें या अपने-अपने दड़बों में ही सिमिटे रहें, पर लोगों ने अपने इलाक़ों में ही रहना पसंद किया। दिल्ली में भी ऐसा ही कुछ होने से इनकार नहीं किया जा सकता है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें