loader
कर्नाटक के कोडगु में बजरंग दल का हथियार ट्रेनिंग कैंप

बजरंग दल के हथियार ट्रेनिंग मामले ने तूल पकड़ा, जांच शुरू

कर्नाटक के कोडगु में बजरंग दल के सदस्यों को हथियारों की ट्रेनिंग देने और हथियार बांटने का मामला तूल पकड़ गया है। इस मामले में पुलिस में शिकायत भी की गई है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मई ने कहा है कि वो राज्य में ऐसी किसी गतिविधि को नहीं होने देंगे जो कानून के खिलाफ है।सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) ने कोडागु जिले के बीजेपी विधायकों और एक शिक्षण संस्थान सहित कई लोगों के खिलाफ पुलिस में मंगलवार को शिकायत दर्ज कराई है, जिसमें आरोप लगाया गया है कि दक्षिण कोडागु के पोन्नमपेट में साईं शंकर शिक्षा संस्थान में हथियारों का प्रशिक्षण दिया गया था। यह प्रशिक्षण बजरंग दल की ओर से आयोजित किया गया था। पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) ने ऐसी ही शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

ताजा ख़बरें
पुलिस को दी गई शिकायतों में कहा गया है कि पोन्नमपेट शहर में साईं शंकर स्कूल के मैदान में आयोजित शिविर में एयर गन का इस्तेमाल किया गया था। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है और शिक्षा विभाग से रिपोर्ट मांगी है कि क्या इस तरह के आयोजन के लिए स्कूल के मैदान का इस्तेमाल किया जा सकता है।इस मुद्दे ने राज्य में एक विवाद को जन्म दिया है और इसके परिणामस्वरूप सत्तारूढ़ बीजेपी और विपक्षी दलों के बीच राजनीतिक तनातनी शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा है कि उनकी सरकार अवैध रूप से कुछ भी नहीं होने देगी।  
Arms training camp case of Bajrang Dal gained momentum, investigation started - Satya Hindi
को़डगु में बजरंग दल के ट्रेनिंग कैंप में बंदूक चलाना भी सिखाया गया
आरोपों का जवाब देते हुए, राष्ट्रीय महासचिव और बीजेपी विधायक सी.टी. रवि ने दावा किया कि बजरंग दल का ट्रेनिंग कैंप आत्मरक्षा पाठ्यक्रम का एक हिस्सा था। उन्हें एके-47 और बम इस्तेमाल करने का प्रशिक्षण नहीं दिया गया था। बजरंग दल हर साल अपने कार्यकर्ताओं को आत्मरक्षा के लिए प्रशिक्षित करता है।
श्रीराम सेना के संस्थापक प्रमोद मुतालिक ने भी शिविर का बचाव करते हुए कहा कि आत्मरक्षा के लिए प्रशिक्षण देने में कुछ भी गलत नहीं है। प्रशिक्षण शिविर 5 से 11 मई तक आयोजित किया गया था। ट्रेनिंग लेने वाले कार्यकर्ताओं ने 10 मई को पोन्नमपेट शहर में एक जुलूस में भाग लिया। बजरंग दल ने कहा कि इसने कानून और शस्त्र अधिनियम का उल्लंघन नहीं किया है। एयर गन और ट्राइडेंट एक्ट के दायरे में नहीं आते हैं। हालांकि, पुलिस ने कहा कि वे खुले में एयर गन के इस्तेमाल के मामले की जांच कर रहे हैं।

Arms training camp case of Bajrang Dal gained momentum, investigation started - Satya Hindi
हथियार चलाने की ट्रेनिंग लेने के बाद बजरंग दल के कुछ कार्यकर्ता काफी उत्साह में भी दिखे
कर्नाटक कांग्रेस ने मदिकेरी जिले के स्कूल परिसर में युवा छात्रों को हथियार प्रशिक्षण देने के लिए बजरंग दल के नेताओं की गिरफ्तारी की मांग की है। विपक्षी दल के नेता सिद्धारमैया ने कहा था कि युवकों को मदिकेरी में हथियार प्रशिक्षण देकर बजरंग दल ने हमारे देश के कानून को चुनौती दी है। क्या कर्नाटक में गृह मंत्री या शिक्षा मंत्री हैं? क्या सरकार अभी भी जीवित है? उन्होंने कहा कि विधायक एम.पी. अपाचु, के.जी. बोपैया और सुजा कुशलप्पा ने उस प्रशिक्षण में भाग लिया। क्या हमारे संविधान के प्रति उनकी कोई प्रतिबद्धता है?

उन्होंने मांग की कि शस्त्र प्रशिक्षण कानून के खिलाफ है और गृह मंत्री को बजरंग दल के नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज करना चाहिए और उन्हें गिरफ्तार करना चाहिए। बजरंग दल को अवैध गतिविधियों को आयोजित करने की अनुमति देने के लिए शिक्षा मंत्री बीसी नागेश को स्कूल अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।

  
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें