loader

मोदी के लेह अस्पताल दौरे पर सेना ने कहा, मोदी जहाँ गए, वह हॉस्पिटल का ही हिस्सा है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लेह स्थित सेना अस्पताल जाने और वहाँ गलवान घाटी में चीनियों के साथ झड़प में घायल सैनिकों से मुलाक़ात करने पर उठे विवाद पर सेना से सफ़ाई दी है। सेना ने कहा है कि प्रधानमंत्री सैनिकों को संबोधित करते हुए जहाँ देखे गए, वह जनरल अस्पताल का ही हिस्सा है और उसे फ़ौरी ज़रूरत के लिए एक ऑडियो वीडियो हॉल को 100 बिस्तरों वाले वार्ड में तब्दील कर तैयार किया गया था।  
देश से और खबरें
बेजीपी और नरेंद्र मोदी के जारी की गई तसवीरों पर विवाद खड़ा हो गया था।
सोशल मीडिया पर लोगों ने कहा कि यह अस्पताल का कोई वार्ड है ही नहीं क्योंकि वहाँ मेडिसिन कैबिनेट, आईवी फ्लुइड के स्टैंड या कोई दूसरा मेडिकल इक्विपमेंट नहीं दिख रहे हैं।

फोटो-ऑप?

इसके अलावा वहाँ दीवाल से लटकता हुआ एक प्रोजेक्टर भी देखा जा सकता है। लोगों का कहना है कि जिस तरह से बिस्तर और चमकती हुई दीवालें या फर्श हैं, उससे भी ऐसा नहीं लगता है कि यह अस्पताल का वार्ड है।

आलोचकों का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फोटो खिंचवाने और वीडियो बनाने के लिए तैयार किया हुआ यह नकली वार्ड है। 

किसी डॉक्टर रोशन आर ने ट्वीट कर कहा कि उन्हें याद नहीं आ रहा कि उन्होंने अपने जीवन में ऐसा कोई वार्ड देखा है जहाँ कहीं कोई मेडिकल इक्विपमेंट नहीं है। 

सोशल मीडिया पर एक दूसरे आदमी ने ट्वीट कर सवाल किया, ये सभी सैनिक प्रणायाम की मुद्रा में ही क्यों हैं। 

सेना की सफ़ाई

सेना ने इन आरोपों का ज़ोरदार खंडन करते हुए इसे 'दुष्टतापूर्ण' क़रार दिया है। सेना ने कहा है, जुलाई 3 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जनरल अस्पताल के दौरे के बारे में 'दुष्टतापूर्ण' और 'बेबुनियाद' आरोप लगाए जा रहे हैं।

सेना ने कहा, यह स्पष्ट किया जा रहा है कि यह जनरल अस्पताल का ही हिस्सा है और क्राइसिस एक्सपैन्सन के तहत 100 बिस्तर की फै़सिलिटी है। 

सेना ने यह भी कहा कि ऑडियो वीडियो ट्रेनिंग के हॉल को ही वार्ड में तब्दील कर दिया गया था। 

सेना ने यह भी कहा कि गलवान घाटी में घायल हुए बहादुर सैनिकों को कोरोना के लिए क्वरेन्टाइन किया गया था। सेना प्रमुख जनरल एम. एम. नरवणे ने भी इसी जगह आकर सैनिकों से मुलाक़ात की थी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें